राष्ट्रीय प्रतियोगिता : बोकारो की अक्षिता ने दिल्ली में बजाया काव्य-प्रतिभा का डंका

0
322

श्रीराम राष्ट्रीय काव्यपाठ प्रतियोगिता में DPS, बोकारो की होनहार छात्रा ने बांधा समां

बोकारो: दिल्ली पब्लिक स्कूल, बोकारो की दसवीं कक्षा की छात्रा अक्षिता पाठक ने 14 नवंबर को दिल्ली में अखिल भारतीय साहित्यक संस्था राष्ट्रीय कवि संगम द्वारा आयोजित ‘श्रीराम राष्ट्रीय काव्यपाठ प्रतियोगिता 2021’ के राष्ट्रीय फाइनल में काव्यपाठ कर सबको मंत्रमुग्ध कर दिया। अक्षिता सहित फाइनल के सभी प्रतिभागियों को सम्मान-पत्र व 5100 (पांच हजार एक सौ) रुपये नगद पुरस्कार भेंटकर सम्मानित किया गया। प्रथम तीन स्थान पर रहे विजेताओं को विशेष पुरस्कार दिए गए।

उल्लेखनीय है कि अक्षिता पाठक झारखंड राज्य की एकमात्र प्रतिभागी थी, जिसका चयन राष्ट्रीय फाइनल प्रतियोगिता के लिए हुआ था। राष्ट्रीय कवि संगम द्वारा राष्ट्रीय गौरव के प्रतीक श्रीराम के विराट व्यक्तित्व पर केंद्रित रचनाओं को जन-जन के बीच पहुंचाने के उदेश्य से अखिल भारतीय स्तर पर चार चरणों में आयोजित श्रीराम राष्ट्रीय काव्यपाठ प्रतियोगिता में कुल 22000 (बाइस हजार) प्रतिभागियों ने हिस्सा लिया था, जिसमें से मात्र 21 प्रतिभागियों का चयन राष्ट्रीय फाइनल प्रतियोगिता के लिए हुआ था। देशभर से इस प्रतिष्ठित प्रतियोगिता के फाइनल में स्थान बनाने वाले प्रतिभागियों में अक्षिता पाठक (बोकारो, झारखंड), श्वेतांशु कुमार मिश्र (गोरक्ष, उत्तर प्रदेश), मुदिता वशिष्ठ (चंडीगढ़), प्रेरणा मुकुंद (बेंगलूर, कर्नाटक), दिव्यांश झा (रायपुर, छत्तीसगढ़), सोमी मजुमदार (कोलकाता, पश्चिम बंगाल), गुरशीत कौर खनुजा (छत्तीसगढ़), अभिष्यंत (सोनीपत, हरियाणा), ऊषा शीना (चम्बा, हिमाचल प्रदेश), विभूति गुप्ता (पूर्वी दिल्ली), राजनंदिनी तिवारी (हावड़ा, पं. बंगाल), प्रतीक व्यास (मुंबई, महाराष्ट्र), प्रिया सांगवा (अजमेर, राजस्थान), पार्थ शर्मा (कोटा, राजस्थान), आस्था दुबे (नरसिंहपुर, मध्य प्रदेश), उद्यांश पांडेय (गोरखपुर), साक्षी सिंह (रायबरेली, उत्तर प्रदेश), आरव शर्मा (हिमाचल प्रदेश), मानसी दुबे (मुंबई, महाराष्ट्र), सचिन त्रिपाठी (रीवा, मध्य प्रदेश) व पंकज राणा (नोएडा, उत्तर प्रदेश) शामिल थे।

महाराजा अग्रसेन इंस्टीट्यूट, रोहिणी के भव्य ऑडिटोरियम में आयोजित ‘श्रीराम राष्ट्रीय काव्यपाठ प्रतियोगिता’ का फाइनल गणमान्य अतिथियों व ख्यातिप्राप्त कवियों की उपस्थिति में संपन्न हुआ। मुख्य अतिथि स्वामी चिदानंद सरस्वती (परमाध्यक्ष, परमार्थ निकेतन, ऋषिकेश), विशिष्ट अतिथि डॉ नंदकिशोर गर्ग (कुलाधिपति, महाराजा अग्रसेन विश्वविद्यालय, हिमाचल), विनीत गुप्ता (अध्यक्ष, महाराजा अग्रसेन टेक्निकल एजुकेशन सोसाइटी), जगदीश मित्तल (अध्यक्ष, राष्ट्रीय कवि संगम), बाबा सत्यनारायण मौर्य (संरक्षक, राष्ट्रीय कवि संगम) सहित ख्याति प्राप्त कवि डॉ अशोक बत्रा, प्रवीण शुक्ल, संदीप द्विवेदी, दिनेश देवघरिया, महेश शर्मा, योगेंद्र शर्मा, पी के आजाद आदि की गरिमामयी उपस्थिति रही। बता दें कि अक्षिता बोकारो के वरीय पत्रकार और सुप्रसिद्ध कलाकर व साहित्यकार अरुण पाठक व जयंती पाठक की सुपुत्री है।

-Varnan Live Report.

Previous article21 वर्षों का युवा झारखंड 
Next articleअनिल अग्रवाल को “बिरसा मुंडा झारखंड रत्न” पुरस्कार मिलने पर किया सम्मानित  
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply