DPS Bokaro के प्राचार्य गंगवार ने फिर बढ़ाया झारखंड का मान, अब बैंकॉक में मिला अंतरराष्ट्रीय सम्मान

0
33

श्रीलंका और मॉरीशस के बाद थाईलैंड में नवाजे गए, मिला Exemplary Leader of the Year अवार्ड

डॉक्टरेट की मानद उपाधि भी प्रदान की गई

बोकारो। दिल्ली पब्लिक स्कूल (डीपीएस) बोकारो के प्राचार्य ए. एस. गंगवार ने श्रीलंका और मॉरीशस के बाद एक बार फिर अंतरराष्ट्रीय फलक पर इस्पातनगरी बोकारो और झारखंड का मान बढ़ाया है। विद्यालय में शिक्षा के क्षेत्र में डिजिटलीकरण, नवोन्मेषता और शिक्षकों में नेतृत्व-क्षमता के विकास के लिए उन्हें अनुकरणीय नेतृत्वकर्ता के सम्मान से नवाजा गया है। थाईलैंड की राजधानी बैंकॉक में आयोजित एशिया पैसिफिक एजुकेशन समिट एंड अवार्ड्स 2022 के दौरान मुख्य अतिथि के रूप में उपस्थित प्रसिद्ध बॉलीवुड अभिनेत्री अमीषा पटेल ने श्री गंगवार को ‘एक्जम्पलरी लीडर आफ द ईयर 2022 अवार्ड’ सुपुर्द किया। श्री गंगवार यह अंतरराष्ट्रीय उपलब्धि प्राप्त करनेवाले झारखंड से एकमात्र प्राचार्य थे। ध्यातव्य है कि डीपीएस बोकारो से अबतक लगभग 50 शिक्षक प्राचार्य के रूप में नेतृत्वकर्ता बनकर उभर चुके हैं। वहीं, विद्यालय में ई-लाइब्रेरी, लैंग्वेज लैब, कंप्यूटर लैब, प्रत्येक कक्षा में स्मार्ट बोर्ड सहित डिजिटलीकरण आधारित अन्य उच्च तकनीकी संसाधनों की व्यवस्था के साथ-साथ नवाचार में वर्चुअल रियलिटी लैब, कॉमर्स लैब के अलावा बच्चों में सामुदायिक सेवा की भावना विकसित करने के भी नवोन्मेषी प्रयास लगातार किए जा रहे हैं।
   बैंकाक के प्रातुनम बर्कले होटल में ग्लोबल ह्यूमन राइट्स काउंसिल, सीईडी (सेंटर फॉर एजुकेशनल डेवलपमेंट फाउंडेशन), एशिया पैसिफिक चैंबर आफ कॉमर्स और एशिया-अफ्रीका डेवलपमेंट काउंसिल की ओर से आयोजित उक्त शैक्षणिक शिखर सम्मेलन के दौरान श्री गंगवार को डॉक्टरेट की मानद उपाधि से भी नवाजा गया। शिक्षा के क्षेत्र में विगत तीन दशक से भी अधिक समय तक उनके उल्लेखनीय अवदान के लिए यह अंतरराष्ट्रीय सम्मान प्रदान किया गया।

प्राचार्य के थाईलैंड से बोकारो लौटने पर मंगलवार को विद्यालय में आयोजित एक विशेष असेंबली के दौरान उनकी इन उपलब्धियों की घोषणा की गई। प्राचार्य ने यह सम्मान पूरे विद्यालय परिवार को समर्पित करते हुए कहा कि यह सभी के समेकित सहयोग का ही परिणाम है। विद्यार्थियों के समग्र विकास की दिशा में डीपीएस बोकारो परिवार का प्रयास अनवरत जारी रहेगा। उल्लेखनीय है कि हाल ही में श्री गंगवार को अंतरराष्ट्रीय स्तर पर मॉरीशस में ‘एक्सीलेंस इन एजुकेशन अवार्ड 2022’ से सम्मानित किया गया। इसके पूर्व श्रीलंका में उन्होंने डीपीएस बोकारो की ओर से इंटरनेशनल एजुकेशन एक्सीलेंट अवार्ड भी प्राप्त किया था। उक्त विशेष एसेंबली के दौरान बच्चों ने क्रिसमस और नववर्ष के उपलक्ष्य में सांस्कृतिक कार्यक्रम भी प्रस्तुत किए।

-Varnan Live Report.

Previous articleचिन्मय क्रीड़ोत्सव में छात्र-छात्राओं ने दिखाए दमखम, 468 अंकों के साथ वायु सदन रहा विजयी
Next articleरंग ला रही बोकारो प्रेस क्लब की पहल, भवन निर्माण के लिए डीसी ने कराई मापी
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply