बैंकिंग सुधार के नाम पर जमापूंजी से खिलवाड़ की है साजिश : दास

0
174

बोकारो। मजदूर अधिकारों औऱ सार्वजनिक क्षेत्र के उपक्रमों के निजीकरण के मुद्दे को लेकर गुरुवार को आहुत मजदूर संगठनों की हड़ताल का बोकारो में व्यापक असर देखा गया। एक तरफ जहां औद्योगिक संगठनों से जुड़े श्रमिक संगठनों की ओर से जगह-जगह प्रदर्शन किए गए, वहीं बैंक-बीमा के लोग भी आंदोलन में शामिल हुए। कई विस्थापित संगठनों ने भी इस हड़ताल को अपना समर्थन दिया। बोकारो जिले के बैंकों में भी पूर्ण हड़ताल रही। बैंकों में कार्यरत अन्य संगठनों द्वारा हड़ताल का नैतिक समर्थन किया गया था। फलस्वरूप पूर्णतया कामकाज बंद रहा एवं बैंकों में ताले लटके रहे। बैंक कर्मचारियों ने अपनी-अपनी शाखाओं के सामने खड़े होकर नारेबाजी की। उन्होंने सरकार से जनविरोधी श्रम सुधार कानूनों को वापस लेने, बैंकिंग सुधार कानूनों को वापस लेने, बैंकों का निजिकरण न करने, सार्वजनिक क्षेत्र के बैंकों को और सुदृढ़ करने, कारपोरेट घरानों द्वारा ऋण लेकर बैंको का पैसा नहीं चुकाने से हो रही आम जनता के जमा पूंजी पर हो रही लूट पर रोक लगाने के लिए कड़े कानून का प्रावधान किए जाने सहित अन्य मांगों पर प्रकाश डाला। नारेबाजी में महिला कर्मचारियों की भी अच्छी उपस्थिति देखी गई। इस अवसर पर आॅल इंडिया बैंक इम्पलाईज एसोसिएशन से संबद्ध झारखण्ड प्रदेश बैंक इम्प्लाइज एसोसिएशन के संयुक्त सचिव तथा बोकारो जिला संयोजक एसएन दास ने कहा कि जहां भारत सरकार द्वारा तथाकथित बैंकिंग सुधार के नाम पर आम जनता की जमापूंजी से खिलवाड़ करने की साजिश करते हुए बैंकों के निजीकरण का प्रयास किया जा रहा है, वहीं दुसरी तरफ काॅरपोरेट घरानों को बैंकों का लाइसेंस देकर उन्हें बैंकिंग व्यवसाय हस्तान्तरित करने का प्रयास किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि आम जनता के जमा पैसों का सही संरक्षक सरकार ही हो सकती है न कि कोई निजी पूंजीपति। अतः हम अंतिम दम तक सरकार के बैंकों के निजीकरण के मंसूबों को विफल करने हेतु प्रयासरत एवं संघर्षरत रहेंगे। हड़ताल की सफलता में एसएन दास सहित राजेश ओझा, राजेश श्रीवास्तव, एसपी सिंह, अजीत सिन्हा, विभाष झा, अरूण कुमार, प्रदीप झा, अनिल कुमार, पीके श्रीवास्तव, सुदीप पांडेय, राकेश मिश्रा, माणिक दास, अजय जरीका, सागर आचार्या, प्रेम कुमार, नीरज तिवारी, मनमीत कौर, सरिता कुमारी, रेखा कुमारी आदि मौजूद रहे।

– Varnan Live Report.

Previous articleMV E-Paper
Next articleअमोल पालेकर के जन्मदिन पर कलाकारों ने ऐसे सजाई सुरों की महफ़िल
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply