65+ सीटें जीतने की जुगत में भिड़ी भाजपा, बोकारो में बनाई रणनीति

0
360
photo courtesy : google images

बोकारो। आगामी विधानसभा चुनाव को लेकर भाजपा पूरी मुस्तैदी के साथ तैयारी में भिड़ी है। इस बार के चुनाव में पार्टी 65 प्लस सीटें जीतने की मुहिम में जुट गयी है और इसे लेकर अपनी रणनीति बनानी शुरू कर दी है। रणनीति को लेकर बोकारो में बुधवार को तीनदिवसीय बैठक शुरू हुई। स्थानीय बोकारो क्लब में आयोजित इस बैठक की कमान भाजपा के राष्ट्रीय सह सगंठन मंत्री सौदान सिंह और भाजपा प्रदेश के महामंत्री अनंत ओझा सभांल रहे हैं। इनके अलावा मंत्री सह चंदनकियारी विधायक अमर कुमार बाउरी, बोकारो विधायक विरंची नारायण, बेरमो विधायक योगेश्वर महतो बाटुल और धनबाद के विधायक राज सिंहा भी शामिल हैं। पहले दिन धनबाद के मंडल अध्यक्ष व भाजपा नेताओ के साथ बंद कमरे में बैठक चली।बैठक से मीडिया को पूरी तरह दूर रखा गया है। गुरुवार को बोकारो जिले के मंडल अध्यक्षों व नेताओं के साथ बैठक होगी। कहा जा रहा है कि सदस्यता अभियान को प्रभावी बनाने को लेकर बंद कमरों में चर्चा की जा रही है, ताकि बीजेपी आने वाले विस चुनाव में जो आकड़ों की बात कह रही है, वह मिल सके। भाजपा के प्रदेश महामंत्री अनंत ओझा ने कहा कि विस चुनाव को लेकर बीजेपी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अमित शाह ने झारखंड के नेताओ के साथ बैठक कर 65 प्लस का लक्ष्य दिया था। साथ ही कार्यकारी अध्यक्ष जगत प्रसाद नड्डा ने जो कार्य दिए है उसको पूरा करने को लेकर बैठकें आयोजित की जा रही है। ओझा ने विस चुनाव को लेकर पार्टी के एक नेता द्वारा अपने को प्रत्याशी घोषित करने के सवाल पर कहा कि उन्हें ऐसी कोई जानकारी नही है और लेकिन पार्टी स्तर पर ऐसी कोई बात नहीं है।

  • Varnan Live Report.
Previous articleलोगों ने बनाया उम्मीदवार, धर्मवीर ने भरी चुनावी हुंकार
Next articleसिरफिरे तलाकशुदा पति ने युवती को ब्लेड से किया घायल, हुआ गिरफ्तार
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply