आजादी के अमृत महोत्सव पर ONGC ने शुरू की चौथी हस्तशिल्प परियोजना

0
414

कारीगरों को समुचित बाजार दिलाने की दिशा में की गई पहल

कला-संस्कृति को विकसित कर ग्रामीण कारीगरों को प्रोत्साहन जरूरी : सुभाष

बोकारो ः भारत सरकार की महारत्न कम्पनी ओएनजीसी के सीएमडी सुभाष कुमार ने आजादी के अमृत महोत्सव के उपलक्ष्य में शुक्रवार को झारखंड की चौथी हस्तशिल्प परियोजना का उद्घाटन किया, ताकि ‘प्रशिक्षण और विकास के लिए लाख हस्तशिल्प इकाई’ की स्थापना की जा सके। यह परियोजना भारत की आजादी के 75 साल – आजादी का अमृत महोत्सव के पालन का एक हिस्सा है। इसके माध्यम से झारखंड के खूंटी और उसके आसपास के गांवों के कारीगरों, ज्यादातर महिलाओं को प्रशिक्षित और प्रोत्साहित करने की उम्मीद है। इस अवसर पर सीएमडी सुभाष कुमार ने कहा कि ओएनजीसी देश के ग्रामीण हिस्सों में इस तरह की पहल के माध्यम से कला और संस्कृति को विकसित करने और उनके लिए बाजार लाने का प्रयास कर रहा है। श्री कुमार ने कहा कि इन पहलों से हमारी समृद्ध कला और सांस्कृतिक विरासत को संरक्षित किया जा सकेगा और ग्रामीण या आदिवासी क्षेत्रों के कारीगरों को आर्थिक स्थिरता भी मिलेगी। सीएमडी ने कहा कि परियोजनाओं से न केवल स्थायी महिला सशक्तिकरण होगा, बल्कि देश के समग्र विकास में भी मदद मिलेगी।

निदेशक (एचआर) डॉ अलका मित्तल ने कहा कि आदिवासी क्षेत्रों में हस्तशिल्प उद्योग से जुड़ने से संतुष्टि की भावना पैदा होती है और देश की अर्थव्यवस्था के लिए निर्यात के माध्यम से भी राजस्व उत्पन्न करने का एक सशक्त उपाय है। ओएनजीसी के निदेशक (तटवर्ती) अनुराग शर्मा ने दोहराया कि ओएनजीसी की इस तरह की पहल से कला और शिल्प का समग्र विकास होगा और व्यक्तिगत कारीगरों, गांवों और परिणामस्वरूप पूरे देश की जीवन शैली में भी। श्री शर्मा ने उल्लेख किया कि खूंटी में ओएनजीसी की चौथी हस्तशिल्प परियोजना का उद्देश्य छह प्रशिक्षित मास्टर प्रशिक्षकों और 25 प्रशिक्षु कारीगरों के साथ हस्तशिल्प इकाई स्थापित करना है, जिनमें ज्यादातर महिलाएं हैं।

ओएनजीसी सीबीएस एसेट, बोकारो के निगमित संचार प्रमुख राजीव प्रसाद ने उक्त जानकारी देते हुए बताया कि भारत की आजादी के 75 साल के अवसर पर – आजादी की अमृत महोत्सव, पेट्रोलियम और प्राकृतिक गैस मंत्रालय के तत्वावधान में सीपीएसई देश भर के विभिन्न जिलों में 75 परियोजनाएं शुरू करेंगे।

उल्लेखनीय है कि ओएनजीसी ने इसमें अग्रणी भूमिका निभाई है और 75 में से 15 परियोजनाओं को अपने हाथ में ले रही है और पहले चरण में पांच परियोजनाएं शुरू की जा चुकी हैं। ओएनजीसी ने स्थानीय कारीगरों को सशक्त बनाने के लिए देश भर में घटती और संघर्षरत हस्तशिल्प परियोजनाओं को पुनर्जीवित करने के लिए अब तक चार पहल शुरू की है।

– Varnan Live Report.

Previous articleDPS में 33 स्कूलों के 65 शिक्षकों को मिला ‘गुरु वशिष्ठ शिक्षक सम्मान’
Next articleIslam and multi-culturalism are antithesis
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply