अनाज और खाद्य भंडारण में खास स्टील की जरूरत पूरी करेगा BSL, दूसरे देशों से आने वाले इस्पात का यहीं किया उत्पादन

0
503

बोकारो। सेल-बोकारो इस्पात संयंत्र के सीआरएम-3 की इकाई एचडीजीएल में पहली बार 450 जीएसएम की हाई कोटिंग थिकनेस के साथ 350 मेगा पास्कल से अधिक इल्ड स्ट्रेंथ वाले हाई स्ट्रेंथ गैल्वनाइज्ड क्वायल का उत्पादन किया गया है, जो आयात विकल्प के रूप में अनाज और खाद्य भंडारण के लिए साइलो विनिर्माण क्षेत्र में देश के इस्पात बाज़ार की आवश्यकताओं को पूरा करेगा तथा बोकारो स्टील द्वारा स्वदेशी तकनीक से तथा आईएस ग्रेड 277:2018 जीपी 350 एंड ईएन 10346: एस350जीडी + जेड350 जीएसएम के अनुसार विकसित यह उत्पाद आत्मनिर्भर भारत के मिशन को भी मजबूत करेगा। इस तरह के इस्पात की देश में काफी मांग है और फिलहाल इसे अधिकतर दूसरे देशों से आयात किया जाता है।  
आयात विकल्प के तौर पर बीएसएल में स्पेशल ग्रेड स्टील का उत्पादन जुलाई, 2021 में स्पेशलिटी स्टील के लिए प्रोडक्शन-लिंक्ड इंसेंटिव (पीएलआई) योजना शुरू करने के सरकार के फैसले की पृष्ठभूमि में एक अहम कदम है, जिसे निदेशक प्रभारी अमरेंदु प्रकाश के नेतृत्व में सीआरएम-3 व अन्य सहयोगी विभागों द्वारा किया जा रहा है।

पूरे सेल में पहली बार मिला यह गौरव

बोकारो स्टील प्लांट को सेल में पहली बार स्टील के इस ग्रेड को विकसित करने का गौरव भी प्राप्त है। अधिशासी निदेशक (संकार्य) अतनु भौमिक ने सीआरएम-3, आरएंडसी लैब तथा आरडीसीआईएस की टीम को बहुत ही कम समय में लागत-प्रभावी तरीके से 450 जीएसएम की हाई कोटिंग थिकनेस वाले हाई स्ट्रेंथ गैल्वनाइज्ड क्वायल पहली बार सफलता पूर्वक विकसित करने पर बधाई दी। इससे पहले  बोकारो स्टील प्लांट ने सेल की अनुसंधान इकाई आरडीसीआईएस के साथ मिलकर कई लैब और प्लांट ट्रायल के बाद जीपी 350 + 450 जीएसएम को विकसित किया। ट्रायल के सफल होने के उपरान्त  लगभग 300 टन क्वायल को रोलिंग किया गया है।

मुख्य महाप्रबंधक (सीआरएम-3) राजन प्रसाद, मुख्य महाप्रबंधक (क्वालिटी) पीएस कानन, मुख्य महाप्रबंधक (आरडीसीआईएस) एन. मंडल, महाप्रबंधक (सीआरएम-3) के के सिंह की टीम में शामिल उप महाप्रबंधक (आरसीएल) आर डोद्रे, सहायक महाप्रबंधक (सीआरएम-3) महेश सिंह, सहायक महाप्रबंधक (आरडीसीआईएस) संतोष कुमार, प्रबंधक (सीआरएम-3) परिचय भट्टाचार्जी, प्रबंधक (आरसीएल) निखिल प्रताप सिंह एवं अन्य का जीपी 350+ 450 जीएसएम के सफल विकास में अहम योगदान रहा।

उल्लेखनीय है कि सीआरएम-3 की एचडीजीएल लाइन निर्माण स्टील ग्रेड के साथ-साथ ब्रॉडगेज रेंज के साथ उच्च गुणवत्ता वाले स्टील ग्रेड का उत्पादन करने में भी सक्षम है और देश की जरूरतों के अनुरूप आने वाले समय में आयात विकल्प के तौर पर स्पेशियलिटी स्टील के नए ग्रेड विकसित करने को कटिबद्ध है।

– Varnan Live Report.

Previous articleजारी रहेगा BGH में ISO 9001:2015 का प्रमाणन, ऑडिटर्स ने की अनुशंसा
Next articleमेजर ध्यानचंद को मिले “भारतरत्न”, खेल दिवस पर उठी मांग
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply