लोहरदगा में सुरक्षाबल के साथ मुठभेड़, 5 लाख के ईनामी दो नक्सलियों को लगी गोली, पकड़े गए

0
92

दोनों ओर से फायरिंग, एक के मारे जाने की खबर

देवेन्द्र शर्मा
रांची : पिछले कुछ समय से झारखंड पुलिस और सीआरपीएफ के सयुंक्त अभियान का असर नक्सली पर भारी पडता जा रहा है। गुरुवार तड़के नक्सलियों के खिलाफ अभियान में लोहरदगा पुलिस को बड़ी सफलता मिली है। लोहरदगा पुलिस का भाकपा माओवादी नक्सली संगठन के रविंद्र गंझू के दस्ते के साथ गुरुवार सबेरे सीधा आमना सामना हो गया। नक्सलियों के साथ हुई मुठभेड़ की घटना में पुलिस ने पांच लाख के इनामी दो नक्सलियों को धर दबोचा है। इनके पास से ढेर सारे हथियार भी बरामद किये गए हैं। पकड़े गए दो नक्सलियों में एक नक्सली को गोली भी लगी है। पुलिस ने किसी नक्सली के मरने की पुष्टि नही की है, पर लोगो ने कहा है कि एक नक्सली पुलिस की गोली से मरा है। पुलिस की टीम को गुप्त सूचना पर यह सफलता मिली है। लंबे समय के बाद लोहरदगा में नक्सलियों के खिलाफ अभियान में पुलिस को इतनी बड़ी सफलता मिली है।

लोहरदगा में पिछले दिनों 15 लाख ईनामी माओवादी कमांडर अमन गंझू ने पुलिस के समक्ष आत्मसमर्पण किया था। अभियान की तेजी के कारण और सुरक्षाबलों की सक्रियता से भागते फिर रहे नक्सली ने आत्मसमर्पण का रास्ता चुनना आरम्भ कर दिया है। नक्‍सलियों के खिलाफ चलाये जा रहे अभियान में सुरक्षाबलों के साथ गुरुवार अहले सुबह नक्सलियों का आमना सामना हुआ। दोनों ओर से जमकर फायरिंग हुई। नक्सली टोली की संख्या कम थी। पुलिस और सीआरपीएफ ने उन्हें पहले जिन्दा पकड़ने की योजना बनाई, परन्तु नक्सलियों ने बिखरकर पीछे भागना आरम्भ कर दिया।

रिपोर्ट के अनुसार एक नक्सली मुठभेड में मारा गया है और दो को पुलिस ने घायलावस्था में पकड़ा। पुलिस ने जिन्हें पकड़ा है, उन दोनों नक्सलियों पर पांच लाख का ईनाम धारित है। पकड़े गए नक्सलियों में एक चंद्रभान पाहन और दूसरा गोविंद बिरिजिया शामिल हैं। पकड़े गए दोनों नक्सली भाकपा माओवादी संगठन के सब जोनल कमांडर हैं। सीआरपीएफ 158 बटालियन और पुलिस की संयुक्त कार्रवाई में लोहरदगा पुलिस को यह सफलता मिली है। नक्‍सली कांडों में जेल की हवा खा चुके रामचंद्र गांव के सबसे बड़े किसान बताये जाते हैं। जैसा कि बताया गया है।अभियान में पुलिस ने दो नक्‍सलियों को धर दबोचा है।

गुप्त सूचना पर पुलिस ने अहले सुबह 3:00 बजे नक्सलियों के खिलाफ अभियान शुरू किया था, जिसके बाद कोरगो के जंगल में पुलिस का सामना नक्सलियों की टीम से अहले सुबह के 6:30 हो गया, जिसमें पुलिस ने दो नक्सलियों को धर दबोचा। इसी में एक मारा गया और दो नक्सली को गोली भी लगी है। पुलिस और सुरक्षा बलों की टीम ने अभी भी अभियान को जारी रखा है। पुलिस से बचकर भागने में 1 करोड़ के इनामी नक्सलियों में मिसिर बेसरा व अनल भी बताए जा रहे हैं, जिन्हें पकड़ने के लिए पुलिस टोंटो के जंगलों में घुसी है। 400 जवानों द्वारा इन्‍हें ढूंढ़ना चुनौती है। क्योंकि जंगल घने होने के साथ साथ पठारी भी है। रांची से भी विशेष टीम जा रही है। प्रदेश के पुलिस महानिदेशक घटना पर लगातार जिले के कप्तान से सम्पर्क में हैं।

– Varnan Live Report.

Previous articleगढ़वा में आदमखोर तेंदुए ने फिर एक बच्चे को अपना शिकार बनाया, अब तक 4 मासूमों और कई मवेशियों को लीला
Next articleवसुंधरा परिवार के नववर्ष मिलन समारोह में बच्चों ने बिखेरी प्रतिभा
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply