… और ‘खुल’ गई ‘खिड़की’, डीआई ने किया शीला राय की पुस्तक का विमोचन

0
328

कहा- हम जैसे इस्पात बनानेवालों के दिलों को छूती हैं ‘खिड़की’ की कहानियां

बोकारो ः श्रीमती शीला राय शर्मा की पुस्तक “खिड़की” का विमोचन बोकारो इस्पात संयत्र के निदेशक प्रभारी अमरेन्दु प्रकाश ने रविवार को किया। 21 कहानियों का यह उनका पहला कहानी संग्रह दिल्ली के प्रभात प्रकाशन द्वारा प्रकाशित किया गया है। श्रीमती शीला राय शर्मा पिछले चार दशकों से भी अधिक समय से बोकारो में शिक्षा के क्षेत्र में कार्यरत हैं और नयी पीढ़ी के निर्माण में निरंतर जुटी हुई हैं। लगभग 80 वर्ष की उम्र में ऐसे संकलन का छपना बहुत ही विलक्षण उपलब्धि है। समारोह में श्रीमती रंजिता शरण सिंह, उप महाप्रबंधक, भारतीय स्टेट बैंक ने पुस्तक के कुछ अंश पढ़े और कुछ कहानियों की विवेचना की, जबकि बोकारो की बेहतरीन गायिका श्रीमती नम्रता वर्मा ने ग़ज़ल प्रस्तुति की। हिन्दी साहित्य जगत की बहुचर्चित लेखिका श्रीमती मैत्रेयी पुष्पा ने लेखिका को भाषा के महीन रेशों से बुनी जाने वाली कहानी के लिए साधुवाद दिया। दूरदर्शन और आकाशवाणी के महानिदेशक रहे प्रसिद्ध कवि और लेखक लीलाधर मंडलोई ने पुस्तक को कहानीकार की अपनी संवेदना, कथ्य और कहन का संसार कहा। यह भी कि पुस्तक निजता का ऐसा हस्ताक्षर है, जो मौलिक है। रक्षा मंत्रालय के अवकाशप्राप्त निदेशक एवं चर्चित कवि उपेंद्र कुमार ने पुस्तक की भूमिका में लिखा है कि लेखिका के कहन में ऐसी किस्सागोई है, ऐसी मानवीय संवेदना है कि कहानी आगे बढ़ती जाती है। समारोह में पेन्टेकोस्टल असेंबली स्कूल की मुख्य शिक्षा अधिकारी श्रीमती रीता प्रसाद, निदेशक डी एन प्रसाद, प्रधानाध्यापिका श्रीमती करुणा प्रसाद, भारतीय स्टेट बैंक, बोकारो के क्षेत्रीय प्रबंधक सपन कुमार, धनबाद के क्षेत्रीय प्रबंधक नवीन कुमार, बोकारो इस्पात संयत्र के सीजीएम आलोक वर्मा, कृशन चंद के अलावा श्रीमती शीला के अनेक सहकर्मी, विद्यार्थी एवं परिवार के सदस्यगण उपस्थित थे। समारोह में कोविड मानकों का अनुपालन करते हुए सौ से कम लोग एकत्रित हुए।समारोह को संबोधित करते हुए बीएसएल के निदेशक प्रभारी अमरेन्दु प्रकाश ने कहा कि यह सभी बोकारोवासियों के लिए बहुत ही हर्ष और गर्व का विषय है। कहानियां इतनी बेहतरीन हैं कि हम इस्पात बनाने वालों के भी मन को छूती हैं। कार्यक्रम को श्रीमती रीता प्रसाद व श्रीमती रंजिता शरण सिंह ने भी संबोधित किया।

अमेजन पर पहले ही दिन तीसरे स्थान पर

इस अवसर बताया गया कि पुस्तक अमेजन, फ्लिपकार्ट और प्रभात पब्लिकेशन की साइट पर उपलब्ध है। अमेजन पर पहले ही दिन यह पुस्तक नयी रिलीज्ड पुस्तकों में तीसरे स्थान पर आ गई। शीघ्र ही यह पुस्तक बोकारो के मुख्य पुस्तक विक्रेताओं स्टूडेंट फ्रेंड, बुक फाइंड आदि के पास उपलब्ध होगी।

– Varnan Live Report.

Previous articleIslam and multi-culturalism are antithesis
Next articleIntellectual Prostitution (Intellectitution) is rampant among liberal and secular Hindus
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply