संभल जाओ बेटियों, वरना जय-जय सियाराम!

0
478

लड़के का प्यार बाप के प्यार से बड़ा नहीं हो सकता है। बाप की इज्जत सरेआम मीडिया में उछालना गलत है। जब जवान होने तक सारा निर्णय पिता के परामर्श से लिया जाता है तो जीवन का इतना बड़ा निर्णय अकेले लेना कितना उचित है। क्या जीवन-साथी चुनने में मां-बाप से पूछने की कोई जरूरत नही? यदि आपका प्यार आपको मां-बाप से अलग करता हो तो उस प्यार की कोई अहमियत नहीं। बरेली से भारतीय जनता पार्टी के विधायक राजेश मिश्रा की बेटी साक्षी मिश्रा और उसके तथाकथित प्रेमी अजितेश के प्रेम का मामला पूरे हफ्ते सुर्खियों में रहा। कल तक जो बेटी बाप की जमकर धुलाई कर रही थी, आज उसे अपने किये पर पछतावा है और उसी बाप से वह क्षमा मांग रही है।
अब बाप भला बाप होता है। वो क्षमा कर भी दे, लेकिन इस अपरिपक्व लड़की के कारण एक घर को जो झेलना पड़ा उसका भुगतान कौन करेगा? अब वो लोग क्या कहेंगे जो साक्षी के समर्थन में जमकर खड़े थे? साक्षी भी अपनी ही बेटी है। बात उसके समर्थन करने की या न करने की नही है। लेकिन, इस घटना ने एक सबक तो भारत की लड़कियों को जरूर सिखा दिया होगा कि शादी जैसे अतिसंवेदनशील मामले में मां-बाप से सलाह लेने की क्या अहमियत होती है।

Photo Courtesy : google images


18 वर्ष की उम्र में संवैधानिक रूप से बालिग हो जाने का यह मतलब बिल्कुल नहीं है कि आपमें समझ और निर्णय क्षमता विकसित हो गयी हो। केवल भावनाओं में आकर किसी के इतिहास की बिना पड़ताल किये उसकी जाल में फंस जाना नादानी ही तो है। इस घटना ने कुछ मीडिया संस्थानों की लोभी प्रवृत्ति और देश की बेटियों की अपरिपक्व सोच को भी उजागर किया है। कुल मिलाकर यही कहना है कि अब भी वक्त है, बेटियां संभल जाएं। इस घटना से सबक सीख लें तो ही कुछ हो सकता है, वरना जय-जय सियाराम!

खुद छोटा होता जाता है वह बड़ा तभी कर पाता है
अपनें पैरों पर बेटी को वह खड़ा तभी कर पाता है।

निज पौधों के सिंचन हेतु वह माली होता जाता है
पौधों को बड़ा बनाने में वह खाली होता जाता है।

सोचो उस क्षण क्या होगा जब वे माली बनना बंद करें
बच्चों के हिस्से आती हो, वो थाली भरना बंद करें।

जब बाप सूर्य बन तपता है, बेटी पलती अरुणाई में
क्यों जाती है निज सुख खातिर वो जुगनू की परछाई में।

क्यों प्रेम नहीं पा पाती है निज सागर की गहराई में
है लानत हर बेटी को जो बह जाती है तरुणाई में।।

  • Varnan Live.
Previous articleये पानी कहीं ले न ले जान!
Next articleबिहार में फिर ‘जल’जला
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply