लोकतंत्र के महापर्व में कहीं उत्साह, तो कहीं बेरुखी : बोकारो में मात्र 51.5%, तो चंदनकियारी में रिकार्ड 75% मतदान

0
313

संवाददाता
बोकारो ः झारखंड विधानसभा चुनाव- 2019 के चाैथे चरण में बोकारो जिले के बोकारो, चंदनकियारी एवं डुमरी विधानसभा क्षेत्रों में सोमवार को छिटपुट घटनाओं को छोड़कर शांतिपूर्वक मतदान सम्पन्न हो गया। लोकतंत्र के इस महापर्व में एक तरफ जहां ग्रामीण वोटरों का अपार उत्साह दिखा, वहीं दूसरी तरफ शहरी बाबू बने मतदाताओं की भारी बेरुखी भी सामने आई। प्राप्त आंकड़ो के अनुसार बोकारो विधानसभा क्षेत्र में मतदान का प्रतिशत मात्र 51.50 प्रतिशत तथा चंदनकियारी में रिकार्ड तोड़ 75 प्रतिशत मतदान हुआ। बोकारो में यह आंकड़ा 2014 के विधानसभा चुनाव से भी कम है। पिछले विस चुनाव में यहां 53.47 तथा चंदनकियारी में 73.43 प्रतिशत मतदान सम्पन्न हुआ था। 2009 में विगत विधानसभा चुनाव में बोकारो में लगभग 44 तथा चंदनकियारी में लगभग 65 प्रतिशत मतदान हुए थे। यानी एक तरफ प्रशासन की लाख कवायदों के बावजूद बोकारो में स्थिति डमाडोल हुई है, वहीं दूसरी तरफ चंदनकियारीवासियों ने अपनी भरपूर सजगता का परिचय दिया है। उपायुक्त सह जिला निर्वाची पदाधिकारी मुकेश कुमार के अनुसार मतदान शांतिपूर्ण रहा। कहीं से भी किसी अप्रिय घटना की सूचना नहीं है। वैसे कुछेक बूथों पर वोट बहिष्कार, कहीं हंगामा तो कहीं-कहीं तकनीकी खराबी के कारण कुछ मिनट विलम्ब से वोटिंग शुरू होने की खबर है, परंतु कुल मिलाकर सबकुछ शांतिपूर्ण बीत गया। इसके साथ ही बोकारो विधानसभा क्षेत्र के 25 और चंदनकियारी के 15 प्रत्याशियों की तकदीर ईवीएम में कैद हो गई। बोकारो विधानसभा के 5,26,660 में मतदाता है।

खराब मौसम के बाद भी पहुंचे वोटर
मतदान के दौरान जहां कइयों ने बेरुखी दिखाई तो आधे मतदाता उत्साहित भी दिखे। खराब मौसम के बाद भी मतदाता निर्धारित समय प्रातः सात बजे से वोटिंग में लग गए। कोई अकेले, तो कोई गोद में अपने बच्चे को लेकर तो कोई पूरे परिवार, इष्ट-मित्र व पड़ोसियों के साथ झुंड बनाकर मतदान केन्द्रों पर पहुंचा। सभी ने कतारबद्ध होकर अनुशासित तरीके से अपने पसंदीदा प्रत्याशी के समर्थन में मत डाले। भारतीय नागरिक के रूप में हर खासो-आम ने अपने वोट डालकर लोकतंत्र की मजबूती में अपना योगदान किया। पहली बार वोट डालने पहुंचे युवा वोटरों में मतदान के बाद काफी उत्साह देखा गया।

लाचारी को दिखाया ठेंगा
पांच वर्षों में एक बार राज्य की तकदीर बदलने का मौका किसी जागरुक वोटर ने नहीं चूका। लोकतंत्र के इस पावन पर्व में अपनी भागीदारी सुनिश्चित करने में कई वोटरों ने अपनी शारीरिक अक्षमता व लाचारी को भी ठेंगा दिखा डाला। बोकारो व चंदनकियारी विधानसभा क्षेत्र के कई मतदान केन्द्रों पर ऐसे बहुत से मतदाता वोट डालने पहुंचे जो अत्यंत वृद्धावस्था में थे, विकलांगता से ग्रस्त थे और ठीक से खुद चल पाने में भी अक्षम थे। परंतु, ऐसे वोटरों ने अपनी लाचारी को मतदान में आड़े नहीं आने दिया और पूरे उत्साह के साथ बूथों पर पहुंचकर उन्होंने अपने मताधिकार का प्रयोग किया। कोई खाट पर लदकर तो कोई दूसरों के सहारे बूथों पर पहुंचकर मतदान करता पाया गया। इसी क्रम में आदर्श को-आपरेटिव कालोनी में 105 साल की वृद्धा सीता देवी का भी जज्बे से भर पहुंचना और पूरे अधिकार से वोट डालना प्रेरणाप्रद रहा।

हर खासो-आम रहे संजीदा
अपने मताधिकार को लेकर हर खासो-आम वोटर सजग रहे। शहर के गणमान्यजनों के साथ-साथ तमाम प्रत्याशियों ने उत्साहपूर्वक पहुंच अपने वोट डाले। मंत्री सह चंदनकियारी विधायक अमर कुमार बाउरी, बोकारो विधायक सह भाजपा प्रत्याशी बिरंची नारायण सहित कांग्रेस की श्वेता सिंह, पूर्व सीएम शिबू सोरेन आदि सभी वोट डालने पहुंचे।

सुरक्षा-व्यवस्था रही चाक-चौबंद
बोकारो, चंदनकियारी में मतदान के दौरान सुरक्षा चाक-चौबंद रही। परिन्दा भी पर न मार सके, ऐसी सुरक्षा बहाल की गयी थी। प्रशासनिक गंभीरता के परिणामस्वरूप यह सं भव हो सका। प्रत्येक बूथ पर पर्याप्त सुरक्षाबल के जवान तैनात देखे गये। जिला पुलिस बल के पुलिसकर्मियों व पदाधिकारियों के अलावा एसएसबी, सीआरपीएफ, बीएसएफ के जवान मुस्तैदी से डटे रहे। कोई बूथों के मुख्यद्वार, कोई मतदान-केन्द्र में भीड़- भाड़ को नियंत्रित करने हेतु तैनात था तो कोई बूथ की छतों पर चढ़कर चौतरफा निगरानी में लगा रहा।

पहली बार बूथ एप का प्रयोग
बोकारो में इस विधानसभा चुनाव से पहली बार बूथ एप का प्रयोग किया गया। पहले जहां मतदाताओं को काफी देर कतार में लगकर अपनी बारी का इंतजार करना पड़ता था, वहीं अब बूथ एप से सीधे क्यूआर कोड स्कैनिंग की नई प्रणाली ने इसे सरल और सुविधाजनक बना दिया।

  • Varnan Live Report.

Leave a Reply

This site uses Akismet to reduce spam. Learn how your comment data is processed.