घोटाले पर घोटाला… उद्योग सचिव रहते हुए भी पूजा सिंघल ने करोड़ों रुपए डकारे

0
191

लाइसेंस रिन्युअल के लिए मांगे 40 लाख, ED और DRI के पास पहुंची Call Recording

मुख्य सचिव सुखदेव सिंह बोले- बोकारो के बियाडा से उगाही मामले में होगी जांच

शशांक शेखर

बोकारो/रांची/पटना : अब तक खान सचिव के रूप में अरबों रुपए के घोटाले में शामिल पूजा सिंघल की कारगुजारियों के खुलासे के बाद अब उन पर उद्योग सचिव पद के घोर दुरुपयोग का भी मामला सामने आया है। झारखंड सरकार के उद्योग सचिव के रूप में भी उन्होंने घोटाले किए और करोड़ों रुपए डकार लिए। इस भ्रष्टाचार की भी परत दर परत अब खुलती जा रही है। इसका ताजा उदाहरण बोकारो का बियाडा है, जहां सचिव (उद्योग) ने प्रबंध निदेशक के रूप में 70 से ज्यादा उद्योगों के लाइसेंस रद्द कर दिए। बाद में व्यक्तिगत तौर पर कंपनियों से फोन से संपर्क किया और जिन कंपनियों ने चढ़ावा दिया, उनके लाइसेंस का नवीकरण कर दिया गया। इस संबंध में कई अधिकारियों की भूमिका संदिग्ध है। जिन कंपनियों से संपर्क किया गया, उनमें से कई के साथ फोन की रिकॉर्डिंग ईडी (प्रवर्तन निदेशालय) और डीआरआई (डायरेक्टरेट ऑफ रेवेन्यू इंटेलिजेंस) तक पहुंच चुकी है।
इस संवाददाता से बातचीत में डीजीपी रैंक के एक अधिकारी ने कहा कि बियाडा में बीएमडब्ल्यू नामक कंपनी से पैसे की लेन-देन की मांग की रिकॉर्डिंग मौजूद है। कंपनी का लाइसेंस नवीकरण करने के एवज में 40 लाख रुपए की मांग की गई थी। इसके बाद कंपनी की ओर से हाईकोर्ट में अपील कर दी गई। इसी प्रकार, कई ऐसे उद्योग हैं, जिन्होंने चढ़ावा नहीं दिया, तो उनके लाइसेंस अब तक अधर में लटके हैं। यह कहीं न कहीं बोकारो के औद्योगिक विकास के साथ खिलवाड़ है।
अफसरों की मिलीभगत से बोकारो औद्योगिक विकास क्षेत्र प्राधिकार (बियाडा), बोकारो से करोड़ों रुपए की उगाही हुई है। यही नहीं, रीजनल डायरेक्टर (जियाडा) का पद अपने चहेते अधिकारी को दे दिया गया, जो पूर्व में अधिकांश तौर पर डीसी को ही मिलता था। हाल में तत्कालीन डीसी राजेश सिंह के समय तक यह पद उनके पास ही था। वर्तमान में बोकारो डीसी को बियाडा/जियाडा में किसी भी दायित्व से दूर रखते हुए मनमाने तरीके से लाइसेंस के नाम पर घोटाले का खेल खेला गया। जाहिर है, इसमें कहीं न कहीं भ्रष्टाचार की बू आती है।

गहनता से जांच हुई, तो पूरे राज्य में होगा खुलासा

बहरहाल, यह तो थी केवल बोकारो की बात। जानकार बताते हैं कि बोकारो के साथ-साथ रांची, जमशेदपुर, हजारीबाग तथा संथाल परगना में भी भ्रष्टाचार का यह खेल खेला गया। इसकी अगर गहनता से जांच कराई जाय, तो पूरे राज्य में पूजा सिंघल के उद्योग सचिव रहते अरबों के घोटाले सामने आ सकते हैं। इस संबंध में एक विशेष फाइल डीआरआई और ईडी ने अपने अधीन कर ली है। फोन पर वार्तालाप का पूरा विवरण इकट्ठा किया गया है।

– Varnan Live Report.

Get FREE E-paper in pdf on varnanlive.vom/e-paper

Previous articleस्वयं का सम्मान करनेवाले को संसार में सर्वत्र मिलता है सम्मान : गुरुदेव श्रीमाली
Next articleहराभरा और प्रदूषणमुक्त धरती बनाने को आगे आएं : गंगवार
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply