बोकारो में चिर-परिचित उत्साह संग शुरू हुआ विद्यापति स्मृति पर्व

0
441

बाहर से आमंत्रित कलाकारों ने मैथिली गीतों से बांधा समां

अपनी परंपरा और संस्कृति से जुड़ाव बनाए रखें : अमरेंदु प्रकाश

बोकारो: बोकारो की प्रतिष्ठित सामाजिक व सांस्कृतिक संस्था मिथिला सांस्कृतिक परिषद् का मुख्य वार्षिक उत्सव 35 वां दो दिवसीय विद्यापति स्मृति पर्व समारोह का भव्य आयोजन शनिवार को प्रारंभ हुआ। समारोह के मुख्य अतिथि बीएसएल के निदेशक प्रभारी अमरेन्दु प्रकाश, उद्घाटनकर्ता बोकारो विधायक बिरंची नारायण, विशिष्ट अतिथि बोकारो के एसपी चंदन झा, बीपीएससीएल के सीईओ कुमुद कुमार ठाकुर ने दीप प्रज्ज्वलित कर व महाकवि विद्यापति की तस्वीर पर माल्यार्पण कर किया। परिषद् के उपाध्यक्ष अनिमेष कुमार झा ने स्वागत भाषण तथा महासचिव अविनाश कुमार झा ने वार्षिक प्रतिवेदन प्रस्तुत किया। एसपी चंदन झा ने परिषद् के गतिविधियों की सराहना की और महाकवि विद्यापति को मिथिला की संस्कृति का धरोहर बताया। विधायक बिरंची नारायण ने अपने संबोधन में आयोजन को प्रशंसनीय बताया।

मुख्य अतिथि बीएसएल के निदेशक प्रभारी अमरेन्दु प्रकाश ने अपने संबोधन में मिथिला की संस्कृति को अनुपम बताते हुए महाकवि विद्यापति को देश का सांस्कृतिक गौरव बताया। उन्होंने बोकारो को विभिन्न भाषा भाषियों का विशिष्ट नगर बताया और कहा कि आपसी मेल जोल को बढ़ावा देने के लिए सांस्कृतिक गतिविधियां जरूरी हैं। अपनी परंपरा और संस्कृति से जुड़ाव जरूरी है। निदेशक प्रभारी ने कहा कि बोकारो को देश का सबसे प्रमुख पांच शहरों में शामिल करने हेतु वह प्रयास करेंगे। उद्घाटन सत्र का मंच संचालन शिक्षिका पूनम झा व धन्यवाद ज्ञापन परिषद् के उपाध्यक्ष राजेन्द्र कुमार ने किया।

उद्घाटन सत्र के बाद सांस्कृतिक कार्यक्रम निदेशक शंभु झा ने सांस्कृतिक कार्यक्रम की रूपरेखा पर प्रकाश डाला। गुनगुन मजूमदार ने महाकवि विद्यापति रचित भगवती वंदना पर भावनृत्य की मनोहारी प्रस्तुति की। बाहर से आमंत्रित कलाकारों अशोक चंचल, माधव राय, जूली झा, ज्योति मिश्रा व अरुण पाठक ने मैथिली गीतों की सुमधुर प्रस्तुतियों से श्रोताओं को घंटों बांधे रखा। मंच संचालन रामसेवक ठाकुर ने किया। समारोह के दूसरे दिन रविवार की शाम 7 बजे से संक्षिप्त सांस्कृतिक कार्यक्रम के बाद मैथिली नाटक ‘लौंगिया मिरचाई’ का मंचन होगा। कार्यक्रम में मिथिला महिला समिति की अध्यक्ष किरण मिश्रा, साहित्यकार बुद्धिनाथ झा, उदय कुमार झा, गणेश चन्द्र झा, हरि मोहन झा, प्रदीप झा, सुनील चौधरी, अविनाश अवि, रबिन्द्र झा आदि उपस्थित थे।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.