मधुश्रावणी संपन्न, शिव-पार्वती पूजन से नवविवाहिताओं ने ली सुखद गृहस्थ-जीवन की सीख

0
748

संवाददाता
बोकारो। मिथिलांचल पारंपरिक त्यौहारों में से एक है मधुश्रावणी, जो नवविवाहिताओं के लिये जीवन की एक सीख से कम नहीं है। 15 दिवसीय नवसुहागिनों के इस महाव्रत का समापन शनिवार को विधिवत हो गया। एक पखवाड़े के इस कार्यक्रम में नवविवाहिताओं ने शिव-पार्वती की विशेष पारम्परिक पूजा के माध्यम से सुखद गृहस्थ जीवन की सीख ली। उल्लेखनीय है कि बोकारो में बड़ी तादाद में मिथिलावासी रहते हैं और प्रत्येक वर्ष यहां मधुश्रावणी पूजा पूरे धूमधाम व उल्लास के साथ मनायी जाती है। इस वर्ष भी यहां कई मैथिल परिवार में नवविवाहितों ने इस व्रत को संपन्न किया। उनके घर एवं आसपास के इलाके में फूल लोढ़ने वाली नवविवाहिताओं की चहल-पहल और मधुश्रावणी गीतों से वातावरण मुग्ध बना रहा। उल्लेखनीय है कि श्रावण माह में नवविवाहिता अपने पति के दीर्घायु होने एवं घर में सुख समृद्धि की कामना करती है पूरे व्रत के दौरान नवविवाहितायें गौरी-शंकर की विशेष पूजा-आराधना करती हैं। नवविवाहिता को शिवजी पार्वती समेत मैना पंचमी, मंगला गौरी, पृथ्वी जन्म, पतिव्रता, महादेव की कथा, गौरी की तपस्या, शिव-विवाह, गंगा-कथा एवं बिहुला कथा जैसे 14 खंडों की कथा सुनाई जाती है। इन कथाओं के माध्यम से शंकर-पार्वती के जीवन, पति-पत्नी के बीच होने वाली नोंक-झोंक, रूठना-मनाना, प्यार मनुहार जैसी बातों का जिक्र होता है, ताकि नवदंपति इनसे सीख लेकर अपने वैवाहिक जीवन को सुखमय बना सकें।

क्या है विशेष पारंपरिक विधि-विधान

madhushrawani in kharka

मधुश्रावणी पूजा शुरू होने से पहले दिन नाग-नागिन व उनके पांच बच्चे (बिसहारा) को मिंट्टी से गढ़ा जाता है। साथ ही हल्दी से गौरी बनाने की परंपरा है। 13 दिनों तक हर सुबह नवविवाहिताएं फूल और शाम में पत्ते तोड़ने जाती हैं। इस पर्व में नवविवाहिता नयी दुल्हन की तरह सज-संवरकर तैयार हो सखियों संग हंसी-ठिठोली करती हर दिन डाला लेकर निकलती हैं। वहीं पंडित जी की कथा मनोयोग से सुनती हैं। पर्व समापन दिन नवविवाहिता के पति फिर से सिंदूरदान करते हैं और विवाहिता के पैर में टेमी (रुई की बत्ती) दागते हैं। इस त्यौहार के साथ प्रकृति का भी गहरा नाता है।

             मिट्टी और हरियाली से जुड़ी इस पूजा के पीछे का आशय पति की लंबी आयु होती है। यह पूजा नवविवाहिताएं अक्सर अपने मायके में ही करती हैं। पूजा शुरू होने से पहले ही उनके लिए ससुराल से श्रृंगार पेटी आ जाती है, जिसमें साड़ी, लहठी (लाह की चूड़ी), सिन्दूर, धान का लावा, जाही-जूही (फूल-पत्ती) होता है। मायकेवालों के लिए भी तोहफे होते हैं। सुहागिनें फूल-पत्ते तोड़ते समय और कथा सुनते वक्त एक ही साड़ी हर दिन पहनती हैं। पूजा-स्थल पर अरिपन (रंगोली) बनायी जाती है। फिर नाग-नागिन, बिसहारा पर फूल-पत्ते चढ़ाकर पूजा शुरू होती है। महिलाएं गीत गाती हैं, कथा पढ़ती और सुनती हैं। ऐसी मान्यता है कि माता गौरी को बासी फूल नहीं चढ़ता और नाग-नागिन को बासी फूल-पत्ते ही चढ़ते हैं। मैना (कंचू) के पांच पत्ते पर हर दिन सिन्दूर, मेंहदी, काजल, चंदन और पिठार से छोटे-छोटे नाग-नागिन बनाए जाते हैं। कम-से-कम सात तरह के पत्ते और विभिन्न प्रकार के फूल पूजा में प्रयोग किए जाते हैं।

  • Varnan Live Report.
Previous articleमेयर की अगुवाई में चास से विदा हुआ विशाल डाकबम जत्था
Next articleबोकारो स्टील प्लांट में नये उद्यान का शुभारम्भ, CEO ने किया उद्घाटन व पौधरोपण
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply