डीपीएस प्राचार्य एएस गंगवार को मिली राष्ट्रीय ख्याति, “मोस्ट इफेक्टिव प्रिंसिपल अवार्ड” से नवाजे गए

0
79

शिक्षा-क्षेत्र में मल्टीमीडिया टूल्स के नए समावेश और सामाजिकता के लिए मिला सम्मान

बोकारो : दिल्ली पब्लिक स्कूल, बोकारो की राष्ट्रीय ख्याति व उपलब्धियों में एक और नया आयाम जुड़ गया है। विद्यालय के प्राचार्य ए. एस. गंगवार को “मोस्ट इफेक्टिव प्रिंसिपल अवार्ड 2022” से सम्मानित किया गया है। इस प्रक्षेत्र (जोन) से यह पुरस्कार पानेवाले श्री गंगवार एकमात्र प्राचार्य हैं। इलेक्ट्रॉनिक्स और सूचना प्रौद्योगिकी मंत्रालय, भारत सरकार की ओर से नई दिल्ली में आयोजित सीएसआर इंपैक्ट समिट (शिखर सम्मेलन) 2022 के दौरान उन्हें यह पुरस्कार मिला। इसी मंत्रालय के तहत संचालित सीएससी (कॉमन सर्विस सेंटर) एसपीवी (स्पेशल परपस आफ व्हीकल) के प्रबंध निदेशक डॉ. दिनेश त्यागी ने श्री गंगवार को यह प्रतिष्ठित सम्मान प्रदान किया। डीपीएस बोकारो की ओर से शिक्षा के क्षेत्र में मल्टीमीडिया टूल्स के नवोन्मेषी उपयोग की पहल, सामुदायिक विकास और समाज के वंचित वर्ग में शिक्षा का अलख जगाने के लिए श्री गंगवार को यह पुरस्कार प्रदान किया गया है।

उक्त शिखर सम्मेलन सीएसआर (निगमित सामाजिक दायित्व) के तहत बेहतर काम से प्रभावशाली सामाजिक सशक्तीकरण के सहयोगकर्ताओं को एक मंच पर लाकर प्रोत्साहित करने के उद्देश्य से आयोजित किया गया था। आज सोमवार को ग्रीष्मावकाश के बाद आयोजित विद्यालय की फर्स्ट एसेंबली में बच्चों की उपस्थिति के बीच इसकी घोषणा की गई। एसेंबली के दौरान प्राचार्य ने इस सम्मान को पूरे विद्यालय परिवार की उपलब्धि बताते हुए इसके लिए सबका आभार जताया। उन्होंने कहा कि सभी के समेकित प्रयास से डीपीएस बोकारो को उत्कृष्टता के शिखर पर पहुंचाने का सफर यूं ही आगे भी जारी रहेगा।

– Varnan Live Report.

Previous articleझारखंड एथलेटिक प्रतियोगिता : DPS बोकारो के शिवांकुर ने जैवलिन थ्रो में जीता स्वर्ण, अब नेशनल खेलेंगे
Next articleडीपीएस बोकारो के न्यूजलेटर ‘क्रॉनिकल्स’ और गृह पत्रिका ‘जेनिथ’ का विमोचन
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply