चुनावी सरगर्मी के बीच बदला मौसम का मिजाज, लुढ़का पारा, आज से और बढ़ेगी ठंड

0
466
कोहरे की चादर में लिपटा बोकारो का पत्थरकट्टा चौक इलाका।
संवाददाता
बोकारो। 16 दिसंबर को भले ही बोकारो में मतदान संपन्न हो गया, लेकिन 23 दिसंबर को मतगणना होने तक चुनावी सरगर्मी लगातार जारी है। इसी सियासी तापमान के बीच मौसम का तापमान अब अपने रंग में दिख रहा है। पिछले दिनों लगातार दो दिनों की बारिश के बाद यहां मौसम ने अचानक करवट ले ली। यह बदलाव शनिवार से ही शुरू हो गया, जिसके बाद अब धीरे-धीरे तापमान में लगातार गिरावट देखी जा रही है। शनिवार को 18, रविवार को 17 और सोमवार को लगभग 16 डिग्री सेल्सियस के बाद मंगलवार को पारा लुढ़ककर सीधे 11 डिग्री सेल्सियस पर पहुंच गया। मंगलवार को दिनभर सुबह से ही आसमान में बादल छाए रहे। बस कुछ मिनटों के लिए सूरज की झलक दिखी। उसके बाद दिनभर भगवान भास्कर के दर्शन नहीं हुए। स्थिति ऐसी रही कि अधिकाधिक लोग अपने घरों में दुबकने को विवश रहे।
      वहीं, विभिन्न चौक-चौराहों, रैनबसेरा, मोड़, बाजार आदि जगहों पर लोगों ने खुद से अलाव की व्यवस्था की, जिसके किनारे चुनावी चर्चा का दौर चालू हो चुका है। किस प्रत्याशी के हिस्से जीत मिलेगी और किसे हार, बस इसकी ही समीक्षा चल रही है। इधर, मौसम संबंधी सूत्रों की मानें तो पश्चिमी विक्षोभ की वजह से मौसम में ये बदलाव देखने को मिल रहे हैं। आने वाले दिनों में बोकारो एवं आसपास के इलाके में ठंड और बढ़ने के आसार हैं। 17 दिसंबर को न्यूनतम तापमान घटकर 11 डिग्री सेल्सियस होने के बाद 18 दिसंबर को न्यूनतम तापमान 8 डिग्री सेल्सियस बताया जा रहा है। 19 को भी यही होने की संभावना है। जबकि 20 को न्यूनतम तापमान 10 डिग्री सेल्सियस रह सकता है। कुल मिलाकर शहर में अब ठंड अब अपने परवान की ओर बढ़ती चली जा रही है। दिन में बादल और शाम होने से लेकर अहले सुबह कर छाए कोहरे सर्द का अहसास करा रहे हैं।
– Varnan Live Report.
Previous articleलोकतंत्र के महापर्व में कहीं उत्साह, तो कहीं बेरुखी : बोकारो में मात्र 51.5%, तो चंदनकियारी में रिकार्ड 75% मतदान
Next articleDGGI Mumbai busts major IGST refund racket, arrests one
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply