सदाचार और अनुशासन की प्रेरणा ले विदा हुए सिटी कॉलेज से स्नातक के विद्यार्थी

0
723

बोकारो ः बोकारो स्टील सिटी कॉलेज के हिंदी विभाग, सेमेस्टर – 2 के छात्र-छात्राओं की ओर से सत्र 2017-20 के स्नातक उत्तीर्ण विद्यार्थियों को समारोहपूर्वक विदाई दी गई। साथ ही,  सत्र 2020-23 नवागत का स्वागत समारोह समग्र रूप से आयोजित किया गया। विद्यार्थियों की ओर से रंगारंग कार्यक्रम भी पेश किए गए। इस बार हिंदी स्नातक बोकारो टॉपर सोनी कुमारी का भी सम्मान किया गया एवं सभी उतीर्ण विद्यार्थियों को भेंट देकर सम्मानित किया गया। मौके पर प्राचार्य डॉ. एसके शर्मा, हिंदी विभागाध्यक्ष डॉ. भगवान पाठक, हिंदी प्राध्यापक डॉ. आशीष सिंह, इतिहास प्राध्यापक डॉ. बी.एन. सिंह, दीपानंद मिश्रा आदि उपस्थित रहे।

राजवीर शर्मा व सुलेमान ने शिक्षकों का अभिनंदन पौधे भेंट देकर किया। कार्यक्रम का संचालन इन्दु व नेहा ने किया। छात्रा हेमा ने अपनी मधुर सुरों की तान से महफ़िल में जान ला दी। सफ़ीना, नेहा, रूही ने अपने नृत्य से कार्यक्रम में चार चांद लगा दिया। प्राचार्य ने सभी विद्यार्थियों का मार्गदर्शन करते हुए उन्हें जीवन में आगे बढ़ने का शुभाशीष दिया। उन्होंने विदा हो रहे छात्र-छात्राओं को शुभकामनाओं के साथ सदाचार और अऩुशासन के साथ जीवन में आगे बढ़ने को प्रेरित किया। शिक्षकों ने विद्यार्थियों को शुभकामनाएं देते हुए उन्हें भावुक मन से विदाई दी और नवागत का स्वागत भी किया। आयोजन की सफलता में हिंदी विकास मंच के संस्थापक व अध्यक्ष राजवीर शर्मा समेत इंदु, दिव्या कुमारी, पूजा, भारती, काजल, बीके झा, हेमा, आकाश बाबू, रानी, पुष्पा, डॉली, नेहा, सुभद्रा आदि की अहम भूमिका रही।

– Varnan Live Report.

Previous articleविजय दिवस… मां भारती और शहीदों की जय-जयकार से गूंजा इलाका, खूब लहराए तिरंगे
Next articleहेमंत-राज की पहली वर्षगांठ : बोकारो को मिली 132.12 करोड़ की योजनाओं की सौगात
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply