श्यामा माई मंदिर में काली पूजनोत्सव : भक्तिरस के साथ बही सुरसरिता

0
353

संवाददाता
बोकारो : मैथिली कला मंच काली पूजा ट्रस्ट के तत्वावधान में आयोजित दोदिवसीय काली पूजनोत्सव का समापन शुक्रवार रात हो गया। नगर के सेक्टर- 2डी स्थित श्यामा माई मंदिर में आयोजित इस वार्षिक पूजनोत्सव के दौरान एक तरफ जहां मां काली की पूजा से आसपास का पूरा वातावरण भक्तिमय बना रहा, वहीं दूसरी ओर शहर के सुविख्यात कलाकारों की ओर से प्रस्तुत भक्तिपूर्ण सांस्कृतिक कार्यक्रम में गीत-संगीत की सुर सरिता बही। एक तरफ जहां ढाक ढोल और शहनाई की ध्वनि के साथ महाकाली के वैदिक मंत्र गुंजरित हो रहे थे, वहीं दूसरी ओर मैया की भक्ति के भजन गूंजते रहे। इसमें बड़ी संख्या में श्रद्धालुओं ने भाग लेकर कार्यक्रम का आनंद उठाया। पूजनोत्सव की शुरुआत पार्थिव शिवलिंग पूजन, हनुमत ध्वजदान व वेद पाठ से हुई। इसके साथ ही कुमारि-बटुक भोजन, हवन आरती सहित अन्य कार्यक्रम हुए। गुरुवार रात्रि शुरू हुआ मां काली का पूजन शुक्रवार को दूसरे दिन भी जारी रहा।

शुक्रवार प्रातः उषाकाल में महाआरती एवं महाभोग का वितरण किया गया। फिर मां काली का पूजन एवं अपराह्न बेला में कुमारि-बटुक भोजन के बाद संध्या में हवन व महाप्रसाद वितरण हुए। आयोजन की सफलता में केसी झा, सुनील मोहन ठाकुर, मिहिर कुमार झा, अविनाश झा, चंचल झा, शैलेंद्र मिश्र, सोनू, शिवशंकर झा, यूसी झा, विवेकानंद झा, कमलेश मिश्र, विजय कुमार मिश्र अंजू, मिहिर मोहन ठाकुर, गंगेश पाठक, राधेश्याम झा बाऊ, गोविंद झा, गौरीशंकर झा, बहुरन झा, चंदन झा, प्रदीप झा, सुनील चौधरी, राजनंदन ठाकुर, भृगुनंदन ठाकुर, सुदीप ठाकुर, कन्हैया, रवीन्द्र झा, सुभद्र चौधरी, मिंटू, ललित झा, हीरा आदि की अहम भूमिका रही।

वर्ष 1984 में हुई थी पूजा की शुरुआत
श्यामा माई मंदिर में वर्ष 1984 में काली पूजनोत्सव की शुरुआत हुई थी। इसकी  परिकल्पना बुद्धिनाथ झा व उनके मित्र दुर्गा चरण झा ‘दुर्धर्ष’ की थी। नेतृत्व बुद्धिनाथ झा ने किया। शुरुआत में स्व. अमरेन्द्र मिश्र पूजा करानेवाले और स्व. ब्रह्मानंद झा ( झपटू बाबू) पूजनकर्ता थे। बुद्धिनाथ झा के अनुसार आरंभ से लेकर उनदोनों के मृत्यु पर्यन्त यही क्रम रहा। इसके बाद राधेश्याम झा (बाऊ) पुजारी नियुक्त हुए अमरनाथ मिश्र, देवेन्द्र झा, अमरनाथ मिश्र, लक्ष्मऩ मिश्र, डॉ. जयानंद मिश्र, शंकर झा, महेशानंद झा, विनोद झा आदि का भी इसमें अहम योगदान रहा है। 

आहे शरद सुहासिनी जय अम्बे…

अरुण पाठक व अन्य कलाकारों ने रातभर बांधा समां
श्यामा माई मंदिर में काली पूजनोत्सव के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रम में शहर के सुविख्यात कलाकार अरुण पाठक सहित अन्य कलाकारों ने रातभर अपने भजनों से समां बांधे रखा। शुरुआत अरुण ने गोसाउनिक गीत ‘जय-जय भैरवि…’ से की। इसके बाद उन्होंने ‘अपन मिथिला के गाथा हम सुनू एखने सुनाबै छी…’, ‘आहे शरद सुहासिनी जय अंबे..’, ‘माधव कते तोर करब बड़ाई…’, राम लखन सन पाहुन जिनकर…’, ‘ज्योत से ज्योत जगाते चलो…’ गीत गाए। अमर जी सिन्हा ने राग मालकोश में ‘जय जगदम्बिके…’, ‘अम्बे चरण कमल हैं तेरे…’, ‘ऐसा प्यार बहा दे मैया…’, प्रमोद कुमार ने ‘शंकर तेरी जटा से बहती है गंग धारा…’, ‘जेहने किशोरी मोरी तेहने किशोर हे…’ आदि, साधना चौधरी ने ‘सुनू मां जगजननी शरण हम आबि बैसल छी…’ भजनों की प्रस्तुति कर भरपूर सराहना बटोरी। वहीं वरिष्ठ संगीतज्ञ पं. बच्चन महाराज ने राग भैरवी में भवानी दयानी… की मनभावन प्रस्तुति से सबको मोहित कर दिया। कीबोर्ड पर राजेंद्र कुमार, ढोलक पर राकेश कुमार सिंह और आक्टोपैड पर मनोज कुमार ने संगत की। दूसरे दिन शुक्रवार को अरुण पाठक और रंजना राय ने भजन सुनाए। इस दौरान मंदिर परिसर में स्व. पं. अमरेंद्र मिश्र सभागार का अनावरण भी किया गया।

– Varnan Live Report.

Previous articleभाजयुमो के पूर्व जिलाध्यक्ष मयंक का अचानक जागा “नीतीश-प्रेम”, जानिए क्यों
Next articleSaffron Signifies Renunciation
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply