Mere Rashke Qamar Tu Ne Pehli Nazar | Maithili Thakur Live NonStop | Tabla- Rupak Jha

0
881
CLICK HERE TO WATCH THE FABULOUS NON-STOP PERFORMANCE.

मिथिला स्वर कोकिला के रूप में अपनी विश्वस्तरीय पहचान बनाने वाली युवा कलाकार मैथिली ठाकुर के गीतों पर बोकारोवासी मंत्रमुग्ध हो झूमते रहे। अवसर था मैथिली कला मंच काली पूजा ट्रस्ट के तत्वावधान में आयोजित तीनदिवसीय काली पूजन उत्सव के समापन का।
‘छाप तिलक सब छीन ली…’, ‘दमादम मस्त कलंदर…’ जैसे गीत सुनाकर भारतीय संगीत की विविधता को उजागर किया। इन गीतों पर हजारों मरीजों के साथ-साथ उपस्थित अन्य शहरवासी खुद को तालियां बजाने और झूमने से नहीं रोक सके।
सूफियाना गीतों पर मैथिली के साथ बोकारो के सुप्रसिद्ध युवा तबलावादक रूपक कुमार झा ने कुशल संगत कर सभी की भरपूर सराहना बटोरी।

नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ-
Facebook- facebook.com/mithilavarnan
Follow us- twitter.com/mithila_varnan

Previous articleMaithili Thakur Sings समदाओन (Samdaon) | Maithili Lokgeet (Vidai Geet) | Tabla- Rupak Jha
Next articleहिन्दी कविता – युद्ध
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply