दुनिया बनाने वाले क्या तेरे मन में समाई…. मुकेश की याद की संगीत संध्या

0
267

बोकारो ः महान पार्श्वगायक मुकेश की पुण्यतिथि के उपलक्ष्य में स्वरांगिनी संगीतालय, सेक्टर 12 में ‘एक शाम मुकेश के नाम’ कार्यक्रम का आयोजन कर कलाकारों ने उन्हें सुरमयी श्रद्धांजलि दी। सुप्रसिद्ध गायक अरुण पाठक ने कहा कि मुकेश की गायकी जनमानस के दिलों को छूती है। मुकेश जी को इस दुनियां से गये हुए 45 वर्ष बीत चुके हैं, लेकिन उनके गाए गीत आज भी लोगों को मंत्रमुग्ध कर देते हैं। आज मुकेश सशरीर इस दुनियां में नहीं हैं, लेकिन उनके गाए गीत संगीत-प्रेमियों को सदैव लुभाते रहेंगे। रमण कुमार ने कहा कि मुकेश की गायकी कमाल की थी। खासकर, उनके गाए दर्द भरे नग्में काफी लोकप्रिय हुए। राम एकबाल सिंह ने कहा कि मुकेश के गाए गीतों में जो सादगी है, वह दुर्लभ है। अमोद श्रीवास्तव ने कहा कि मुकेश ने कम गीत गाए, लेकिन उनके गाए अधिकतर गीत लोकप्रिय हुए।

बसंत कुमार ने कहा कि वे बचपन से ही मुकेश के गाए गीतों के दीवाने हैं।अरुण पाठक ने ‘जाने कहां गए वो दिन…’, ‘हम छो़ड़ चले हैं मेहफिल को…’, ‘ऐ सनम जिसने तुझे चांद सी सूरत दी है…’, ‘दुनियां बनाने वाले क्या तेरे मन में समाई…’, सुनाकर समां बांध दिया। बसंत कुमार ने ‘सुहानी चांदनी रातें हमें सोने नहीं देती…’, राम एकबाल सिंह ने ‘मैं ढूंढ़ता हूं जिनको…’, रमण कुमार ने ‘हम तुमसे मुहब्बत करके सनम…’, अमोद श्रीवास्तव ने ‘जुबां पे दर्द भरी दास्ता…’ सुनाकर मुकेश जी को सुरमयी श्रद्धांजलि दी।

Previous articleमेजर ध्यानचंद को मिले “भारतरत्न”, खेल दिवस पर उठी मांग
Next articleRSS कार्यकर्ताओं ने पूजन के साथ लिया प्रकृति-रक्षा का संकल्प
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply