इस्पात उत्पादन में Industry-4 का होगा समावेश, BSL का IIT हैदराबाद से MoU

0
329

बोकारो ः इस्पात उत्पादन प्रक्रियाओं में नवीनतम तकनीक, विशेषकर इंडस्ट्री-4 प्रौद्योगिकियों के उपयोग हेतु बोकारो स्टील प्लांट ने आईआईआईटी हैदराबाद के साथ भी अलग से वर्चुअल मोड में एक एमओयू पर हस्ताक्षर किया है। बीएसएल की ओर से अधिशासी निदेशक (संकार्य) अतनु भौमिक ने एमओयू पर हस्ताक्षर किया। इस मौके पर बीएसएल के मुख्य महाप्रबंधक (अनुरक्षण एवं डिजिटल चैम्पियन) एस मुखोपाध्याय मुख्य महाप्रबंधक (सीएंडए एंड कम्युनिकेशन) बिपिन कृष्ण सरतपे तथा वर्चुअल मोड में आईआईआईटी हैदराबाद के प्रो. पी जे नारायणन (निदेशक, आईआईआईटी, हैदराबाद), प्रो. रमेश लोगनाथन (चेयरमैन आउटरीच कमेटी, आईआईआईटी हैदराबाद) मौजूद थे।

इस एमओयू के अंतर्गत बीएसएल तथा आईआईआईटी हैदराबाद इस्पात उत्पादन में इंडस्ट्री-4 प्रौद्योगिकियों द्वारा तकनीक और उत्पाद के क्षेत्र में नवोन्मेष लाने के लिए संयुक्त रूप से काम करेंगे। श्री भौमिक एवं श्री मुखोपाध्याय ने विश्वास जताया कि बीएसएल एवं आईआईआईटी हैदराबाद का संयुक्त प्रयास संयंत्र के डिजिटल ट्रांसफॉरमेशन यात्रा और इंडस्ट्री-4 की ओर बढ़ते कदम में सहयोगी होगा और बोकारो स्टील प्लांट को गुणवत्ता, उत्पादन और उत्पादकता से जुड़ी भविष्य की चुनौतियों में मददगार साबित होगा। प्रो लोगनाथन ने भी इंडस्ट्री-4 के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के महत्व पर बल देते हुए आईआईआईटी हैदराबाद द्वारा उत्पादकता में सुधार के लिए आर्टिफिशियल इंटेलिजेंस के क्षेत्र में अनुसंधान पर कार्य करने पर प्रसन्नता जाहिर की।
उल्लेखनीय है कि बोकारो स्टील प्लांट ने इस्पात उत्पादन तथा इससे जुडी समस्याओं के तकनीकी निवारण के लिए एक दिन पूर्व ही आइआइटी रुड़की से भी एक एमओयू किया है।

– Varnan Live Report.

Previous articleबड़ों के आशीर्वाद से मिली संगठन को सींचने की स्फूर्ति : मयंक
Next articleESL Steel bags ‘Greentech Effective Safety Culture Award’ again
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply