Achievement… Vedanta ESL bags SAP Award

0
301

Bokaro : ESL Steel Limited, a Vedanta Group Company and a key national steel player, has bagged the prestigious SAP Award for a group wide transformation of S/4 HANA in the “Running Real Time Live Enterprise” category.

The award was presented to ESL for forward-thinking and harnessing the power of the latest SAP products and technologies to become an intelligent enterprise, thrive in new business realities, and create positive economic, environment and/or social impact to help the world run better.

Commenting on the win, Pankaj Malhan, CEO, ESL Steel Limited said, “The award is a testimony of ESL’s constant efforts towards innovation and research. The opportunity gave ESL a chance to showcase its success and highlight its innovation leadership. The appreciation in the form of the award is overwhelming because we at ESL take it as our duty and responsibility to touch the lives of people through technology innovation. It is a proud moment and I would like to congratulate the entire team of ESL for this achievement.”

Mr. Vivek Venkata, Customer Success Executive, SAP India added, “We had set certain benchmarks for the SAP Awards that ESL not just met but surpassed. Their high standards of technology and innovation gave them an edge over the other enterprises as the company is constantly trying to set new benchmarks and contribute towards creating a positive change in the business world. SAP is happy to hand over the award to the most deserving company.”

ESL outputs 1.5 MTPA
Located in Siyaljori village in Bokaro district of Jharkhand, ESL is a leading manufacturer of steel products. It has a 1.5 million tonnes per annum (MTPA) greenfield integrated steel plant that produces pig iron, billets, TMT bars, wire rods, and ductile iron pipes. The plant works in sync with the prescribed environmental standards while bringing international expertise and solutions from reputed manufacturers to offer world-class services and products.

Previous articleडालकर ‘चारा’ लालू बने बेचारा
Next articleBGH में Plasma Therapy से हो सकेगा कोरोना का इलाज, DC ने दिया निर्देश
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply