भूख और बेकारी से संकट में आदिम जनजाति के 441 लोग

0
349

विडंबना : मनातू में 6 लोग टीबी के शिकार, न राशनकार्ड और न ही कोई सरकारी सहायता

नारायण विश्वकर्मा
पलामू : पलामू के मनातू प्रखंड में पुरुषों को टीबी और महिलाओं को एनेमिया रोग ने जकड़ रखा है। ये सभी परहिया आदिम जनजाति समुदाय के हैं और सभी कुपोषण की त्रासदी झेलने को अभिशप्त हैं। मनातू प्रखंड की डुमरी पंचायत के दलदलिया, सिकनी और केदला गांव के 6 लोग लंबे समय से कुपोषण के शिकार हैं। लेकिन, अभी तक प्रखंड से लेकर जिला प्रशासन की इन पर नजरें इनायत नहीं हुई है। अपने इलाज के लिए मरीजों ने पिछले 01 अप्रैल को पलामू मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन से एंबुलेंस की मांग की, लेकिन नहीं मिली। हालात बिगड़ने पर गांव वालों ने टीबी मरीजों को मोटरसाइकिल से 70 किलोमीटर दूर किसी तरह अस्पताल पहुंचा दिया। पीड़ित सकेंद्र परहिया सहित लोगों का वहां समुचित इलाज नहीं हुआ। 20-25 दिन पूर्व उन्हें मुंह से खून आने लगा था। तब सकेंद्र परहिया पंचायत के प्राथमिक स्वास्थ्य केंद्र में अपने इलाज के लिए पहुंचा, लेकिन वहां से उन्हें दुत्कार कर भगा दिया गया।
इसके बाद गांव के लोगों के सहयोग द्वारा 6 टीबी के मरीजों को मेडिकल कॉलेज अस्पताल प्रबंधन ने दूसरे दिन सभी को घर जाने के लिए कह दिया। सभी दिन भर में हांफते-कराहते 70 किलोमीटर दूरी तय कर अपने गांव पहुंचे।
जानकारी मिलने पर एनसीडीएचआर (एनजीओ) के राज्य समन्वयक मिथिलेश कुमार ने गांव पहुंच कर सबका हाल जाना। तब पता चला कि परहिया समुदाय के घर में कुपोषण का बसेरा है। भूख और बेकारी से ये लोग जिंदगी की जंग हार चुके हैं। उन्होंने बताया कि मनातू प्रखंड में आदिम जनजातियों की संख्या 441 है। इनमें 150 परिवारों के पास राशन कार्ड तक नहीं है। डाकिया योजना के तहत राज्य सरकार द्वारा मुहैया कराये जानेवाले 35 किलो चावल भी मिलना बंद है। कई कार्डधारियों को कई महीने से चावल नसीब नहीं हुआ है। भूख और बेकारी ने इन्हें मौत की चौखट पर लाकर खड़ा कर दिया है। अब देखना है कि इनके पास सरकार पहुंचती है या फिर यमराज।

– Varnan Live Report.

Previous article#Corona Research मामले में बोकारो से मिल सकती है बड़ी उपलब्धि, जानिए कैसे…
Next article#BREAKING : बोकारो में पुनः छह नये कोरोना संक्रमितों की पुष्टि
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply