पक्ष-विपक्ष का अखाड़ा बोकारो : कहीं जन-आशीर्वाद, कहीं जनाक्रोश तो कहीं जनभावना

0
380

विजय कुमार झा
बोकारो :
चुनावी मौसम ने अपना रंग दिखाना अब शुरू कर दिया है। इस हफ्ते बोकारो भगवा झंडे और तिरंगे से रंगा तथा पक्ष-विपक्ष का अखाड़ा बना रहा। लगातार तीन-चार दिनों तक शहर में विभिन्न राजनीतिक पार्टियों की रैलियां होती रहीं। सभी दलों के पक्ष में खूब नारेबाजियां हुईं और कार्यकर्ताओं की चहल-कदमी और डीजे की धमक वाले चुनावी गीतों से सियासी माहौल चरम पर रहा। इसी कड़ी में मुख्यमंत्री रघुवर दास ने जहां जोहार जन-आशीर्वाद यात्रा के दौरान यहां पहुंच लोगों से इस बार के चुनाव के लिए भी आशीर्वाद मांगा, वहीं दूसरी तरफ उसी दिन कांग्रेस सहित तमाम विपक्षी पार्टियों के नेताओं व कार्यकर्ताओं ने स्थानीय मजदूर मैदान में जुटकर जनाक्रोश रैली आयोजित की। इसके बाद जदयू ने भी अलग से बकरी बाजार में जनभावना रैली का आयोजन कर सरकार के खिलाफ अपनी रणनीति घोषित की। कुल मिलाकर सबों ने अपनी चुनावी हुंकार भर दी है।

मुख्यमंत्री ने गिनाईं उपलब्धियां, कांग्रेस ने दिखाया आईना
मुख्यमंत्री रघुवर दास ने बंगाल सीमा चंदनकियारी से लेकर जिले के कोयलांचल तक अपनी सरकार की पिछले पांच साल की जहां उपलब्धियां गिनाईं, वहीं बोकारो इस्पात नगर के मजदूर मैदान में कांग्रेस के प्रमंडलीय कार्यकर्ता सम्मेलन में पार्टी के कई दिग्गज नेताओं ने सरकार को आईना दिखाकर उसे घेरने का प्रयास किया। भाजपा की जन-आशीर्वाद यात्रा लेकर बोकारो पहुंचे मुख्यमंत्री रघुवर दास का जगह-जगह जोरदार स्वागत किया गया। इस यात्रा में उनके साथ राज्य सरकार के मंत्री व चंदनकियारी के विधायक अमर कुमार बाउरी भी मौजूद रहे।

जगह-जगह स्वागत
जोहार जन-आशीर्वाद यात्रा के तहत पहुंचे मुख्यमंत्री रघुवर दास का यहां विभिन्न क्षेत्रों में भव्य स्वागत किया गया। मुख्यमंत्री का हेलीकाप्टर सुदामडीह स्थित नगीना बाजार फुटबॉल मैदान में उतरा, जहां उन्हें जिला प्रशासन द्वारा गार्ड आॅफ आॅनर दिया गया। वहां से चंदनकियारी के विधायक एवं मंत्री अमर कुमार बाउरी व सांसद पशुपति नाथ सिंह ने उनकी आगवानी की।

लोगों का कुशल-क्षेम पूछा
मुख्यमंत्री ने अपने घरों के बाहर खड़े ग्रामीणों, वृद्धजनों व बच्चों तक से हाथ मिलाकर उनका कुशलक्षेम पूछा। इससे बच्चे व बड़े तक गदगद हो गए। इस क्रम में उन्होंने पिछले पांच साल के दौरान अपनी सरकार द्वारा किये गये कार्यों पर संक्षिप्त प्रकाश डाला और सरकार की उपलब्धियां गिनाते हुए आगामी चुनाव में भाजपा के लिए आशीर्वाद मांगा। इसके उपरांत सुभाष चौक होते हुए शहीद चौक पर डॉ भीमराव अंबेडकर की मूर्ति पर माल्यार्पण करने के पश्चात बरकामा, रामडीह मोड़, चन्द्रा, साबड़ा, टियाडा, हरिडीह व मामरकुदर के रास्ते वाहन से ही लोगों का अभिवादन करने के पश्चात चास के रामडीह मोड़ स्थित विनोद बिहारी महतो की मूर्ति पर माल्यार्पण कर चंदनकियारी विधानसभा क्षेत्र की यात्रा की समाप्ति की। इस दौरान उनके भारी संख्या में मोटरसाइकिल सवार कार्यकर्ताओं ने रैली की शक्ल में मुख्यमंत्री की आगवानी की। यात्रा के दौरान मुख्यमंत्री ने चंदनकियारी मध्य बाजार स्थित प्राचीन दुर्गा मंदिर में पहुंचकर दर्शन किया। इस क्रम में पुजारी ने उन्हें माता की चुनरी भेंट की।

चास में हुई फूलों की वर्षा
जन आशीर्वाद यात्रा के तहत चास में भी विभिन्न जगहों पर मुख्यमंत्री का भाजपा कार्यकर्ताओं व नेताओं ने जोरदार स्वागत किया। चास मेनरोड में मुख्यमंत्री के काफिले पर फूलों की वर्षा की गयी। सबसे पहले भवानीपुर के पत्थरकट्टा चौक पर बोकारो विधायक बिरंची नारायण के नेतृत्व में उनका स्वागत किया गया। इस मौके पर रांची सांसद संजय सेठ, जिलाध्यक्ष बिनोद महतो, चास उप महापौर अविनाश कुमार, रोहित लाल सिंह, ऋतुरानी सिंह, चास महामंत्री रंजीत बर्णवाल, ओबीसी मोर्चा अध्यक्ष राजेश बर्णवाल, युवा नेता संजीत पोलटा, राजदेव महथा, हाबुलाल गोराई, अशोक जगनानी, अभय कुमार मुन्ना आदि मौजूद थे। चास के जोधाडीह मोड़ स्थित कुरमी छात्रावास के समक्ष भाजपा के वरीय नेता व पूर्व जिलाध्यक्ष राजेन्द्र महतो तथा महावीर चौक पर मो. सुल्तान के नेतृत्व में स्वागत किया गया। चेकपोस्ट में भाजपा नेत्री आरती राणा एवं भाजपा नेता कृष्णा तिवारी ने मुख्यमंत्री रघुवर दास को तलवार भेट कर स्वागत किया।

रितुडीह में विपक्ष पर किया हमला
बोकारो के रितुडीह में आयोजित कार्यक्रम के दौरान मुख्यमंत्री रघुवर दास ने विपक्ष पर निशाना साधते हुए झामुमो और कांग्रेस पर जोरदार हमले किये। उन्होंने कहा कि झारखंड ने जो विकास पिछले पांच वर्षों में किया, वह बेमिसाल है। उन्होंने कहा कि विपक्ष के नेता सिर्फ झारखंड को लूटने में लगे रहे। उन्होंने सोरेन परिवार पर झारखंडवासियों के साथ छलावे का आरोप लगाते हुए विपक्ष पर खूब निशाने साधे। सत्ता में पुन: वापसी से जन आशीर्वाद मांगने के साथ-साथ उन्होंने बोकारो की इंडस्ट्रियल टाउनशिप को और विकसित किए जाने तथा माराफारी को बोकारो स्टील सिटी से पृथक करने की भी बात कही।

सरकार को उखाड़ फेंकने का आह्वान
प्रदेश में विधानसभा चुनाव के लिए भाजपा के साथ-साथ कांग्रेस भी कमर कस चुकी है। इसी क्रम में जनाक्रोश रैली के बहाने नगर के सेक्टर-4 स्थित मजदूर मैदान में कांग्रेस का उत्तरी छोटानागपुर प्रमंडलीय कार्यकर्ता सम्मेलन आयोजित हुआ। इस दौरान कार्यकर्ताओं ने रैली भी निकाली, जिसमें कांग्रेस के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह, मध्यप्रदेश सरकार के मंत्री सह झारखड के सह-प्रभारी उमंग सिंघार, प्रदेश कांग्रेस अध्यक्ष रामेश्वर उंराव, कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर, सीके ठाकुर के अलावा प्रदेश व जिला स्तर के पदाधकारी समेत बोकारो, हजारीबाग, रामगढ़, चतरा, कोडरमा और धनबाद के नेता व कार्यकर्ता शामिल हुए। छह जिलों से आये नेता व कार्यकर्ता झारखंड प्रभारी और सह प्रभारी के सामने अपने-अपने नेताओं के पोस्टर व बैनर के साथ शक्ति-प्रर्दशन करते नजर आये।

मंच से वैसे नेताओं को यहां शक्ति प्रर्दशन नहीं करने की नसीहत दी गयी। मंच से कांग्रेस के प्रदेश अध्यक्ष रामेश्वर उरांव, कार्यकारी अध्यक्ष राजेश ठाकुर, पूर्व मंत्री राजेन्द्र प्रसाद सिंह, मन्नान मल्लिक व ददई दुबे समेत अन्य नेताओं से भाजपा की डंबल इंजन सरकार को घेरने का प्रयास किया। जनाक्रोश रैली को संबोधित करते हुए पार्टी के झारखंड प्रभारी आरपीएन सिंह ने कहा कि मुख्यमंत्री आशीर्वाद यात्रा निकाल रहे हैं। आखिर किसका आशीर्वाद लेने के लिए? जबकि जनता के लिए कुछ भी नहीं किया। उन्होंने राज्य सरकार पर भ्रष्ट्राचारियों को संरक्षण देने का भी आरोप लगाया। जबकि पार्टी के सह-प्रभारी उमंग सिंधाल ने प्रदेश सरकार पर लोगों को सिर्फ ठगने का आरोप लगाया। उन्होंने कहा कि प्रदेश मे शिक्षा, बेरोजगारी समेत कई मुद्दे हैं, लेकिन उसको भटकाने का काम डबल इंजन की सरकार कर रही है। उन्होंने ऐसी सरकार को झारखंड से उखाड़ फेंकने का आह्वान किया।

विकास के लिए नीतीश मॉडल की जरूरत : रामचंद्र
जनता दल (यू) बोकारो के तत्वावधान में सेक्टर-2 बकरी बाजार के मैदान में जनभावना सम्मेलन जदयू के प्रदेश उपाध्यक्ष अशोक चौधरी की अध्यक्षता में हुई। इसमें भारी संख्या में जदयू कार्यकर्ताओं ने भाग लिया। कार्यक्रम के मुख्य अतिथि पार्टी के राष्ट्रीय महासचिव राज्यसभा संसदीय दल के नेता रामचंद्र प्रसाद सिंह ने कहा कि झारखंड के विकास के लिए नीतीश मॉडल की जरूरत है। उन्होंने कहा कि जमीन के ऊपर जो भी होता है, किसान का होता है, लेकिन जब जमीन के नीचे कोई भी चीज, मसलन- कोयला, अभ्रक या अन्य कोई भी खनिज पदार्थ निकलता है तो किसान को किनारे कर दिया जाता है और सरकार उसे ले लेती है। खनिज पदार्थ से मिल रही रायल्टी में किसानों का भी हिस्सा होना चाहिए।

सिंह ने बोकारो में विस्थापन की समस्या दूर करने में भी अपने स्तर से मदद की बात कही।
नीतीश जो कहते हैं, वो करते हैं। इसी बल पर पूरे देश में उन्होंने अपनी साख कायम की है। मौके पर झारखंड प्रदेश के अध्यक्ष सालखन मुर्मू ने कहा नीतीश मॉडल के कारण ही आज 65% महिलाएं पंचायती राज में काबिज हैं। कहा कि भाजपा और झामुमो से झारखंड के अच्छे भविष्य की उम्मीद बेकार है। अध्यक्षीय संबोधन में अशोक चौधरी ने कहा कि नीतीश माडल अतुलनीय है। जदयू का मुख्य एजेंडा न्याय के साथ विकास है। उन्होंने स्थानीय विधायक पर हमला बोलते हुए कहा कि वह मोदी लहर की उपज और एक्सीडेंटल विधायक हैं। विस्थापन, स्लम तथा उच्चतर शिक्षण के मामले में वह विफल रहे हैं। सभा को जदयू झारखंड प्रभारी अरुण कुमार, राष्ट्रीय सचिव रविंद्र कुमार ने भी संबोधित किया। सम्मेलन में संजय सिंह अपने सैकड़ों समर्थकों के साथ पार्टी में शामिल हुए, जिनका रामचंद्र प्रसाद सिंह ने माला पहनाकर स्वागत किया।

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.