झारखंड में जिस वृद्ध की हुई थी कोरोना से सबसे पहली मौत, उसका भाई भी निकला कोरोना पॉजिटिव

0
470
Photo courtesy : google images
संवाददाता
बोकारो। बोकारो जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की संख्या अब 10 हो गई है।सोमवार को एक और कोरोना पॉजिटिव मरीज पाया गया। मामला पहले से हॉटस्पॉट बने साड़म से ही सामने आया है। उसी साड़म से, जहां के रहने वाले 75 वर्षीय बुजुर्ग की मृत्यु राज्य में कोरोना से सबसे पहली मौत थी। 50 वर्षीय यह नया मरीज उसी मृत बुजुर्ग का भाई बताया जा रहा है। सिविल सर्जन डॉ. अशोक कुमार पाठक ने इसकी पुष्टि करते हुए बताया कि मृत बुजुर्ग के संपर्क में आने वाला उसका भाई एक क्वारेंटाइन सेंटर में पहले से ही आइसोलेट कर रखा गया था। जांच के लिए उसका सैंपल धनबाद भेजा गया था, जहां से सोमवार को रिपोर्ट जारी होने के बाद उसमें कोरोना पॉजिटिव होने का पता चला। उसे बोकारो जनरल अस्पताल के कोविड- 19 वार्ड में भेजा गया है।
बता दें कि साड़म से इस पांचवें मरीज के मिलने के साथ ही बोकारो जिले में कोरोना पॉजिटिव मरीजों की कुल संख्या 10 हो चुकी है। इसके पहले उसी मृत बुजुर्ग का भाई और उसके दो भतीजे कोरोना पॉजिटिव पाए गए थे। अब एक और भाई के पॉजिटिव पाए जाने से हड़कंप मच गया है।
इसके अलावा जिले के चंद्रपुरा प्रखंड अंतर्गत तेलो और पिपराडीह में भी पांच कोरोना पॉजिटिव पाए गए हैं। 8 अप्रैल की देर रात बीजीएच में इलाजरत कोरोना मरीज की मृत्यु के बाद से ही लगातार साड़म और आसपास के इलाके में पूर्ण लॉकडाउन है। अब एक और मामला सामने आने के बाद एक बार उस इलाके में प्रशासनिक सक्रियता और एहतियातन उपाय तेज कर दिए गए हैं। जिले में कोरोना पॉजिटिव कुल 10 मरीजों में से एक की मौत हो गई है, जबकि पहले से आठ बीजीएच में इलाजरत हैं। अब नौंवे मरीज को भी बीजीएच में ले जाने की तैयारी खबर लिखे जाने तक जारी थी।
Previous articleवेदांता इलेक्ट्रोस्टील ने 250 कुष्ठ रोगियों के बीच किया सूखा राशन व सेफ्टी किट का वितरण
Next article#Corona Research मामले में बोकारो से मिल सकती है बड़ी उपलब्धि, जानिए कैसे…
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply