Home Blog

PM had a clear message about the national Heroes

0

Any one listening to the national address by PM Modi will clearly see the message he is trying to convey to the countrymen about the national heroes. He is clearly giving the message that the dominance of Nehru and Congress in the entire freedom struggle discourse has changed and he is going to accord appropriate place to each and everyone from every corner of the country.

His reverence started with Mahatma Gandhi Netaji Bose, Ambedkar and Savarkar as the first line of people to be mentioned. After that he went back in history to remember people like Mangal Pandey, Tatya Tope to Bhagat Singh, Asfaqullah khan and Ramprasad Bismil. He moved to mention the women freedom fighter and then came to mention the makers of post independence India starting from Dr Rajendra Prasad and Nehru and Patel. His choice of order is brilliantly thought through – no deifying anyone and not ignoring anyone.

In the Amrit Mahotsav, it is also important that the historical mis-alignments are corrected.

Narrative warfare against Sanatan is similar to horse riding, temple rager invaders

The war on Sanatan which started thousand years ago is going on. This is the only un-finished agenda for entire Abrahamic faith.

It started with horse riding barbarians travelling through the deserts and the cold mountains entering this land to loot, plunder, ravage temples, kill people and rape and enslave women. It also continued with medieval Europeans travelling in boats and crossing the rough seas in their pre-historic boats.

The world has benefitted over thousand years from the riches of Indian civilization. The entire pomp and show of Khalifa of Bhaghdad was funded by Indian money. Entire industrial revolution in Europe was funded by revenue from Indian artisans, traders, farmers and technicians. Still the same Abhrahamic world has been out to destroy the Sanatan traditions and philosophy.

In order to completely destroy this civilization, the modern warfare is the warfare of narrative. over last 75 years they have been able to break the foundation of the sanatan world. They have infiltrated the very foundation of this civilization – The knowledge base. They have corrupted the knowledge assets, mis-guided the learned men and created a large section of its people who are anti-sanatan. They have been able to infiltrate deep within and create a large section of anti-sanatani group within the sanatani community. All of this has been successful through the war of narrative, falsification of ancient history and ancient knowledge. Hindus have stopped reading their traditional texts and knowledge at the behest of the same modernist who spend frequent and regular visit to their churches and madarsas and masjids. They profess secularism to the world, however they themselves gyrate their lives around Bible or Qoran.

99% of Hindus do not even read one of their religious books and say they are secular. 100% of Muslim reads Qoran and offers Namaz and says they are not secular every day five times a day.

This war of narratives is the new war and Sanatanis need to come together to fight it otherwise time is ticking before they will be wiped out completely.

Economic Boycott will break Muslim community – Is Hindu ready to welcome them

Over last few months, the increasing tension between Hindus and Muslims over multiple issues seem to have lead to an economic war between the two communities with both the slides calling for an economic boycott of the other sides. There have been several call outs for such boycott by Ajmer Dargah and other Islamic Mullah community. On the other hand, there are several reports suggesting that Hindus have stopped going to the Dargah which constituted about 80% drop in the sales.

Difficult to even guess what could be key drivers for Muslim groups to get in to a competitive scenario against Hindus in terms of economic strength. Hindus are more in numbers and have multiple times more economic prowess. The only reason I can think of is their desire to create strong Muslim polarization against the current dispensation. This has been their standard strategy which has, of late, been failing them. This strategy worked very well till 2010 where they were able to use any pretext like Ayodhya, Godhra, Haj Subsidy etc to create that polarization in support of their political agenda. Times have changed, and every time there is Muslim polarization, the reverse polarization is even stronger.

There are few factors which I think is leading to such reactions

Muslim community is static and ossified in time while Hindu Society is constantly evolving and modernizing

Unsuspecting Ummah, Commanding Mullah, network of Masjid, Asraf and elite Marxist and power licking Media have been the five pillars of Muslim world ever since India got independence. Nehru was the harbinger of this five pillared eco-system and this eco system has been so much oiled and lubricated that any amount of friction and stress to it did not do this any harm. The challenge is that this also lead to the large section of Pasmanda Muslim (who are 80% of the Muslim population) remain in medieval ages with no avenues for social and economic emancipation.

Hindu society, however got on to modernizing itself with continuously increasing levels of education and breaking different social stigmas like caste system, illiteracy, child marriage, dowry etc. Hindu society has been characterized by modernity, literacy, education and scholarship, entrepreneurship and independence. In the process they have also learnt to assert themselves as a group. This process also has lead to Hindus realizing the severity of historical wrongs that have been done at the cost of Muslim Minority.

The above scenario is only going to increase the conflict because the Muslim group is such an organized eco-system that they are not going to let their power so easily. Hindus are not going to let this go any more because this is just the start of resurgence. The current resurgence is an outcome of only small segment of Hindu population that is standing up. Hindu society resurgence is impacted by a big section of Hindu population still living in socialist euphoria. As the time passes, more and more Hindus will come out of that euphoria and more and more Hindus of new generation will realize the historical wrongs and they will be more and more assertive.

Economic Boycott is going to destroy Muslim community

This is the start of end of Muslim Ummah. Pasmanda Muslims will be the hardest hit in this economic boycott because they are the ones at the lowest end of the economic pyramid. Asraf Muslims are the ones creating the agenda, while the Pasmanda Muslims are the ones who will be the hardest hit. Times have changed and Pasmanda Muslims are increasingly loosing the love for ummah and Islam. It is going to increase the distrust with the Mullah and dependence on Masjid. The Elite Media is anyway loosing their grip with the social media proliferation.

Is Hindu society ready to welcome Pasmanda Muslims

Big question is to Hindu society – is it ready to welcome those whose fore-fathers had to accept Islam for whatever reasons they may have. Is this society ready to create a respectable space for them in the society? I leave this question un-answered

  1. https://tfipost.com/2022/07/the-message-for-hindus-from-ajmer-dargah-is-loud-and-clear/
  2. https://www.news18.com/news/india/eid-celebrations-at-ajmer-dargah-hit-after-provocative-slogans-by-khadims-sellers-complain-of-loss-of-crores-5526079.html
  3. https://www.newsbharati.com/Encyc/2022/7/9/Ajmer-Dargah-Khadim-calls-for-economic-boycott-of-Hindus.html
  4. https://www.thejaipurdialogues.com/indic-corner/islam/caste-division-in-islam/

बांका के Cyber Criminal Gang ने उड़ाए थे चास BDO के 10 लाख रुपए, हुए गिरफ्तार

संवाददाता
बोकारो। चास बीडीओ संजय शांडिल्य के बैंक खाते से 10 लाख रुपए गायब करने वाले साइबर अपराधियों के गिरोह का उद्भेदन सेक्टर-4 पुलिस ने किया है। गिरोह के दो सरगना बिहार के बांका जिले के चांदन थाना इलाके के रहने वाले हैं। गिरफ्तार राजा मुराद और आफताब आलम भी चांदन गांव के रहने वाले हैं। पुलिस ने गुरुवार की अहले सुबह बांका पुलिस की मदद से इन दाेनाें काे घर से पकड़ा। जबकि इस गिरोह के अन्य सदस्य छापेमारी की सूचना मिलने के बाद इलाके से भाग निकले। दोनों अपराधियों को पुलिस बांका से पकड़कर बोकारो ले आई है, उनसे पुलिस पूरे मामले को लेकर पूछताछ कर रही है। बीडीओ के अकाउंट से उड़ाए गए रुपए का बंटवारा गिरोह के सभी सदस्यों ने आपस में कर लिया था। इस मामले में पुलिस को कई अन्य जानकारियां भी हाथ लगी हैं।
ठगी के रुपए से खरीदे तनिष्क के गहने
बीडीओ के अकांउट से उड़ाए गए 10 लाख रुपए में से छह लाख रुपए के आभूषण की खरीदारी अपराधी आफताब आलम ने लखनऊ के तनिष्क ज्वेलर्स से की थी। पुलिस को आफताब के मोबाइल से इसकी डिटेल हाथ लगी है। क्योंकि उसी मोबाइल से जुड़े बैंक अकाउंट से उनलोगों ने तनिष्क को पेमेंट भी किया था। इस कांड में पकड़े गये राजा मुराद के सीम का उपयोग इनलाेगांंे ने किया था। इसलिए पहले पुलिस के हाथ राजा मुराद चढ़ा। उसके बाद एक-एक कर सभी के नाम सामने आते गए।
खाता बंद होने के झांसे में आ गए थे साहब
साइबर अपराधियों ने ओयो एप से चास बीडीओ से संजय शांडिल्य से ठगी की थी। साइबर अपराधियों ने बैंक अधिकारी बन जनवरी के प्रथम सप्ताह में फोन किया और कहा कि उनका बैंक अकाउंट बंद होने वाला है। इसलिए ओयो एप डाउनलोड कर उसे भरें। उसके बाद अकाउंट काम करने लगेगा। बीडीओ ने चार दिनों में ओयो एप को डाउनलोड कर भर डाला। उसके बाद ही उनके अकाउंट से दस लाख गायब हो गए। सेक्टर-4 थाना प्रभारी विनोद कुमार ने बताया कि प्राथमिकी दर्ज होने के बाद एसपी के निर्देश पर गठित टीम ने अनुसंधान शुरू किया। उसके बाद इनकी गिरफ्तारी हुई। टीम में पुलिस अवर निरीक्षकअनूप कुमार सिंह और रामाकांत गुप्ता थे।

In support of literaryTahzeeb and defending Azam Khan

0

While watching anti Azam Khan (@azamkhanMP)  programs in different TV channels (www.timesnow.tv), I was tempted to watch the actual proceedings of the house and hear the entire episode verbatim. When I did that, I was filled with empathy and sympathy for Azam Khan.

The fellow is getting beaten up for his past rather than what he did in the parliament on Wednesday.

The incident was very simple. Azam khan was replying to a shayari from Mukhtar Abbas Naqvi ( not relevant) through a shayari “तू इधर उधर की न बात कर, ये बता की काफिला क्यों लुटा“.  Hon’ble chair, Rama devi told him jokingly (she could have said this in an authoritative ways also, but she chose it to make it fun) “आप भी इधर देख कर बात कीजिये, उधर मत देखिये”, and she laughed also. The video shows Ravishankar Prasad also smiling and enjoyed the pun. To this Azam khan said, “  “मैं तो आपको इतना देखूं की आप कहें की नज़र हटा लो”. Hon’ble Chair said, ” नहीं नहीं, नज़र हटाना नहीं, मैं…. मेरे तरफ देख कर बात कीजिए “. Still all laughing and smiling. And in continuation Azam khan said, “ अध्यक्ष महोदया,   मुझे तो आप यों भी इतनी अच्छी लगती हैं, इतनी प्यारी लगती हैं की मैं आपकी आँखों में आंखें डाले रहूं ये मेरा मन करता है”. To the above, some treasury bench side people started making noise and Rama Devi also became conscious and said, “ ये बात करने का तरीका नहीं है , ” and pointed to expunge the statement.

If you read the entire conversation, it is a plain light hearted conversation and at least I do not find anything sexiest word or sentence of phrase in it.

It is a shame that healthy fun and pun is going away from the public discourse. I tried to ask myself whether it is only parliamentarians like Azam Khan who are such wild and sexiest or are there other examples from supposedly more somber and gender friendly west. I was pleasantly surprised to find the following few examples

Example 1

Lady Astor: "Mr X, if I were your wife I'd put poison in your coffee."
Mr X: "Nancy, if I were your husband I'd drink it.

Example 2

MP Bessie Braddock : X, you are drunk, and what’s more you are disgustingly drunk.
Mr X: My dear, you are ugly, and what’s more, you are disgustingly ugly.
But tomorrow I shall be sober and you will still be disgustingly ugly”

Mr X is none other than the great gentleman, noble laureate for Literature and stalwart of democracy Winston Churchill. Nowhere on internet search I found that these have been categorized as sexiest remarks. They have been categorized as funniest insulting reply to an attempted insult.

I see Azam Khan’s remarks as a light hearted pun in response to a light hearted pun.  

In our parliament also, Nehru got commented upon his bald head. Nehru said about Aksai Chin, “ not a blade of grass grows there”. Mahavir Tyagi responded to this pointing toward Nehru’s bald head, “ not a single hair on this head but shall I surrender this to the enemy?”

Let me make is clear that the above examples are in no defense of Azam Khan’s Sexiest comments in the past, but in this instance we are looking at the even with a prism of past.

More troubling to me is the fact that all discussions about the remark – after the remark was made; and both inside and outside the parliament – stooped to more vulgar and obscene. The spat over Akhilesh Yadav’s defense of Azam Khan used unparliamentarily words which were again expunged. The Times Now (@TimesNow) debate anchored by Padmja Joshi (@PadmajaJoshi) became too indisciplined with woman participants Nupur Sharma ( @NupurSOffice), Smita Prakash (@smitaprakash) accusing with words like “lech”, “Besharm” and Badtameez etc.

I thought, what a low standard debate about a harmless pun. Are we saying that as a society we have become completely intolerant to good debates and will protect civility by becoming uncivilized?

Disclaimer – I have no political or ideological affiliation with Azam Khan (@azamkhanMP) and I do not support any of his public or private activities. This write up is a comment only on the incident that happened in parliament and refrains from being biased by his past. This write up is only in support of literary tahzeeb in public discourse and supporting the cause of some pun and fun in the public discourse.

नदी, नाले, वृक्ष-पहाड़ लगा रहे गुहार- कोई तो सुन ले मेरी पुकार…!

दीपक कुमार झा
बोकारो :
‘मैं पेड़ हूं। वही पेड़, जिसकी हवायें प्राणि-जगत की प्राणवायु है। वही पेड़, जो आजीवन तो जीव-जंतुओं का सेवक हूं ही, मरने के बाद भी मेरे शरीर का हरेक हिस्सा कुछ देकर ही जाता है। लेकिन जब जीते-जी मुझ पर कुल्हाड़ियां चलती हैं तो मेरे हर दरख्तों से लेकर पत्ते तक रो पड़ते हैं। बहुत पीड़ा होती है मुझे, जब मुझे प्रचार का जरिया बनाकर बड़े-बड़े बोर्ड मेरी छाती में कील ठोंककर टांग दिये जाते हैं। अरे, कोई तो मेरी पुकार सुनो! बचाओ मुझे!’
‘मैं, नदी हूं। मेरी जलधारा कभी कल-कल करती हुई लोगों का प्यास बुझाती थी, लेकिन आज मैं खुद न्याय की प्यासी हूं। मुझे मैली कर दी गयी। मेरी गंदगी, मेरा मैल कोई साफ नहीं कर रहा। मैं पवित्र से आज अछूत सी होकर रह गयी। बहुत तकलीफ होती है, जब मेरे शरीर का हिस्सा (किनारा) काटकर मुझ पर बड़ी-बड़ी इमारतों का वजन डाल दिया जाता है। मेरी भी कोई मदद करो!’
‘मैं, पहाड़ हूं। वही पहाड़, जिसकी वादियों में कभी कुदरती खूबसूरती बसती थी, जिसकी आबो-हवा अपने-आप में निराली थी। लेकिन आज मेरी वादियां संकट में हैं। मेरी खूबसूरती को नजर लग गयी है उन चंद माफियाओं की, जिन्होंने मेरी सौदेबाजी कर मुझे टुकड़ों में उड़ा डाला तो कभी मेरा शीश तक काटकर समतल बना डाला। काश कोई फरिस्ता मेरी भी गुहार सुन ले!’
चौंकिये मत! यह पुकार, यह गुहार, यह विनती, ये मिन्नतें हैं हमारे पर्यावरण की। वही पर्यावरण, जिसकी रक्षा की दुहाई देकर हम एक दिन का उत्सव भर मनाकर अपने कर्तव्यों की इतिश्री समझ लेते हैं। पिछले हफ्ते भी हमने ऐसा ही किया। दो चार पेड़ लगा दिये, उनमें पानी देकर अच्छी-अच्छी तस्वीरें खिंचवाा ली। अखबारों की सुर्खियां बटोर ली या दोस्तों के बीच शेयर कर वाहवाही लूट ली। बस यह सिलसिला यहीं खत्म हो जाता है। हमारे नेता, अधिकारी तो सबसे ज्यादा ऐसी औपचारिकतायें हर साल पूरी करते हैं। पर्यावरण बचाने को लेकर लंबे-चौड़े भाषण देते हैं, जो बस अगले दिन के अखबारों की खबरें बनकर ही सिमट जाती हैं।

दुर्भाग्यपूर्ण बात तो यह है कि पांच जून के इस एकदिनी पर्यावरण दिवस पर ही क्यों, सालो-भर क्यों नहीं उनका ध्यान खुद उन बातों पर नहीं होता, जो वे अपने भाषणों में लपेट देते हैं। केवल नेता और अधिकारी ही नहीं, आम जनता भी पर्यावरण को विपदा में घेरने के लिये कम जिम्मेवार नहीं है। जबतक सही मायने में सभी पर्यावरण-सुरक्षा के प्रति अपने दायित्वों का निर्वहन नहीं करेंगे, हमारा पर्यावरण, हमारी कुदरती धरोहर हमसे ऐसे ही मदद की गुहार लगाती रहेगी। अगर ज्यादा विलंब हुआ तो यह संपूर्ण जीव-जगत के लिये खतरा भी बन सकता है। पर्यावरण आज किस प्रकार संकट में खड़ा है, क्यों खड़ा है और किस तरह उसे बचाने को लेकर विश्वस्तरीय प्रयास हो रहे हैं, यह बात किसी से छुपी नहीं है। ऐसे में सामूहिक जिम्मेवारी आवश्यक ही नहीं, अनिवार्य है।

पेड़ों के सीने वेधकर कर रहे प्रचार

बोकारो में पेड़, नदी-नाले और पहाड़ की जो उक्त गुहार यहां की कुदरत लंबे समय से लगा रही है, लेकिन उनकी पुकार कोई सुनने वाला नहीं। यहां पेड़ों को असमय छीलकर सुखा देने और फिर मार डालने की घटनायें तो अब आम हो गयी हैं। अत्याधुनिक सुविधाओं की स्थापना और विकास की आड़ में धड़ल्ले से पेड़ों का सफाया होता रहा है। यही नहीं, शहर की सभी मुख्य सड़कों के किनारे लगे पेड़ों को मुफ्त का विज्ञापन माध्यम बना दिया गया है। उस पर बड़ी-बड़ी कीलें ठोककर छोटे फ्लैक्स से लेकर लंबे-चौड़े बोर्ड तक टंगे हैं। इस पर न तो प्रशासन ध्यान दे रहा, न ही वन विभाग। शर्मनाक बात तो यह है कि पेड़ों पर टंगे अधिकांश फ्लैक्स व बोर्ड शैक्षणिक संस्थानों के ही होते हैं, परंतु दुर्भाग्य है कि उन्हें खुद कुदरत की रक्षा करने की शिक्षा हासिल नहीं है, या यूं कहिये कि जानते हुए भी ये कुदरत के साथ आपराधिक व्यवहार कर रहे हैं। यह आपराधिक व्यवहार यहां की छोटी-छोटी पहाड़ियों के साथ भी हो रहा है।

भू-माफियाओं का बोलबाला

भूमि माफियाओं का ऐसा बोलबाला है कि वे वनभूमि और पहाड़ी इलाके की जमीन भी हथिया ले रहे हैं। उन पर बड़ी-बड़ी इमारतें खड़ी कर बस अपनी जेबें गर्म कर रहे हैं। ऐसा नहीं है कि प्रशासन इनके खिलाफ कार्रवाई नहीं करता। कार्रवाई तो होती है, लेकिन महज चंद दिनों की है। दो-चार स्थानों पर बुलडोजर चलते हैं। अवैध कब्जे ढ़ाहे जाते हैं। एक-दो दिन अखबारों में खबरें आती हैं। फिर मामला शांत और उनका काम फिर चालू। दरअसल, जमीन के इस गोरखधंधे में आम धंधेबाजों के साथ-साथ कई बड़े रसूखदार लोग भी शामिल हैं। यही कारण है कि कार्रवाई हर बार ठंडे बस्ते में चली जाती है। स्थानीय बांधगोड़ा, सतनपुर पहाड़ आदि इलाकों में पहाड़ी जमीन तथा वनभूमि पर कब्जे की खबरें पहले भी आ चुकी हैं।

कराह रही गरगा, जांच में मिली सर्वाधिक प्रदूषित

नदियों की बात करें तो यहां की लाइफ-लाइन माने जाने वाली गरगा नदी अतिक्रमण और प्रदूषण के कारण कराह रही है। पिछले दिनों ‘दामोदर बचाओ अभियान’ के तहत युगांतर भारती, रांची से आयी जल प्रदूषण की जांच टीम तेलमोचो पुल के निकट दामोदर नदी पहुंची। इस टीम के साथ दामोदर बचाओ अभियान के सदस्य भी शामिल थे। यहां पर जांच टीम ने दामोदर एवं गरगा नदी से पानी का नमूना लेकर उसकी जांच की। जांच के क्रम में गरगा का पानी सबसे प्रदूषित पाया गया। दामोदर नदी के पानी की स्वच्छता एवं टीडीएस सामान्य पायी गयी, लेकिन गरगा नदी का पानी सबसे प्रदूषित पाया गया। गरगा को अतिक्रमण व प्रदूषण से मुक्त बनाने को लेकर प्रयासरत संस्था स्वास्थ्य एवं पर्यावरण संरक्षण संस्थान के महासचिव शशिभूषण ओझा मुकुल के अनुसार चास नगर निगम और बोकारो इस्पात संयंत्र की आवासीय कॉलोनियों के सीवरेज का गन्दा जल अनवरत इस नदी में गिरने से इसका जल प्रदूषित हुआ है, साथ ही कई जगह इसके किनारों को भी अतिक्रमित कर लिया गया है। स्थिति इतनी विकट है कि प्रदूषण की वजह से यह नदी मरने के कगार पर है। अगर इसे नहीं बचाया गया तो आने वाली पीढ़ी हमें माफ नहीं करेगी। उन्होंने कहा कि गरगा नदी का पौराणिक नाम गर्गगंगा है, जो महर्षि गर्ग के तपोबल से उत्पन्न हुई थी।

नाला बना कभी खेतों को सींचने वाली सिंगारी जोरिया

गरगा की सहायक सिंगारी जोरिया भी भू-माफियाओं के अतिक्रमण का शिकार बनी है। अतिक्रमित और प्रदूषित होकर अपना अस्तित्व खोती जा रही है। चास के लोग एक समय सिंगारी जोरिया के माध्यम से अपने खेतों में पानी पहुंचाया करते थे, लेकिन अब यह सह-नदी नाले में तब्दील हो गई और वो दिन दूर नहीं, जब सिंगारी जोरिया का सिर्फ नाम ही रह जायेगा। के एम मेमोरियल हॉस्पीटल के निकट, महावीर चौक तथा चीरा चास में सिंगारी जोरिया को न सिर्फ अतिक्रमित किया गया है, बल्कि चीरा चास में तो कुछ बिल्डरों ने सिंगारी जोरिया की धारा को ही मोड़कर घर बनाकर बेचने का काम किया है। इसका पानी प्रदूषण से काला और दुर्गन्धयुक्त हो गया है, जिसकी बदबू चीराचास में हर वक्त महसूस की जा सकती है। चीरा चास निवासी सुनील महतो ने बताया कि कभी उनका सिंगारी जोरिया बिल्कुल पवित्र और साफ थी, परंतु जब से बिल्डर लोग आये हंै, तब से इसे नर्क बनाकर छोड़ दिया गया है। पहले यह जोरिया 30 से 40 फीट का हुआ करती थी, परंतु अब इस जोरिया को नाले में तब्दील कर दिया गया है। चीरा चास में पेंट की दुकान चलाने वाले बबलू ने बताया कि यह सिंगारी जोरिया काफी छोटा हो गया है। वे लोग पहले इसमें नहाते थे और खेत में पानी भी पटाते थे, परंतु अभी तो पानी इतना गन्दा हो गया है और इतना महकता है कि उसके रास्ते से गुजरना भी मुश्किल हो गया है। लोगों ने प्रशासन की इस दिशा में अनदेखी पर रोष व्यक्त किया है।

जांच के बाद होगी कार्रवाई : डीसी

Kripa Nand Jha, DC, Bokaro.

नदी, सरकारी भूमि आदि के अतिक्रमण को लेकर बोकारो उपायुक्त कृपानंद झा ने कहा कि यह मामले उनके संज्ञान में नहीं था। वह अभी नया आया हैं। आने के बाद चुनाव कार्यों में व्यस्त थे। उन्होंने कहा कि कोई भी सरकारी जमीन का अतिक्रमण नहीं कर सकता है। नदी की जमीन गैर मजरुआ आम कैटेगरी में आयेगी। अगर कहीं अतिक्रमण हुआ है तो सीओ के द्वारा मापी कराकर जांच करायी जायेगी। जांच में अगर इंक्रोचमेंट पाया गया तो विधि-सम्मत कार्रवाई होगी।

एक और दामोदर बचाओ आंदोलन की जरूरत

नदी की दुर्दशा दिखाते दामोदर बचाओ आंदोलन के प्रदेश संयोजक प्रवीण कुमार सिंह।

सरयू राय के कुशल नेतृत्व में दामोदर बचाओ आंदोलन ने जिस क्रांतिकारी तरीके से देवनद दामोदर को प्रदूषण से मुक्ति दिलाने में अहम भूमिका निभायी थी, उसे एक बार फिर से गति देने, या यूं कहें कि दुबारा एक और नये आंदोलन की जरूरत है। दामोदर बचाओ आंदोलन के प्रवीण कुमार सिंह का कहना है कि एक समय था, जब दामोदर विश्व की 10 प्रदूषित नदियों में से एक थी। सरयू राय के नेतृत्व में काफी दबाव के बाद डीवीसी व अन्य संयंत्रों ने सुधार किया। रिसाइक्लिंग प्लांट बनवाये, छाई गिराने पर रोक लगायी। सीसीएल ने भी काम किया। बोकारो स्टील ने भी रिसाइक्लिंग प्लांट बनाया। लेकिन इन दिनों एक बार फिर से दामोदर को प्रदूषित किया जाने लगा है। बोकारो स्टील प्लांट का यह दावा कि एक बूंद पानी भी अब दामोदर में नहीं जायेगा, गलत साबित हो रहा है। यकीनन, स्थिति में पहले से बहुत सुधार है। दो रंग वाली स्थिति नहीं नजर आ रही। रिसाइक्लिंग प्लांट को लेकर सुप्रीम कोर्ट का आदेश था 2017 का। बार-बार चेतावनी के बाद भी सीसीएल, बीसीसीएल के प्लांट व अन्य गैर-सरकारी प्लांट दूषित पानी बहा रहे हैं। सीवरेज का पानी जा रहा है। निश्चय ही इसमें सुधार की जररत है। 95 प्रतिशत औद्योगिक प्रदूषण से मुक्ति मिल गयी थी, लेकिन फिर स्थिति खराब हो रही है। फिर प्रदूषण से वही स्थिति बनने जा रही है। झारखण्ड की जीवन रेखा दामोदर सरकारी कम्पनियों में बोकारो स्टील प्लांट, डीवीसी की चंद्रपुरा थर्मल, बोकारो थर्मल पावर स्टेशन एवं सीसीएल की इकाइयों द्वारा फैलाये जा रहे प्रदूषणरूपी राक्षस से मुक्ति की गुहार लगा रहा है। दामोदर नदी को विष्णु का अवतार माना जाता है। आज विष्णु का अवतार दामोदर विकास के दौर में प्रदूषण के मकड़जाल में फंसकर कराह रहा है। दामोदर को प्रदूषण-मुक्त करने के लिए एक मजबूत जन-आंदोलन शुरू क रने की आवश्यकता है। उन्होंने आमलोगों से दामोदर बचाओ आंदोलन के साथ मिलकर देवनद दामोदर को बचाने के लिए जनांदोलन में साथ देने की अपील की है।

Special Feature : शुचिता बनाये रखना मोदी की बड़ी चुनौती

Mod Prakash.

Senior Blogger and Analyst from Australia.

मोदी सरकार ने इस बार भी जनता के सामने ईमानदार सरकार होने का दावा किया है और इस बात को एक बड़े चुनावी मुद्दे के रूप में प्रस्तुत किया है। वास्तविकता क्या है यह तो कोई नहीं जानता है, पर ये सरकार ईमानदार नजर तो जरूर आती है। जनता को क्या इस बात से खुश होना चाहिए या ये भी सोचना चाहिए कि क्या यह सरकार वाकई में ईमानदार है और आगे भी ईमानदार रहेगी? यह तो सही है कि इन पांच सालों में सरकार और पार्टी के लोगों के खिलाफ कोई भ्रष्टाचार के आरोप नहीं लगे हैं। मोदी सरकार ईमानदार दिखती तो जरूर है और यह जरूरी है कि सरकार ईमानदार हो भी और ईमानदार दिखे भी। कहीं ये पढ़ा था कि ईमानदार, परन्तु अप्रभावी शासक से ज्यादा अच्छा है कि शासक थोड़ा भ्रष्ट हो, पर प्रभावी हो। ईमानदार और प्रभावी शासक तो आदर्श है और अभी तक तो मोदी सरकार भी कुछ ऐसा लग रही थी, लेकिन सवाल यह है कि क्या यह आने वाले दिनों में अपनी शुचिता ऐसे ही बरकरार रख सकेगी?


महाभारत के अंतकाल की एक कहानी याद आ रही है। त्रेतायुग का अंत हो चुका था और कलयुग का प्रारम्भ नहीं हो पाया था। कारण ये था कि राजा परीक्षित बड़े ही सत्यवान और प्रतापी थे, जिसकी वजह से उनके राज में असत्य, अनाचार, अधर्म की कोई जगह ही नहीं थी। कलयुग को आने के लिए कोई स्थान ही नहीं मिल रहा था। तो एक दिन कलयुग ने एक ब्राह्मण का वेष बनाया और राजा के पास पहुंच गया। राजा ने पूछा तो उसने सारी बात बता दी। भला इतने न्यायप्रिय राजा इस बात को कैसे अनदेखा कर सकते थे? राजा का यह भी कर्त्तव्य था कि वह यह सुनिश्चित करें कि प्रकृति का नियम निर्विघ्न चलता रहे। सो राजा परीक्षित ने कलयुग से कहा कि जब तक उनका शासन है, तब तक कलयुग किसी भी तीन प्रकार की जगह में रह सकता है – सोने में, मदिरा में या वो स्थान, जहां वेश्यावृति हो। कलयुग को कोई ऐसा स्थान नहीं मिला, जहां मदिरा सेवन हो रहा हो और न ही कोई ऐसा स्थान मिला, जहां वेश्यावृत्ति हो रही हो। ऐसा था राजा परीक्षित का राज्य, सत्यधर्म पर आधारित। सो कलयुग को कोई और उपाय नहीं मिला और उसने राजा के स्वर्ण मुकुट में अपना स्थान बना लिया। अगले दिन राजा शिकार को गए और राह भटक गए। प्यास से पीड़ित उन्होंने एक साधु को तप में लीन देखा और उनसे पानी मांगा। साधू तो ध्यान में लीन थे, सो कोई जवाब नहीं दिया। राजा को क्रोध हुआ और उन्होंने में पास पड़े एक मृत सांप को तलवार से उठाकर साधु के गले में लपेट दिया और आगे चले गए। कुछ देर बार साधू का पुत्र आया और उसने अपने पिता के गले में लपेटा सर्प देखा तो गुस्से में शाप दे दिया कि जिसने ऐसा कर्म किया है, उसे सर्प राज तक्षक सात दिनों के अंदर मृत्युलोक पहुंचा देगा। शाप सत्य हुआ और राजा परीक्षित की मृत्यु हुई और कलयुग का प्रारब्ध हो गया। स्वर्ण और स्वर्ण मुकुट धन और सत्ता शक्ति का परिचायक है और इन दोनों का संयम कलयुगी शक्तियों को बढ़ावा देती हैं और उनको पोषती हैं। मुकुट सत्ता द्वारा दी गयी जिम्मेदारी का प्रतीक है। कलयुग में आएं, तो हम देखते हैं कि स्वतंत्रता के तुरंत बाद नेहरूजी की सरकार भी सत्ता और धनलोलुप मंत्रियों और

अधिकारियों की बेईमानी से नहीं बच पायी। उसके बाद तो सत्तर सालों तक सरकारों ने मुकुट और स्वर्ण (स्वर्ण मुकुट = सत्ता और धन) का उपयोग एक-दूसरे का हित साधने के लिए किया। सो मोदी सरकार ने मुकुट (सत्ता = जिम्मेदारी) तो धारण किया है, पर सवाल यह है कि अगले पांच साल भी क्या मुकुट पर स्वर्ण नहीं चढ़ेगा? मोदीजी आप तो संत हैं और राजर्षि राजा जनक की तरह आप कीचड़ में कमल की तरह हैं, पर क्या आप यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि भारत के राजनीतिक परिप्रेक्ष्य में कोई कमल अगले पांच सालों में मुरझायेगा नहीं और कोई मुकुट स्वर्ण मुकुट बन जाने की कोशिश नहीं करेगा?

मोदी जी, मैं आपकी सरकार द्वारा किये कुछ निर्णयों पर आपका ध्यान दिलाना चाहता हूं और आपको आगाह करना चाहता हूं कि ये निर्णय बहुत सारे मुकुटधारियों में स्वर्ण जटित मुकुट की लालसा पैदा कर देंगे। सबसे पहले मैं आपका ध्यान वित्त विधेयक 2018 की ओर दिलाना चाहता हूं, जिसमें आपकी सरकार ने विदेशी कंपनियों को राजनैतिक पार्टियों को फण्ड करने की छूट दे दी और इतना ही नहीं, उसको किसी भी आॅडिट या पूछताछ से अलग रखा। सोचिये कि विदेशी शैल कंपनियों को आपने क्या हथियार दे दिए हैं? दूसरा आपने भारत में इलेक्टोरल फण्ड को वैध कर दिया है और उसके डोनर को अज्ञात रखा है। मुझे ये अंदेशा हो रहा कि ये दोनों पालिसी आपको अगले पांच सालों में कहीं परेशानी न दें।
यह सोचिये कि एक NRI है और उसने कहीं विदेश में, सिंगापुर, आॅस्ट्रेलिया, अमेरिका या और कहीं, जैसे मॉरिशस में एक कंपनी खोली और 49% किसी विदेशी कंपनी या विदेशी व्यक्ति को दे दिया। यह कंपनी उस व्यक्ति के लिए ही खोली गयी, क्योंकि वो है एक आर्म्स डीलर। इस एनआरआई ने भारत में एक ब्रांच खोला और किसी राजनैतिक पार्टी को दान दिया। इस दान का कोई आॅडिट नहीं होगा तो फिर हमारे आर्म्स डीलर ने जाकर डील किया और किक बैक का पैसा इलेक्टोरल बांड में दे दिया। सभी कुछ गुमनाम और सभी कुछ कानूनी। इन पैसों का कोई आॅडिट नहीं और इलेक्टोरल बांड का कोई नाम नहीं। अब हो सकता है कि कुछ लोग शुरू में इसका इस्तेमाल करें पर कुछ ही दिनों में सब लोग इस विधा में माहिर हो जाएंगे। मोदीजी, आप देखेंगे कि कुछ ही दिनों में आपके हर मुकुट पर सोने की परत चढ़ जायेगी और जैसे कोयले के व्यापार में कालिख लग ही जाती है, वैसे ही आप भी इस स्वर्ण मुकुट के प्रभाव से अछूते नहीं रहेंगे। कोई न कोई आपके गले में सर्प फांस डाल ही जाएगा।

  • For Varnan Live.

डीपीएस बोकारो के द्विवार्षिक सदनोत्सव ‘संगम’ में दिखा कला और संस्कृति का अनुपम संगम

0

गीत-संगीत और नृत्य की मनभावन प्रस्तुतियों से बच्चों ने बिखेरी सतरंगी छटा

बोकारो : ‘बच्चे ही देश का भविष्य हैं। अच्छी शिक्षा के साथ-साथ उनमें छात्र-जीवन से ही सामाजिक, सांस्कृतिक और कलात्मक मूल्यों का विकास भी आवश्यक है। तभी उनका सर्वांगीण विकास संभव है।’ ये बातें बोकारो जनरल अस्पताल के मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. विभूति भूषण करुणामय ने कही। शनिवार देर शाम डीपीएस बोकारो में सतलज, झेलम और चेनाब हाउस द्वारा आयोजित द्विवार्षिक सदनोत्सव ‘संगम’ को वह बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। ‘विविधता में एकता’ थीम पर आधारित इस कार्यक्रम में बच्चों ने अपनी सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के जरिए देश की कलात्मक व सांस्कृतिक विविधता का अनूठा संगम प्रस्तुत किया। मुख्य अतिथि ने बच्चों की प्रस्तुतियों और उनकी प्रतिभा निखारने की दिशा में डीपीएस बोकारो की ओर से किए जा रहे प्रयासों की सराहना की।

उन्होंने कहा कि यह विद्यालय शिक्षा के साथ-साथ बच्चों की अन्य प्रतिभाओं को निखारने के लिए भी प्रतिबद्ध रहा है। इसी कारणवश न सिर्फ राज्य, बल्कि देश के सर्वश्रेष्ठ विद्यालयों में इसका अपना खास स्थान है। इसके पूर्व, मुख्य अतिथि डॉ. करुणामय, विशिष्ट अतिथि डॉ. सेलिना टुडू एवं प्राचार्य एएस गंगवार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। चेनाब हाउस की वार्डन तनुश्री घोष व नीलांजना चटर्जी द्वारा स्वागत भाषण के बाद सीनियर विंग की छात्राओं ने स्वागत गीत एवं विद्यालय गीत की सुंदर प्रस्तुति की। प्राचार्य श्री गंगवार ने कार्यक्रम की विशेषता तथा विद्यालय की उपलब्धियों पर संक्षिप्त प्रकाश डाला। उन्होंने बच्चों के सर्वांगीण विकास में कला-संगीत की महत्ता पर प्रकाश डाला। साथ ही, बच्चों को सोशल मीडिया के संतुलित इस्तेमाल का संदेश भी दिया।


    सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुआत सीनियर विंग के छात्रों ने आर्केस्ट्रा-प्रस्तुति से की। उन्होंने विभिन्न वाद्य-यंत्रों पर भारतीय शास्त्रीय संगीत एवं पाश्चात्य संगीत का अनूठा सम्मिश्रण (फ्यूजन) प्रस्तुत किया। इसके पश्चात झेलम हाउस के छोटे-छोटे विद्यार्थियों ने रामनवमी पर आधारित नृत्य-प्रस्तुति में भगवान श्रीराम के जन्म और उनकी बाल-लीलाओं का सुंदर चित्रण किया।

जूनियर विंग के बच्चों ने अपने गायन से छत्तीसगढ़ी संस्कृति की झलक दिखाई। वहीं, सीनियर विंग के विद्यार्थियों ने सूफी समूह-गान ‘नैन अपने पिया से लगा आई रे…’ की शानदार प्रस्तुति से सभी श्रोताओं को झूमने पर विवश कर दिया। इसके बाद जूनियर विंग के नन्हे विद्यार्थियों ने मासूमियत भरी अपनी भाव-भंगिमा के साथ श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर आधारित मनमोहक नृत्य प्रस्तुत किया। अंत में सीनियर विंग की छात्राओं ने अरबियन डांस की सुंदर प्रस्तुति की। इस क्रम में सतलज हाउस के वार्डन रवि प्रकाश द्विवेदी एवं बिमला बिष्ट ने सतलज, झेलम और चेनाब सदन तथा विद्यालय परिवार की उपलब्धियों को रेखांकित किया। धन्यवाद ज्ञापन झेलम हाउस की वार्डन अर्चना रॉय शर्मा व प्रीति मिश्रा ने किया। समापन राष्ट्रगान से हुआ।

वार्षिक पत्रिका  ‘डिप्स रिफ्लेक्शन- 2022’  का विमोचन
सदनोत्सव के दौरान विद्यालय की वार्षिक पत्रिका ‘डिप्स रिफ्लेक्शन’ के 34वें अंक का विमोचन भी किया गया। मुख्य अतिथि डॉ. करुणामय, प्राचार्य श्री गंगवार सहित उपप्राचार्य एवं छात्र संपादकीय मंडली के बच्चों ने इसका संयुक्त रूप से विमोचन किया। सत्र 2021-2022 की इस पत्रिका के ई-वर्जन का भी अनावरण किया गया। 167 पृष्ठों वाली इस पत्रिका में विद्यालय की वार्षिक गतिविधियों एवं उपलब्धियों के साथ-साथ छात्र-छात्राओं की रचनात्मकता को आकर्षक चित्रों व पृष्ठ-सज्जा के साथ समाहित किया गया है। मुख्य अतिथि ने इसके लिए पत्रिका की संपादक मंडली के समस्त सदस्यों को बधाई दी। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में विद्यार्थी और उनके अभिभावक मौजूद रहे।

– Varnan Live Report.

गोल्ड मेडलिस्ट शूटर ओशो बने पुलिस मेंस एसोसिएशन में अध्यक्ष के दावेदार, चुनाव 4 को

0

बोकारो : आगामी 4 दिसम्बर, 2022 को होने वाले पुलिस मेंस एसोसिएशन की बोकारो शाखा के चुनाव को लेकर सरगर्मी तेज हो चुकी है। प्रत्याशी अब चुनाव की तैयारियों में जोश-ओ-खरोश से लग चुके हैं। इसी कड़ी में बोकारो पुलिस के राज्यस्तरीय गोल्ड मेडलिस्ट शूटर आरक्षी 04 ओशो प्रदीप को अध्यक्ष पद का प्रत्याशी चुना गया है।

एक बैठक के दौरान ओशो जहां अध्यक्ष, वहीं मानस चक्रवर्ती उपाध्यक्ष और कोषाध्यक्ष किशोर कुमार सहित मंत्री पद के लिए हवलदार कांदा मांडी उम्मीदवार घोषित किए गए। बता दें कि ओशो प्रदीप जहां पुलिस में अपनी बेहतर सेवा व कर्मठता के लिए जाने जाते हैं, वहीं मानवता की सेवा में भी उन्हें काफी रुचि रही है। कई जरूरतमंदों, लाचारों की मदद उन्होंने की है, जिसके लिए उन्हें काफी सराहना भी मिल चुकी है।

इस दौरान उपस्थित प्रत्याशियों में राजकुमार महतो, जितेन्द्र कुमार, संतोष यादव एवं महिला आरक्षी रीता पासवान के साथ समर्थक सितम्बर मंडल, हवलदार दिवाकर सिंह, मुकेश कुमार, रामेश्वर महतो, प्रमोद पांडेय, विकास, केदार महतो, राजू कुमार एवं बड़ी संख्या में हवलदार व सिपाही मौजूद रहे।

– Varnan Live Report.

ED फिर करेगा हेमंत को तलब, कहा- कथनी और वास्तविकता में है फर्क

मामला एक हजार करोड़ के अवैध खनन व अकूत संपत्ति का : पहचानने से इनकारे गए प्रेम सहित 4 के वीडियो व कॉल डिटेल मौजूद

शशांक शेखर
दिल्ली/रांची : 1000 करोड़ के अवैध खनन मामले में प्रवर्तन निदेशालय (ईडी) एक बार फिर झारखंड के मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन को तलब कर सकता है। विश्वस्त सूत्रों के अनुसार ईडी सीएम हेमंत के जवाबों से कतई संतुष्ट नहीं है। ईडी ने माना है कि हेमंत की कथनी और करनी में अंतर लग रहा है और अगले सप्ताह उन्हें फिर ईडी आफिस में पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है। ईडी कार्यालय के एक सदस्य ने इस संवाददाता को बताया कि हेमंत जो कहते हैं और जो करते हैं, उसमें बड़ा फर्क है। सूत्रों का दावा है कि हेमंत सोरेन ने प्रेम प्रकाश सहित जिन पांच लोगों को पहचानने से भी इनकार कर दिया, उनका वीडियो और कॉल रिकॉर्डिंग प्रवर्तन निदेशालय के पास मौजूद है। ईडी के पास जो दस्तावेज हैं, वो साबित करते हैं कि हेमंत का प्रेम प्रकाश के साथ दशकों से ‘प्रेम’ रहा है और अगले हफ्ते उन सभी को भी पूछताछ के लिए बुलाया जा सकता है। गौरतलब है कि ईडी ने अवैध खनन से जुड़े मामले में सियासी गलियारों में चर्चित रहे प्रेम प्रकाश को बीते 25 अगस्त को जेल भेजा था। प्रेम प्रकाश के यहां ईडी ने छापेमारी में सीएम हाउस में तैनात दो जवानों के एके-47 और कारतूस पाए थे। ज्ञातव्य है कि हेमंत सोरेन ने ईडी की पूछताछ के बाद अपने समर्थकों के बीच एक होने का आह्वान करते हुए कहा कि उनको फंसाने की साजिश रची जा रही है। लेकिन, पांच आईएएस अधिकारी और सात आईपीएस अधिकारी जिस तरह इस पूरे मामले में फायदेमंद रहे हैं, उसका पूरा रिकॉर्ड भी ईडी के पास मौजूद है। सूचना के अनुसार अभिषेक प्रसाद, पिंटू श्रीवास्तव, छवि रंजन सहित 11 अफसरों के साथ बिल्डरों की पूर्ण वातार्लाप और वीडियोग्राफी ईडी के पास मौजूद है। इनमें कुछ बिल्डरों को एक बार फिर गिरफ्तार किया जा सकता है। रिकॉर्डिंग पिछले दो वर्षों से की जा रही थी। सिर्फ रांची में तीन बिल्डरों द्वारा 56 एकड़ जमीन को बिल्डरों ने अवैध रूप से ले लिया है, जिसके बारे में तत्कालीन डीसी छवि रंजन ने ग्रीन सिग्नल दे दिया था, लेकिन रांची के तत्कालीन आयुक्त नितिन मदन कुलकर्णी ने इस सभी को अवैध मानते हुए इन पर होल्ड लगा दिया।

बोले हेमंत- भाजपा वालों की सरकार गिराने की साजिश
ईडी की कार्रवाई को लेकर सीएम हेमंत सोरेन का कहना है कि यह सब भाजपा वालों की उनके खिलाफ साजिश है। राज्य सरकार की लोकप्रियता देख बीजेपी नेताओं के पेट में दर्द हो रहा है। रघुवर दास के शासनकाल में महोत्सवों और अन्य कार्यक्रमों के नाम पर खुलकर लूट हुई। इन सबकी जांच ईडी क्यों नहीं करता? अगर निष्पक्ष जांच नहीं हुई तो पूरी ताकत से वह इसका विरोध करेंगे। हेमंत ने सीधे तौर पर चैलेंज करते हुए कहा कि अगर उनके साथ कुछ भी हुआ तो मूलवासी-आदिवासी बर्दाश्त नहीं करेंगे। बाहरी चेत जाएं। अब मूलवासी-आदिवासी का राज होगा। इस मामले में हेमंत ने राज्यपाल पर भी निशाना साधा है। कहा कि भाजपा वालों की सरकार गिराने की साजिश को राज्यपाल संरक्षण दे रहे हैं। बहरहाल, अगर यह बीजेपी वालों की साजिश है भी तो अब देखना दिलचस्प होगा कि शह-मात के इस खेल में अमित शाह की जीत होती है या हेमंत की। वैसे सूत्रों की मानें तो बीजेपी के कई ऐसे नेता भी है, जिनकी हेमंत के यहां आमद-रफत है। वे भाजपा के आलाकमान से सूचनाएं लेकर हेमंत तक पहुंचाते हैं। खैर… सियासत का यह खेल एक बार फिर रोमांचक हो चुका है, जिसका रिजल्ट क्या होगा, देखना बाकी है।

जिसे पहचानते नहीं, उसके साथ फोटो खिंचाते : बाबूलाल

पंकज और डाहू जे साथ सीएम हेमंत की फाइल फोटो।

सीएम पर ईडी की कार्रवाई को ले भाजपा का पलटवार भी खूब चल रहा। भाजपा विधायक दल के नेता बाबूलाल मरांडी ने साहिबगंज अवैध खनन मामले के आरोपी बाहुबली दाहू यादव की सीएम हेमंत सोरेन और सीएम के विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा के साथ एक तस्वीर ट्वीट कर निशाना साधा है। कहा कि ईडी कार्यालय में सीएम हेमंत सोरेन अवैध खनन मामले के आरोपी को पहचानते नहीं हैं और बाहर दाहू यादव के साथ तस्वीर खिंचाते फिरते हैं। बता दें कि झारखंड के पूर्व मुख्यमंत्री बाबूलाल मरांडी ने शनिवार को अपने ट्विटर हैंडल से सीएम हेमंत सोरेन, विधायक प्रतिनिधि पंकज मिश्रा और दाहू यादव की तस्वीर पोस्ट की। इसमें जेएमएम कार्यकारी अध्यक्ष हेमंत सोरेन तस्वीर के मध्य में बैठे दिखाई दे रहे हैं। इसमें बाबूलाल मरांडी ने यह भी लिखा है कि क्षमा-याचना के साथ यह तस्वीर (दाहू यादव के साथ) इसलिए पोस्ट करनी पड़ रही है कि मुख्यमंत्री लुटेरों, दलालों, अपराधियों को नहीं जानते कि चतुराई से सफाई देकर ईडी की जांच में बच निकलना चाहते हैं, लेकिन ऐसी कई और तस्वीरें एजेंसियों के हाथ लगी हैं, जिसके सामने हेमंतजी को सच कबूल करना ही होगा।

… और तार-तार हुई सीएम पद की गरिमा
वैसे तो झारखंड में सत्ता की लड़ाई इसके स्थापना-काल से ही होती रही है। दल-बदल, हार्स ट्रेडिंग जैसे मामले यहां के लिए अब पुराने हो गए हैं। लेकिन, भ्रष्टाचार के मामले में ऐसा पहली बार हुआ है जब पद पर रहते किसी मुख्यमंत्री से ईडी ने पूछताछ की है। ईडी ने न केवल एक हजार करोड़ रुपए के अवैध खनन को लेकर उनसे पूछताछ की, बल्कि उनकी चल-चल संपत्ति के बारे में भी छानबीन की। विगत दो-ढाई सालों में अर्जित पूरी संपत्ति का ब्यौरा देने का निर्देश उन्हें दिया गया है। सूत्रों के अनुसार मुख्यमंत्री से कई प्रकार के दस्तावेजों की मांग ईडी ने की है। संभावना है कि जब मुख्यमंत्री संबंधित डॉक्यूमेंट सौंप देंगे, उसके बाद आगे फिर पूछताछ की जाएगी।

– Varnan Live Report.

बोकारो का दिन झारखंड में सबसे सर्द, अधिकतम तापमान सामान्य से 3.2 डिग्री हुआ कम

0

सुबह-शाम अब कंपकपाने लगी सिहरन, दो दिन बाद 13 डिग्री तक पहुंचेगा पारा

बोकारो ः बोकारो सहित पूरे झारखंड में सर्द ने अब अपना असर भली-भांति दिखाना शुरू कर दिया है। सुबह-शाम पिछले कई दिनों से जहां सिहरन महसूस की जा रही थी, वहीं अब दिन में भी अच्छी ठंड का आभास होने है। मौसम विज्ञान केंद्र, रांची की ओर से की ओर से गुरुवार को जारी वेदर बुलेटिन के अनुसार बोकारो जिले में दिन का तापमान पूरे राज्य में भी सबसे कम रिकॉर्ड किया गया। राज्य में अधिकतम तापमान की बात करें, तो बोकारो जिले में यह सबसे कम 26.1 डिग्री सेल्सियस रहा, जो सामान्य से 3.2 डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया। दिन का तापमान अपेक्षाकृत कम रहने के कारण धूप का असर भी फीका रहा। दूसरे स्थान पर राजधानी रांची में 28.2 और तीसरे स्थान पर गुमला में 28.7 डिग्री सेल्सियस सेल्सियस अधिकतम कम तापमान रिकॉर्ड किया गया। गुरुवार को बोकारो जिले का न्यूनतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस रहा। 

सुबह-शाम सता रही कनकनी

सर्द का असर अब ऐसा दिख रहा है कि लोगों के सभी गर्म कपड़े अब निकल गए हैं। अहले सुबह  हल्की धुंध देखी जा रही है और सुबह-शाम कनकनी सताने लगी है। गुरुवार को बोकारो इस्पात नगर में लगभग साढ़े 8 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हल्की हवा भी चली, जो शीतलहर तो नहीं थी, लेकिन यह ठंडक का अहसास जरूर करा रही थी। ठंड के कारण अब बाजारों में गीजर, रूम हीटर, ब्लोअर आदि की मांग भी बढ़ती दिखने लगी है। मौसम में बदलाव के कारण अमूमन हर घर में लोग सर्दी-जुकाम का शिकार हो रहे हैं।

4 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क सकता है पारा

मौसम विज्ञान केंद्र, रांची के निदेशक अभिषेक आनंद के अनुसार आनेवाले दिनों में सुबह कोहरा और बाद में मुख्य रूप से आसमान साफ तथा मौसम शुष्क रहेगा। अगले पांच दिनों के दौरान अधिकतम तापमान में किसी बड़े बदलाव की संभावना नहीं है। राज्य में अगले 24 घंटे के दरम्यान न्यूनतम तापमान नहीं बढ़ेगा, लेकिन उसके बाद अगले तीन-चार दिनों में इसमें धीरे-धीरे 4 डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट हो सकती है। अगले 16 नवंबर तक ऐसा ही मौसम रहने का अनुमान है।

डाल्टनगंज सबसे सर्द

गुरुवार को पिछले 24 घंटे में पूरे राज्य का मौसम शुष्क रहा। सबसे ज्यादा उच्चतम तापमान 32.1 डिग्री सेल्सियस और सबसे कम न्यूनतम तापमान भी 13.5 डिग्री सेल्सियस के साथ डाल्टनगंज में ही दर्ज किया गया।

13 नवंबर को 13, 14 को 14 डिग्री रहेगा न्यूनतम तापमान

मौसम विज्ञान केंद्र की ओर से जारी पूर्वानुमान के अनुसार 11 नवंबर को बोकारो जिले में न्यूनतम तापमान 16 और 12 नवंबर को 15 डिग्री सेल्सियस रहने के बाद 13 नवंबर को 13 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचने का अनुमान है। जबकि, 14 नवंबर को यह तापमान 14 डिग्री सेल्सियस तक रह सकता है।

जम्मू में बर्फबारी के बाद बढ़ेगा तापमान

मौसम वैज्ञानिक अभिषेक आनंद के मुताबिक जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश में एक-दो दिनों में हिमवर्षा शुरू हो जाएगी। उसके बाद ठंड का ज्यादा अहसास होने लगेगा। फिलहाल उत्तर-पूर्वी मॉनसून के कारण दक्षिण भारत में हो रही बारिश के चलते पुरवइया हवा चल रही है। इसी के कारण आसमान में बादल छा रहे हैं और धूप कमजोर दिख रही है। पुरवइया हवा बंद होने के बाद न्यूनतम तापमान में कमी आएगी। 12 नवंबर से न्यूनतम तापमान में कमी देखने को मिलेगी और 15 से न्यूनतम तापमान में ज्यादा गिरावट होगी। लिहाजा, वजह से ठंड में ज्यादा बढोत्तरी होगी। फिलहाल पानी वाले इलाकों में कुहासा देखने को मिल रहा है।

© Varnan Live Report.

बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है दीपावली ः अमरदीप

0

राजकीय मध्य विद्यालय माराफारी के विद्यार्थियों में कैंडल और गिफ्ट बांट साझा की दिवाली की खुशियां

बोकारो ः राजकीय मध्य विद्यालय, माराफारी में शुक्रवार को दिवाली उत्सव के क्रम में स्वच्छता जागरूकता कार्यक्रम आयोजित किया गया। इस क्रम में बच्चों ने मोमबत्ती जलाकर दीपोत्सव की खुशियां साझा की। कार्यक्रम में मुख्य रूप से उपस्थित वरिष्ठ समाजसेवी कुमार अमरदीप ने दीपावली की महत्ता पर प्रकाश डाला। उन्होंने कहा कि भगवान श्रीराम चौदह वर्ष के वनवास के बाद अपनी पत्नी सीता व भाई लक्ष्मण के साथ अयोध्या लौटे थे। श्रद्धालुओं ने भगवान के स्वागत को लेकर अयोध्या को दीपक व फूलों से सजाया था। दीपावली बुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है। यह पर्व खुशी, उमंग व उत्साह लेकर आता है। लोगों को प्रेम व सद्भाव का संदेश देता है।

उन्होंने कहा कि लोग मिलजुल कर इस उत्सव को मनाते हैं। उन्होंने बच्चों को दिवाली पर पटाखा नहीं जलाने का भी संदेश दिया। प्राचार्य मनोज कुमार ने कहा कि यह पर्व लोगों के जीवन में उजियारा बिखेरता है। घर-घर में शिक्षा का दीप जले, इस दिशा में प्रयास किया जा रहा है। इस दौरान समाजसेवी कुमार अमरदीप ने विद्यार्थियों को मोमबत्ती व उपहार प्रदान किए। मौके पर विपिन बिहारी प्रसाद, मंजू कुमारी, लक्ष्मण सिंह, सुनीता कुमारी, मधु रानी, दीपक कुमार महथा आदि मौजूद रहे।

– Varnan Live Report.

DPS बोकारो में लगी विज्ञान व कला प्रदर्शनी, रचनात्मक प्रतिभा से बच्चों ने मोहा

0

रोबोटिक्स और कलाकृतियों की प्रस्तुति रही सराहनीय

संवाददाता
बोकारो : गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ-साथ बच्चों में रचनात्मक गुणों के विकास के उद्देश्य से शुक्रवार को डीपीएस बोकारो में विज्ञान व कला प्रदर्शनी आयोजित की गई। जॉय ऑफ इनोवेशन एंड क्रिएटिविटी नामक रचनात्मकता के इस मेले में बच्चों ने कला और विज्ञान की विभिन्न विधाओं में अपने प्रदर्श प्रस्तुत किए। विज्ञान व रोबोटिक्स से जुड़े अपने मॉडलों में विद्यार्थियों ने अपनी नवोन्मेषी सोच को मूर्त रूप में प्रस्तुत कर अपनी कुशल प्रतिभा का परिचय दिया।

रडार, टोल टैक्स सिस्टम, क्लैपिंग हैंड्स, ब्लैक लाइन फ्लावर रोबोट, ड्राइंग मशीन, अंधों के लिए चश्मा, अवरोध सूचक और अंधेरे का पता लगाने वाले मॉडलों का प्रदर्शन किया। इंस्पायर अवार्ड- मानक के लिए चयनित बच्चों द्वारा प्रस्तुत गर्ल सेफ्टी कॉलिंग मशीन, एंटी शेकिंग स्पून आदि का प्रदर्शन भी आकर्षण का केंद्र रहा।

वहीं, कला के क्षेत्र में पेंटिंग के साथ-साथ कागज, मिट्टी और पुराने अखबारों से बनाई गई मूर्तिकला की प्रदर्शनी भी अनूठी रही। दीपावली के उपलक्ष्य में खास तौर से निर्मित दीये और गृह साज-सज्जा की सामग्री एक मनोहारी छटा बिखेर रही थी। डीपीएस बोकारो द्वारा संचालित निःशुल्क महिला सशक्तिकरण केंद्र कोशिश की प्रशिक्षुओं ने मोमबत्ती, दीया की विशेष प्रदर्शनी लगाई। विद्यालय का कोना-कोना सुंदर दीयों, रंगोली और फूलों की साज-सज्जा से आकर्षक बना रहा। इस क्रम में शिक्षक-अभिभावक सम्मेलन में आए बच्चों के माता-पिता ने भी प्रदर्शनी का आनंद लिया। उन्होंने विद्यालय परिवार द्वारा बच्चों की रचनात्मकता को इस प्रकार का मंच प्रदान कर उनकी प्रतिभा को निखारने की पहल सराहनीय बताई।


विद्यालय के प्राचार्य ए. एस. गंगवार ने विद्यार्थियों के प्रदर्शों का बारीकी से अवलोकन किया। बच्चों के नवोन्मेषी कौशल की सराहना करते हुए उन्होंने और बेहतरी के लिए उन्हें प्रोत्साहित किया। उन्होंने कहा कि डीपीएस बोकारो बेहतर गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के साथ-साथ विद्यार्थियों के रचनात्मक गुणों का विकास करने के उद्देश्य से सतत प्रयासरत है। बच्चों में 21वीं सदी के कौशल विकास का मंच प्रदान कर लगाई गई यह प्रदर्शनी इसी का एक हिस्सा थी।

– Varnan Live Report.

डाक टिकट डिजाइन प्रतियोगिता में बच्चों ने दिखाई प्रतिभा

0

बोकारो ः आजादी का अमृत महोत्सव के तहत डाक विभाग की ओर से आयोजित डाक टिकट डिजाइन प्रतियोगिता के तहत शुक्रवार को बोकारो के विभिन्न विद्यालयों में डाक टिकट डिजाइन प्रतियोगिता का आयोजन किया गया। 01 से 31 अक्टूबर तक चलने वाली इस प्रतियोगिता के तहत डॉ. राजेन्द्र प्रसाद पब्लिक स्कूल, एमजीएम पब्लिक स्कूल, पेंटिकॉस्टल असेंबली स्कूल, क्रिसेंट पब्लिक स्कूल, सरस्वती विद्या मंदिर एवं अन्य स्कूलों में प्रतियोगिता हुई। इसमें स्कूली बच्चों ने पूरे उत्साह के साथ बढ-चढ़कर भाग लिया।

डाक विभाग की ओर से तय की गई आजादी के संघर्ष, 75 वर्ष की उपलब्धियों, आइडिया, एक्शन आदि पर आधारित अपने चित्रांकन से डाक टिकट डिजाइन किए। इसके पूर्व चास स्थित रामरुद्र उच्च विद्यालय में भी डाक टिकट डिजाइन प्रतियोगिता आयोजित की गई।

आयोजन को सफल बनाने में डाक विभाग की ओर से बोकारो प्रधान डाकघर के डाकपाल सतीश कुमार, विपणन प्रबंधक प्रदीप कुमार पांडेय, कौशल कुमार उपाध्याय आदि पूरी सक्रियता से लगे हैं। उक्त प्रतियोगिता के तहत हरेक विद्यालय को अपने यहां से पांच सर्वश्रेष्ठ डिजाइन को चयनित कर माई जीओवी पर भेजना है।

– Varnan Live Report.

श्रीराम की तरह आज्ञाकारी व कर्तव्यनिष्ठ बनें बच्चे ः महेश त्रिपाठी

0

विशेष सभा में रामायण की झांकी दिखा विद्यार्थियों ने किया मोहित

बोकारो ः चिन्मय विद्यालय के प्राथमिक वर्ग की ओर से शुक्रवार को विद्यालय तपोवन सभागार में दीपावली एवं छठ पूजा के उपलक्ष्य में विशेष प्रार्थना सभा आयोजित की गई। इसमें कक्षा प्री नर्सरी से द्वितीय तक के नन्हे विद्यार्थियों ने बहुत सुंदर नृत्य व नाटिका के मंचन से सबको मोहित कर दिया। खास तौर से रामायण की झांकी दिखाकर बच्चों ने काफी सराहना बटोरी। मासूमियत भरे अंदाज में उनकी अदाकारी, संवाद-प्रेषण व अभिनय कला अतुलनीय रही। 

इस अवसर पर विद्यालय सचिव महेश त्रिपाठी ने छात्रों का मनोबल बढ़ाया तथा भगवान श्रीराम के जीवन से शिक्षा लेते हुए उनकी भांति आज्ञाकारी एवं कर्तव्यनिष्ठ बनने की प्रेरणा दी। प्राचार्य सूरज शर्मा ने छात्रों के प्रयास की सराहना कररते हुए उन्हें दिवाली व छठ की शुभकामनाएं दीं।

कार्यक्रम को सफल बनाने में रश्मि शुक्ला, सोमा झा, निशा शर्मा, रिंकी पांडे, रेणु शाह, अल्पना सिंह, सरिता वर्मा सहित प्री-नर्सरी व नर्सरी के शिक्षक-शिक्षिकाओं ने अहम भूमिका निभाई।कार्यक्रम का संचालन मोनिका और धन्यवाद ज्ञापन रश्मि शुक्ला ने किया।

– Varnan Live Report.

चित्रों के जरिए बच्चों ने दिखाई ‘स्वच्छ भारत मिशन’ व ‘अमृत महोत्सव’ की झलक

धनबाद में सांस्कृतिक कार्यक्रमाें व पुरस्कार वितरण के साथ केंद्रीय संचार ब्यूरो की दो-दिवसीय प्रदर्शनी संपन्न

धनबाद : आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में जागरूकता कार्यक्रमों की कड़ी में सूचना एवं प्रसारण मंत्रालय, भारत सरकार की स्थानीय इकाई केंद्रीय संचार ब्यूरो, धनबाद द्वारा स्वच्छ भारत अभियान 2022 और आगामी सरदार पटेल के जन्मोत्सव ‘एकता दिवस’ (31 अक्टूबर) के उपलक्ष्य में आयोजित दो-दिवसीय चित्र प्रदर्शनी का समापन शुक्रवार को हो गया।
समापन समारोह में डीपीआरओ, धनबाद ईशा खंडेलवाल मुख्य अतिथि रहीं। वहीं नेहरू युवा केंद्र के जिला युवा अधिकारी रवि मिश्रा और झारखंड आवासीय बालिका विद्यालय की प्राचार्या विशिष्ट अतिथि के रूप में शामिल हुए। गुरुवार को प्रदर्शनी का भव्य उद्घाटन धनबाद सांसद पशुपतिनाथ सिंह व सदर विधायक राज सिन्हा ने किया था। इस प्रदर्शनी में बच्चों की रचनात्मक प्रतिभा खुलकर सामने आई। बच्चों ने अपने चित्रों के जरिए आजादी के अमृत महोत्सव और स्वच्छ भारत मिशन की सुंदर झलक दिखाकर सबकी भरपूर सराहना पाई।

भूले-बिसरे सेनानियों की कहानियां जानने का सुनहरा अवसर : डीपीआरओ
अपने संबोधन में धनबाद की जिला जनसंपर्क अधिकारी (डीपीआरओ) ईशा खंडेलवाल ने कहा कि ऐसी प्रदर्शनी धनबाद में लगाना केंद्रीय संचार ब्यूरो द्वारा एक बहुत ही सराहनीय प्रयास है। यह हमें आजादी की विरासत के भूले-बिसरे सेनानियों और उनकी कहानियां फिर से जानने का एक सुनहरा अवसर है। उन्होंने बच्चों को आने वाले आजादी के 100 वर्ष के समारोह अमृत काल को अपना बनाने एवं सफल होने की कामना की। उन्होंने प्रदर्शनी के दौरान जीते प्रतिभागियों को पुरस्कृत किया और उनके उज्जवल भविष्य की कामना की।

जनजागरूकता में केंद्रीय संचार ब्यूरो का अहम योगदान : रवि
नेहरू युवा केन्द्र के रवि मिश्रा ने केंद्रीय संचार ब्यूरो की ओर से इस आयोजन को जनजागरूकता में एक अहम योगदान बताया। पीएम ने आगामी 100 वर्ष आजादी के अमृत काल के रूप में मनाने को कहा है। यह प्रदर्शनी अगले 25 वर्षों में आने वाले अमृत काल की दिशा में एक सफल पहल है।

जागरुकता रथ से दिया स्वच्छता का संदेश
इस अवसर पर विभाग द्वारा स्वच्छता पर संदेश देने से साथ साथ अमृत महोत्सव पर दो दिनों तक जागरूकता रथ भी चलाया गया और स्वच्छता पर बालिका विद्यालय में सफाई अभियान और स्वच्छता रैली भी निकाली गई। इस दो दिवसीय कार्यक्रम को संपन्न कराने में विभाग के क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी ओंकार नाथ पाण्डेय एवं सहायक क्षेत्रीय प्रचार अधिकारी राज किशोर पासवान की महती भूमिका रही।

गीत-नृत्य से बच्चों ने बांधा समां
इस अवसर पर आयोजित प्रतियोगिताओं और नृत्य, गीत आदि सांस्कृतिक कार्यक्रमों में डीएवी स्कूल कोयला नगर, झारखंड आवासीय बालिका विद्यालय, कोला कुसुमा, उत्क्रमित उच्च विद्यालय, कोला कुसुमा और सीसीडब्ल्यू कोलवाशरी मध्य विद्यालय के बच्चों ने बढ़-चढ़कर हिस्सा लिया। सभी विजेताओं को विभाग ने अतिथियों ने पुरस्कृत किया।

– Varnan Live Report.

मंदी की ओर बढ़ती दुनिया…

0

विश्व में मंदी व महंगाई का खतरा एक बार फिर गहराता दिख रहा है। डॉलर करेंसी के सामने सभी देशों की मुद्राओं का अवमूल्यन हो रहा है। इसका सबसे ज्यादा दबाव जापान पर देखने को मिला है। जापानी मुद्रा येन को संभालने के लिए विदेशी मुद्रा भंडार से डॉलर निकालने पड़े, जिसके कारण 1998 के बाद जापान पहली बार मुद्रा संकट में फंस गया। चीन के बाद सबसे बड़ा विदेशी मुद्रा का भंडार जापान के पास था। उसके बाद भी जापान को अर्थव्यवस्था के संकट का सामना करना पड़ रहा है। अमेरिका का डॉलर इंडेक्स नई ऊंचाइयां छूता जा रहा है। पिछले 9 महीने में 15 फÞीसदी की वृद्धि हो चुकी है। सभी देशों के विदेशी मुद्रा भंडार में करेंसी को संभालने के लिए जो डॉलर खर्च किए गए हैं, उससे सारी दुनिया महंगाई और मंदी की ओर जाती हुई दिख रही है।


    महंगाई बढ़ने से ब्याज दरें भी अमेरिका सहित सभी देशों में बढ़ने लगी है। अमेरिकी डॉलर को लेने के लिए बाजार में मांग बढ़ गई और डॉलर में भी सट्टेबाजी शुरु हो गई। पहली बार ऐसा हो रहा है, ऐसा नहीं है। 1973 में इजिप्ट और सीरिया के बीच युद्ध हुआ था। उस समय अमेरिका को इजरायल की मदद मिली। इसके बाद अरब देशों में अमेरिका को तेल का निर्यात बंद कर दिया था। 1974 में अमेरिका की महंगाई बड़ी तेजी के साथ बढ़ने लगी थी। अमेरिका की ब्याज दरें 20 फÞीसदी पर पहुंच गई थी। उसके बाद वही हुआ, जो वर्तमान में हो रहा है। अमेरिकी डॉलर ज्यादा मजबूत होने लगा। उस समय भी अमेरिका मंदी और बेरोजगारी का शिकार हो गया था।


    तत्कालीन राष्ट्रपति रेगन को डॉलर मुद्रा का अवमूल्यन करने विवश होना पड़ा था। 1985 में जब मुद्रा संकट का हाहाकार मचा हुआ था, उस समय यह मार्च में बैठक हुई, जिसमें पश्चिमी जर्मनी, ब्रिटेन, फ्रांस, जापान और अमेरिका के बीच एक समझौता हुआ। इस समझौते के बाद जापान, फ्रांस, ब्रिटेन और जर्मनी की मुद्रा का मूल्य 50 फीसदी बढ़ गया था। केंद्रीय बैंकों ने मुद्रा बाजार में सीधा हस्तक्षेप किया। इसके बाद जापान की अर्थव्यवस्था मंदी का शिकार हो गई थी। 1985 का यह समझौता भी ज्यादा दिन नहीं चल पाया था। 1987 में फ्रांस ने इस समझौते को रद्द कर दिया।


   जानकारों के अनुसार डॉलर इंडेक्स संतुलित होने पर ही डॉलर का अस्तित्व बना रहेगा, अन्यथा निर्यात को लेकर सभी देशों के बीच में मुद्रा का जो संकट आया है, उसको टाला जा सकता है। सारी दुनियां में पिछले 30 वर्षों में काफी विकास हुआ है। डिजिटल लेनदेन बड़े पैमाने पर हो रहे हैं। सभी देश जिन देशों से व्यापार करते हैं, उनसे उनके हित जुड़े होते हैं। प्रतिबंध लगाने के बाद कई देशों ने व्यापार और भुगतान के तरीके अपने हिसाब से तय कर लिए, जिसके कारण प्रतिबंध भी बेअसर साबित हुए। वैश्विक व्यापार संधि के बाद मुक्त व्यापार होने से डॉलर मुद्रा पर सभी देश डॉलर पर आश्रित हैं। श्रीलंका, पाकिस्तान सहित छोटे एवं विकासशील देश मुद्रा संकट में फंस गये हैं। वैश्विक व्यापार एवं विदेशी कर्ज की वर्तमान व्यवस्था को बनाये रखना है तो विश्व बैंक को डॉलर मुद्रा को स्थिर रखने एवं कर्ज की ब्याज दरों को सीमित रखना होगा। यदि ऐसा समय रहते नहीं हुआ तो सारी दुनिया आर्थिक संकट में फंसेगी। इसका परिणाम तृतीय विश्वयुद्ध के रूप में भी सामने आ सकता है। वहीं कर्ज की अदायगी भी दिवालिया होने की स्थिति हो सकती है।

– Varnan Live.

%d bloggers like this: