राज्य में बेहतर औद्योगिक माहौल बनाने को सरकार प्रतिबद्ध : हेमंत

0
231

मुख्यमंत्री ने बोकारो में किया डालमिया सीमेंट की दूसरी इकाई का शिलान्यास

बोकारो ः मुख्यमंत्री हेमंत सोरेन ने सोमवार को बोकारो के औद्योगिक क्षेत्र (बियाडा) में 567 करोड़ रुपये की लागत से बनने वाली डालमिया सीमेंट (भारत) की दूसरी इकाई का शिलान्यास किया। उल्लेखनीय है कि डालमिया सीमेंट (भारत) देश के प्रमुख सीमेंट उत्पादकों में से एक है, जिसकी पहली इकाई बोकारो में पहले से ही कार्यरत है, जबकि संयंत्र के विस्तारीकरण के तहत इसकी दूसरी इकाई का शिलान्यास मुख्यमंत्री ने किया है। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में ज्यादा से ज्यादा पूंजी निवेश हो, सरकार की यह विशेष प्राथमिकता है। इसके लिए एक बेहतर और उम्दा झारखंड औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति- 2021 बनाई गई है। उन्होंने औद्योगिक घरानों को राज्य में उद्योग लगाने के लिए आगे आने का आह्वान करते हुए उन्हें यह भरोसा दिया कि सरकार उन्हें पूरा सहयोग करेगी। डालमिया सीमेंट (भारत) की दूसरी इकाई का शिलान्यास करते हुए उन्होंने कहा कि यह एक शुरुआत है। आने वाले दिनों में यहां कई और बड़े उद्योग लगेंगे, जिससे बड़े पैमाने पर रोजगार के अवसर मिलेंगे।    

देश का अग्रणी सीमेंट उत्पादक बनाने में करेंगे सहयोग

श्री सोरेन ने कहा कि राज्य सरकार ने डालमिया सीमेंट संयंत्र के विस्तारीकरण के लिए कंपनी को 16 एकड़ भूमि उपलब्ध कराई है।सरकार राज्य में बेहतर औद्योगिक माहौल बनाने के लिए कार्यरत है। सकारात्मक सोच और मजबूत इच्छाशक्ति हो तो कोई भी काम असंभव नहीं है। इसी सोच के साथ सरकार ने औद्योगिक माहौल को बेहतर बनाने के लिए कार्य योजना तैयार की है। हम अपनी नीतियों और उद्देश्यों को व्यापार जगत के सामने रख रहे हैं। उद्योगपतियों ने हमारी नीति को सराहा और यहां उद्योग लगाने की इच्छा जता रहे हैं। इसी क्रम में डालमिया समूह ने सीमेंट फैक्ट्री के लिए कदम बढ़ाया और उद्योग विभाग के साथ एमओयू किया। सरकार ने अपना वादा निभाया और डालमिया समूह ने अपना वादा निभा रही है। इसका निश्चित तौर पर राज्य और राज्य वासियों को फायदा होगा। हम विश्वास दिलाते हैं कि राज्य में स्थापित डालमिया सीमेंट फैक्ट्री को देश के अग्रणी सीमेंट उत्पादक फैक्ट्रियों में शामिल करने में पूरा सहयोग करेंगे।

6.3 मिलियन टन होगी उत्पादन क्षमता

बोकारो में डालमिया सीमेंट ने 2.6 एमटीपीए की क्षमता जोड़ने के उद्देश्य से अपना निवेश बढ़ाते हुए अपनी ग्राइंडिंग इकाई की स्थापना की शुरुआत की है और दूसरी इकाई के बन जाने से कम्पनी की कुल उत्पादन क्षमता 6.3 एमटीपीए हो जायेगी।      


कोरोना काल में कार्य योजना को धरातल पर उतारा

मुख्यमंत्री ने अपने संबोधन में कहा कि हमारी सरकार के गठन के कुछ ही महीने हुए थे कि कोरोना महामारी ने पूरी दुनिया को अपने आगोश में ले लिया। लॉकडाउन लगा और लोग अपने घरों में कैद हो गए। व्यवस्था पूरी तरह अस्त-व्यस्त हो चुकी थी। इन सब के बीच हमारी सरकार जीवन और जीविका को लेकर लगातार चिंतन मंथन करती रही। वक्त के साथ झारखंड औद्योगिक एवं निवेश प्रोत्साहन नीति- 2021 कार्य योजना बनाई और उसे लांच किया, जिसका फायदा कोरोना काल में तो लोगों को हुआ और आज भी हो रहा है। हालांकि, खतरा अभी भी नहीं टाला है, फिर भी जीवन के सामान्य होने की दिशा में लगातार आगे बढ़ रहे हैं।


आर्थिक विकास को बढ़ावा देने में होंगे कामयाब ः डालमिया

झारखंड में निवेश के जरिए राष्ट्र निर्माण में संयंत्र की प्रतिबद्धता पर बोलते हुए डालमिया भारत लिमिटेड के प्रबंध निदेशक पुनीत डालमिया ने कहा कि पर्यावरण, उद्योग, बुनियादी ढांचे, कौशल निर्माण, शिक्षा और अन्य चीजों पर विशेष जोर के साथ झारखण्ड अब स्थिर विकास के नए दौर में प्रवेश कर रहा है। अपनी वाणिज्यिक महत्वाकांक्षाओं के साथ सामाजिक व स्थिरता की पहल के साथ हम इस महान राज्य के साथ अग्रसर हैं। बोकारो मे सीमेंट उत्पादन में वृद्धि की सुविधा के साथ हमें विश्वास है कि हमने चुनौतियों का सामना करते हुए न केवल राज्य के, बल्कि देश के आर्थिक विकास को बढ़ावा देने में कामयाब होंगे।
डालमिया सीमेंट (भारत) लिमिटेड के एमडी एवं सीईओ महेंद्र सिंघी ने कहा कि डालमिया भारत, बिना पर्यावरण को नुकसान पहुंचाए समुदायों के साथ साझेदारी करते हुए देश में सीमेंट उत्पादन की जरूरतों के साथ कदम मिलाते हुए उत्तरोत्तर समृद्धि के नए आयाम हासिल कर उपलब्धि के शिखर पर होगा। उन्होंने कहा कि झारखंड सरकार के सहयोग से हम समझौता ज्ञापन पर महज तीन महीनों के भीतर ही बोकारो सयंत्र में नई ग्राइंडिंग यूनिट का सफलता पूर्वक लॉन्च कर सके हैं। हम पर्यावरणीय व सामुदायक प्रयासों के जरिये संसाधनों की न्यूनतम बर्बादी के साथ सीमेंट उत्पादन की सतत प्रक्रिया के संचालन की ओर देख रहे हैं।


वायदे पूरा कर रही सरकार ः जगरनाथ

इस अवसर पर मंत्री जगरनाथ महतो ने कहा कि सरकार जो वादा करती है, उसे पूरा करती है। राज्य के समग्र विकास को लेकर सरकार प्रतिबद्ध है। कुछ दिनों पूर्व कंपनी के साथ सरकार ने एमओयू किया और आज कार्य धरातल पर दिख रहा है। इससे रोजगार के अवसर बढ़ेंगे, क्षेत्र का विकास होगा। इससे पूर्व राज्य सरकार की उद्योग सचिव श्रीमती पूजा सिंघल ने भी कार्यक्रम को संबोधित किया। कार्यक्रम में धन्यवाद ज्ञापन कंपनी के एमडी सह सीईओ महेंद्र सिंघी ने किया। मौके पर बोकारो के विधायक बिरंची नारायण, गोमिया विधायक डॉ लंबोदर महतो, बेरमो विधायक जयमंगल सिंह, मुख्यमंत्री के प्रधान सचिव राजीव अरुण एक्का, मुख्यमंत्री के सचिव विनय कुमार चौबे, उपायुक्त कुलदीप चौधरी, पुलिस अधीक्षक चंदन झा, उप विकास आयुक्त श्री जय किशोर प्रसाद आदि उपस्थित थे।  

– Varnan Live Report.

Previous articleइतिहास… जन रामायण अखंड काव्यार्चन का बनाया नया कीर्तिमान
Next articlemyClassroom ने लॉन्च किया “mySEAT 202” – आईआईटी, एम्स और भारत के शीर्ष 100 कॉलेजों में सीट की गारंटी का दिया मौका
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply