इतिहास… जन रामायण अखंड काव्यार्चन का बनाया नया कीर्तिमान

0
412

साहित्योदय कवि सम्मेलन को मिला गोल्डनबुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉर्ड

रांची। अंतरराष्ट्रीय साहित्य कला संस्कृति न्यास साहित्योदय द्वारा आयोजित जन रामायण अखण्ड काव्यार्चन गोल्डनबुक ऑफ वर्ल्ड रिकार्ड में दर्ज हो गया है। लगातार साढ़े 26 घण्टे तक विश्वभर के करीब ढाई सौ रचनाकारों ने रामायण पर अपनी मौलिक रचनाओं का ऑनलाइन पाठ कर विश्व रिकॉर्ड बनाया। गोल्डनबुक ऑफ वर्ल्ड रिकॉड के एशिया हेड डॉ मनीष विश्नोई ने सोमवार को इसकी घोषणा करते हुए साहित्योदय के संस्थापक अध्यक्ष पंकज प्रियम को वर्ल्ड रिकॉर्ड सर्टिफिकेट दिया।

उन्होने कहा कि यह विश्व का सबसे अनूठा आयोजन था, जो प्रभु श्री राम को पूर्णतया समर्पित था। इसके लिए उन्होंने पंकज प्रियम की नेतृत्व क्षमता की प्रशंसा करते हुए कहा कि साहित्योदय का भविष्य उज्ज्वल है। कवि पंकज प्रियम ने वर्ल्ड रिकॉर्ड साहित्योदय परिवार को समर्पित करते हुए कहा कि सभी के प्रयास से यह सम्मान हासिल हुआ है। इस मौके पर मुख्य संरक्षक डॉ बुद्धिनाथ मिश्र ने कहा कि साहित्योदय ने भारतीय संस्कृति और संस्कारों को संरक्षित करते हुए साहित्य को एक नई दिशा दी है। समापन समरोह में विशिष्ट अतिथि के तौर पर प्रख्यात हास्यकवि अरुण जैमिनी ने साहित्योदय के इस अनूठे आयोजन की प्रशंसा करते हुए कहा कि नई पीढ़ी को संस्कारों से जोड़ने की जरूरत है। प्रख्यात ओज कवि अमित शर्मा और गौरी मिश्रा ने साहित्योदय के इस प्रयास की सराहना करते हुए राम पर अपनी कविताएं पढी। इससे पूर्व रविवार की देर रात प्रख्यात भोजपुरी गायिका देवी, बॉलीवुड अभिनेत्री श्रुति भट्टाचार्य, वीना शर्मा सागर, डॉ शोभा त्रिपाठी सम्मेत कई दिग्गज कवि और कलाकारों ने हिस्सा लिया।
संस्थापक अध्यक्ष पंकज प्रियम ने बताया कि 5 दिसम्वर प्रातः 8 बजे से 6 दिसम्बर साढ़े दस बजे तक लगातार साढ़े 26 घण्टे तक अखण्ड काव्यार्चन चला, जिसमें विश्व के ढाई सौ से अधिक रचनाकार प्रभु श्री राम पर अपनी मौलिक कविताओं का ऑनलाइन पाठ किया।
कार्यक्रम का संचालन 26 सुप्रसिद्ध एंकरों द्वारा किया गया। अरुण जैमिनी, कवि बेबाक़ जौनपुरी, कवि अजय अंज़ाम, सुप्रसिद्ध हास्य कवि पद्मश्री सुरेन्द्र शर्मा, प्रख्यात साहित्यकारा आशा शैली, डॉ शोभा त्रिपाठी , सरला शर्मा, गौरी मिश्रा, , श्रुति भट्टाचार्य समेत कई राष्ट्रीय-अंतरराष्ट्रीय स्तर के साहित्यकार -कलाकार अपनी प्रस्तुति दी। कार्यक्रम का सीधा प्रसारण साहित्योदय चैनल के माध्यम से पूरे विश्व हुआ। भगवान श्रीराम पर मौलिक काव्यपाठ का पूरे विश्व में यह पहला और अनूठा आयोजन है।

साहित्योदय के संस्थापक सह अंतरराष्ट्रीय अध्यक्ष कवि पंकज प्रियम ने बताया कि इस आयोजन का एक महत्वपूर्ण उद्देश्य है कि जन -जन तक भगवान श्री राम के आदर्शों की स्थापना करना है और लोगों में उनके प्रति जनजागरूकता लाना है। इसी के निमित जन रामायण नामक एक अंतरराष्ट्रीय साझा महाग्रंथ का भी प्रकाशन किया जा रहा है, जिसमें दुनिया के 111 रचनाकार रामायण के अलग -अलग प्रसंगों पर मौलिक सृजन कर रहे हैं। इस अनूठे महाग्रंथ का लोकार्पण अयोध्या में किया जाएगा। गौरतलब है कि साहित्योदय पिछले 3 वर्षों से साहित्य, कला, संस्कृति और समाज के लिए लगातार कार्य कर रहा है। सिर्फ कोरोनाकाल के इन डेढ़ वर्षों में दो हजार से अधिक लोगों की प्रस्तुति हो चुकी है। साहित्योदय के सौ से अधिक देशों के लाखों चहेते हैं। दो दर्जन से अधिक देश और सभी प्रांतों में शाखाएँ कार्यरत है। इस आयोजन को सफल बनाने में नंदिता माजी शर्मा, प्रिया शुक्ला, सुदेषणा सामन्त, जय प्रकाश वार्ष्णेय, गणेश दत्त, तृप्ति मिश्रा, डॉ रजनी शर्मा चन्दा, गोविंद गुप्ता, डॉ मधुकर राव ऋतुराज वर्षा, लरोकर, डॉ श्वेता सिन्हा, संजय करुणेश, खुशबू बरनवाल सिपी, सुरेंद्र उपाध्याय, मुकेश बिस्सा, योगिता त्यागी ख़लीफ़ा , झारखण्ड सेवा श्री फाउंडेशन सहित कई लोग आज सुबह से ही संपूर्ण निष्ठा से सफलतापूर्वक अखंड काव्यार्चन को सुचारू रूप है चलाने में जुटे रहे।

– Varnan Live Report.

Previous articleअनिल अग्रवाल को “बिरसा मुंडा झारखंड रत्न” पुरस्कार मिलने पर किया सम्मानित  
Next articleराज्य में बेहतर औद्योगिक माहौल बनाने को सरकार प्रतिबद्ध : हेमंत
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply