बोकारो का दिन झारखंड में सबसे सर्द, अधिकतम तापमान सामान्य से 3.2 डिग्री हुआ कम

0
95

सुबह-शाम अब कंपकपाने लगी सिहरन, दो दिन बाद 13 डिग्री तक पहुंचेगा पारा

बोकारो ः बोकारो सहित पूरे झारखंड में सर्द ने अब अपना असर भली-भांति दिखाना शुरू कर दिया है। सुबह-शाम पिछले कई दिनों से जहां सिहरन महसूस की जा रही थी, वहीं अब दिन में भी अच्छी ठंड का आभास होने है। मौसम विज्ञान केंद्र, रांची की ओर से की ओर से गुरुवार को जारी वेदर बुलेटिन के अनुसार बोकारो जिले में दिन का तापमान पूरे राज्य में भी सबसे कम रिकॉर्ड किया गया। राज्य में अधिकतम तापमान की बात करें, तो बोकारो जिले में यह सबसे कम 26.1 डिग्री सेल्सियस रहा, जो सामान्य से 3.2 डिग्री सेल्सियस कम दर्ज किया गया। दिन का तापमान अपेक्षाकृत कम रहने के कारण धूप का असर भी फीका रहा। दूसरे स्थान पर राजधानी रांची में 28.2 और तीसरे स्थान पर गुमला में 28.7 डिग्री सेल्सियस सेल्सियस अधिकतम कम तापमान रिकॉर्ड किया गया। गुरुवार को बोकारो जिले का न्यूनतम तापमान 16 डिग्री सेल्सियस रहा। 

सुबह-शाम सता रही कनकनी

सर्द का असर अब ऐसा दिख रहा है कि लोगों के सभी गर्म कपड़े अब निकल गए हैं। अहले सुबह  हल्की धुंध देखी जा रही है और सुबह-शाम कनकनी सताने लगी है। गुरुवार को बोकारो इस्पात नगर में लगभग साढ़े 8 किलोमीटर प्रतिघंटे की रफ्तार से हल्की हवा भी चली, जो शीतलहर तो नहीं थी, लेकिन यह ठंडक का अहसास जरूर करा रही थी। ठंड के कारण अब बाजारों में गीजर, रूम हीटर, ब्लोअर आदि की मांग भी बढ़ती दिखने लगी है। मौसम में बदलाव के कारण अमूमन हर घर में लोग सर्दी-जुकाम का शिकार हो रहे हैं।

4 डिग्री सेल्सियस तक लुढ़क सकता है पारा

मौसम विज्ञान केंद्र, रांची के निदेशक अभिषेक आनंद के अनुसार आनेवाले दिनों में सुबह कोहरा और बाद में मुख्य रूप से आसमान साफ तथा मौसम शुष्क रहेगा। अगले पांच दिनों के दौरान अधिकतम तापमान में किसी बड़े बदलाव की संभावना नहीं है। राज्य में अगले 24 घंटे के दरम्यान न्यूनतम तापमान नहीं बढ़ेगा, लेकिन उसके बाद अगले तीन-चार दिनों में इसमें धीरे-धीरे 4 डिग्री सेल्सियस तक की गिरावट हो सकती है। अगले 16 नवंबर तक ऐसा ही मौसम रहने का अनुमान है।

डाल्टनगंज सबसे सर्द

गुरुवार को पिछले 24 घंटे में पूरे राज्य का मौसम शुष्क रहा। सबसे ज्यादा उच्चतम तापमान 32.1 डिग्री सेल्सियस और सबसे कम न्यूनतम तापमान भी 13.5 डिग्री सेल्सियस के साथ डाल्टनगंज में ही दर्ज किया गया।

13 नवंबर को 13, 14 को 14 डिग्री रहेगा न्यूनतम तापमान

मौसम विज्ञान केंद्र की ओर से जारी पूर्वानुमान के अनुसार 11 नवंबर को बोकारो जिले में न्यूनतम तापमान 16 और 12 नवंबर को 15 डिग्री सेल्सियस रहने के बाद 13 नवंबर को 13 डिग्री सेल्सियस पर पहुंचने का अनुमान है। जबकि, 14 नवंबर को यह तापमान 14 डिग्री सेल्सियस तक रह सकता है।

जम्मू में बर्फबारी के बाद बढ़ेगा तापमान

मौसम वैज्ञानिक अभिषेक आनंद के मुताबिक जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश में एक-दो दिनों में हिमवर्षा शुरू हो जाएगी। उसके बाद ठंड का ज्यादा अहसास होने लगेगा। फिलहाल उत्तर-पूर्वी मॉनसून के कारण दक्षिण भारत में हो रही बारिश के चलते पुरवइया हवा चल रही है। इसी के कारण आसमान में बादल छा रहे हैं और धूप कमजोर दिख रही है। पुरवइया हवा बंद होने के बाद न्यूनतम तापमान में कमी आएगी। 12 नवंबर से न्यूनतम तापमान में कमी देखने को मिलेगी और 15 से न्यूनतम तापमान में ज्यादा गिरावट होगी। लिहाजा, वजह से ठंड में ज्यादा बढोत्तरी होगी। फिलहाल पानी वाले इलाकों में कुहासा देखने को मिल रहा है।

© Varnan Live Report.

Previous articleबुराई पर अच्छाई की जीत का प्रतीक है दीपावली ः अमरदीप
Next articleED फिर करेगा हेमंत को तलब, कहा- कथनी और वास्तविकता में है फर्क
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply