भाजयुमो के पूर्व जिलाध्यक्ष मयंक का अचानक जागा “नीतीश-प्रेम”, जानिए क्यों

0
445

BJP से इन वजहों से हुआ मोहभंग, 18 को थामेंगे JDU का दामन

बोकारो ः बोकारो जिला भारतीय जनता युवा मोर्चा के पूर्व अध्यक्ष मयंक सिंह अब भाजपा छोड़कर जनता दल यूनाइटेड में शामिल होंगे। उन्होंने बताया कि आगामी 18 अक्टूबर को वे रांची में जदयू के प्रदेश अध्यक्ष खीरू महतो, प्रदेश प्रभारी प्रवीण सिंह एवं प्रदेश सह-प्रभारी भरत सिंह की उपस्थिति में जदयू में शामिल होने जा रहे हैं।

मयंक सिंह, पूर्व जिलाध्यक्ष, भाजयुमो, बोकारो।

झारखंड गया गर्त में और बिहार को मिली अच्छी छवि, इसलिए यहां भी मिले मौका

भाजपा से मोह-भंग होने का कारण पूछने पर मयंक ने कहा कि वर्ष 2000 में झारखंड अस्तित्व में आया और वर्ष 2005 में नीतीश कुमार जी बिहार की सरकार के मुखिया के तौर पर सामने आये। आज दोनों राज्यों को देखा जाय तो झारखंड आज तक गर्त में ही चला जा रहा है और नीतीश कुमार ने बिहार की एक अच्छी छवि बना दी है। जहां लोग जाना नहीं चाह रहे थे, आज वहां रहने के लिए लोग लालायित हैं, ऐसा बिहार बना दिया है। इसलिए झारखंड में भी नीतीश कुमार को एक मौका मिलना चाहिए। झारखंड को भी नीतीश कुमार ही सजा-संवार सकते हैं। झारखंड में हमने सभी पार्टियों को देख लिया।

‘आजकल दरबारी ही कहला रहे भाजपाई’

मयंक ने यह भी कहा कि बोकारो में भाजपा की स्थिति आज वही है, जो किसी खास नेता के यहां दरबार लगाये तो वही असली भाजपाई कहलायेगा। लेकिन, मैं उन लोगों में से नहीं हूं, जो किसी के यहां दरबार लगाये। पार्टी के जिला अध्यक्ष भरत यादव को भी उन्होंने कटघरे में खड़ा करते हुए कहा कि वे भी जिले में एक खास नेता के इशारे पर ही संगठन को चला रहे हैं। ऐसे में मेरे जैसे लोगों के लिए भाजपा में रहना कठिन है। श्री सिंह ने कहा कि इनके पहले जगरनाथ राम, विनोद महतो भी भाजपा के जिलाध्यक्ष रहे, लेकिन उन्होंने संगठन को मजबूत करने का काम किया। उन लोगों ने जो काम कर दिया और मेरे भाजयुमो के जिलाध्यक्ष रहते हुए जो संगठन के जो काम हुए, वह जिले के लोगों ने भी देखा है। जबकि, आज भाजपा यहां कुछ खास लोगों की जेब का संगठन बनकर रह गया है। उन्होंने कहा कि बोकारो में भाजपा में एक नई परिपाटी बना दी गई है और जिला अध्यक्ष जी भी किसी खास नेता के ही इशारे पर चलते हैं।

कहा- भाजपा से नहीं, पार्टी को पॉकेट संगठन बनानेवालों से है ऐतराज, इसलिए अब बीजेपी में रहना कठिन

उन्होंने कहा कि उनका विरोध भाजपा संगठन से नहीं है, बल्कि पार्टी को पॉकेट संगठन बनाकर चलने वाले नेताओं से है। इन परिस्थिति में भाजपा में काम करना मेरे लिए कठिन है। इन परिस्थितियों में हमने यही निर्णय किया है कि जदयू के सर्वमान्य नेता नीतीश कुमार जी के नेतृत्व में काम करें, ताकि जिस तरह आज बिहार का विकास हुआ है और पूरे देश में बिहार की जो छवि बनी है, वही छवि और वही स्थिति झारखंड की भी बने।

– Varnan Live Report.

Previous articleIntellectual Prostitution (Intellectitution) is rampant among liberal and secular Hindus
Next articleश्यामा माई मंदिर में काली पूजनोत्सव : भक्तिरस के साथ बही सुरसरिता
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply