जरूरत पड़ने पर मानवसेवा में तत्पर रहेंगे ग्रामीण चिकित्सक, CS को दिलाया भरोसा

0
453

बोकारो। ग्रामीण चिकित्सकों का एके प्रतिनिधिमंडल गुरुवार को जिले के सिविल सर्जन डॉ. जितेन्द्र कुमार सिंह से मिला।  सर्वप्रथम गुलदस्ता भेंटकर उनका स्वागत किया। सदर अस्पताल के उपाध्यक्ष डॉ. संजय कुमार  से भी भेंट-मुलाकात की। डॉ. संजय ने सदर अस्पताल की सुविधाओं व व्यवस्था के बारे में ग्रामीण चिकित्सकों को बताया।

इस दौरान झारखंड ग्रामीण चिकित्सक कल्याण संस्थान बोकारो के सभी सदस्यों ने सिविल सर्जन को आश्वस्त करते हुए कहा कि वे सभी उनके साथ हैं। अब जब कोरोना महामारी की तीसरी लहर की आशंका है, ऐसे में जरूरत पड़ने पर वे मानवसेवा में तत्पर रहेंगे। सिविल सर्जन आवश्यकता पड़ने पर ग्रामीण चिकित्सकों से सेवा ले सकते हैं। सीएस ने उनके प्रयासों को सराहा।

मौके पर संस्थान के अध्यक्ष डॉ. गंगाधर प्रमाणिक, सचिव डॉ. विनोद कुमार, डॉ. आनन्द महतो, कोषाध्यक्ष डॉ. गौतम गिरि सहित डॉ. मदन कुमार गुप्ता, डॉ. रविन्द्र कुमार महतो, डॉ. सुनील कुमार राय, डॉ. संजय कुमार, डॉ. मधुसूदन कुमार, डॉ. मदन प्रसाद, डॉ. संजय कुमार सिंह , सतेन्द्र कुमार, डॉ. अनिल कुमार, डॉ. योगेंद्र दुबे आदि मौजूद रहे।

– Varnan Live Report.

Previous article19 को बोकारो में 79 सेंटर पर होगी JPSC की परीक्षा, कोई भी गैजेट ले जाने की सख्त मनाही, जानें और शर्तें
Next articleरामगढ़ के रांची रोड बाजार में चला रेलवे का बुलडोजर, जमींदोज हुईं दशकों पुरानी सब्जी मंडी व सैकड़ों दुकानें
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply