बोकारो के संतोष बने मिशन मोदी अगेन के झारखंड प्रदेश मंत्री, कहा- 2024 में फिर कामयाब होगा मिशन

0
33

बोकारो। ‘मिशन मोदी’ की टीम फिर 2024 में नरेन्द्र मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए तैयार हो गई है। पिछले लोकसभा चुनाव में भी मिशन मोदी ने देश के कोने कोने में अपनी टीम गठित कर मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए बहुत मेहनत की थी और उसका नतीजा सामने है। अब फिर 2024 में मोदी को प्रधानमंत्री बनाने के लिए ‘मिशन मोदी’ की टीम ने कमर कस ली है। इस बार डेमोक्रेसी डेवलपमेंट ट्रस्ट के तहत राम गोपाल काका, राष्ट्रीय अध्यक्ष के कंधों पर यह जिम्मेदारी है। झारखंड में इस मिशन को सफलीभूत करने के लिए उन्होंने एक सभा में बोकारो के संतोष सिंह को ‘मिशन मोदी अगेन’ का झारखंड प्रदेश मंत्री बनाकर उन्हें इस राज्य की जिम्मेदारी दी है । गौरतलब है कि संतोष सिंह पहले भी बोकारो जिला अध्यक्ष के रूप में काफी सक्रियता के साथ अच्छा काम कर चुके हैं। मिशन मोदी को उन्होंने बोकारो में एक खास पहचान दिलाई है। प्रदेश मंत्री बनाए जाने पर संतोष ने अपने उच्चतर पदधारियों के प्रति आभार व्यक्त किया। उन्होंने कहा कि वर्ष 2024 में मिशन मोदी एक बार फिर कामयाब होगा और भारत विश्वपटल पर एक नए स्वरूप में, नए तेवर में नजर आएगा।

उन्होंने कहा कि अपनी नई जिम्मेदारी को वह पूरी निष्ठा के साथ निर्वहन करने में कोई कमी नहीं छोड़ेंगे। संतोष भाजपा किसान मोर्चा में प्रदेश कार्यसमिति के सदस्य भी हैं। प्रदेश मंत्री का नया दायित्व दिए जाने पर संतोष को ‘मिशन मोदी’ के प्रदेश के संरक्षक अरविंदर सिंह खुराना, प्रदेश महामंत्री घनश्याम पांडे एवं मीरा शर्मा के साथ अन्य कई लोगों ने बधाई एवं शुभकामनाएं दी हैं। संतोष सिंह ने कहा कि वह भाजपा के लिए समर्पित हैं और मिशन मोदी के द्वारा घर-घर में मोदी जी के कार्य और योजनाओं को पहुंचाने के लिए बूथ स्तर पर कार्यकर्ताओं को तैयार करेंगे। उन्होंने विश्वास जताया है कि इस बार भी जीत मोदी जी की ही होगी।

– Varnan Live Report.

Previous articleDPS चास में छात्र परिषद का चुनाव संपन्न, SDO ने कहा- स्कूल से ही मिलती है जिम्मेदारियों की सीख
Next articleजानलेवा बनी खतरे में पड़ी जमापूंजी
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply