‘Bodhi Tree Dialogues 2022’ : राष्ट्रीय संवाद प्रतियोगिता में DPS बोकारो को मिला प्रथम स्थान

0
108

डॉ. अंबेडकर की जीवनी पर अंग्रेजी एकांकी के सफल मंचन के लिए मिला पुरस्कार

बोकारो : दिल्ली पब्लिक स्कूल बोकारो के विद्यार्थियों ने शिक्षा के साथ-साथ अन्य क्षेत्रों में भी एक बार फिर अपनी प्रतिभा का लोहा राष्ट्रीय स्तर पर मनवाया है। दिल्ली पब्लिक स्कूल, गया (बिहार) की मेजबानी में आयोजित राष्ट्रस्तरीय संवाद प्रतियोगिता – ‘बोधी ट्री डायलॉग्स 2022’ में इस विद्यालय की टीम ने पहला स्थान प्राप्त किया है। टीम ने प्रतियोगिता की अंग्रेजी एकांकी (इंग्लिश ड्रामाटिक्स) स्पर्धा में पूरे देश में पहला स्थान हासिल किया। प्रतियोगिता में 9 राज्यों से कुल 16 विद्यालयों की टीमों ने वर्चुअल मोड में भाग लिया था।
डीपीएस बोकारो के विद्यार्थियों ने संविधान निर्माता डॉ. भीमराव अंबेडकर की जीवनी पर आधारित एकांकी प्रस्तुत कर अपने अभिनय कौशल से सबकी भरपूर सराहना बटोरी। टीम में शामिल 12वीं कक्षा के सार्थक श्रेष्ठ, अनुष्का सिंह, अनुराग कुमार और विक्रमादित्य राय ने शानदार अभिनय का परिचय दिया। उन्होंने डॉ. अंबेडकर द्वारा सामाजिक कुरीतियों को दूर करने की दिशा में उनके अतुलनीय योगदान और समाज में समरसता की स्थापना के साथ-साथ संविधान-निर्माण में उनकी भूमिका पर जीवंत प्रदर्शन किया। प्रतियोगिता में दूसरे स्थान पर सनबीम स्कूल वरुणा (वाराणसी, उ.प्र.) की टीम रही, जबकि माउंट लिटेरा जी स्कूल, अमृतसर एवं बीके बिरला पब्लिक स्कूल, कल्याण (महाराष्ट्र) ने संयुक्त रूप से तीसरा स्थान प्राप्त किया।
गुरुवार को डीपीएस बोकारो में आयोजित एक विशेष असेंबली के दौरान प्राचार्य ए. एस. गंगवार ने विजेता टीम में शामिल अपने विद्यालय के विद्यार्थियो को पुरस्कृत कर उनका उत्साहवर्धन किया। उन्होंने कहा कि विद्यार्थियों में कलात्मक प्रतिभा का विकास भी आवश्यक है और इस दिशा में भी डीपीएस बोकारो सतत प्रयासरत है।

– Varnan Live Report.

Previous articleUCC (Uniform Curriculum for all Children) before UCC (Uniform Civil Code)
Next articleसफलता के लिए समय प्रबंधन और दृढ़निश्चय के साथ कड़ी मेहनत जरूरी : शाश्वत
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply