डीपीएस बोकारो के द्विवार्षिक सदनोत्सव ‘संगम’ में दिखा कला और संस्कृति का अनुपम संगम

0
44

गीत-संगीत और नृत्य की मनभावन प्रस्तुतियों से बच्चों ने बिखेरी सतरंगी छटा

बोकारो : ‘बच्चे ही देश का भविष्य हैं। अच्छी शिक्षा के साथ-साथ उनमें छात्र-जीवन से ही सामाजिक, सांस्कृतिक और कलात्मक मूल्यों का विकास भी आवश्यक है। तभी उनका सर्वांगीण विकास संभव है।’ ये बातें बोकारो जनरल अस्पताल के मुख्य चिकित्सा पदाधिकारी डॉ. विभूति भूषण करुणामय ने कही। शनिवार देर शाम डीपीएस बोकारो में सतलज, झेलम और चेनाब हाउस द्वारा आयोजित द्विवार्षिक सदनोत्सव ‘संगम’ को वह बतौर मुख्य अतिथि संबोधित कर रहे थे। ‘विविधता में एकता’ थीम पर आधारित इस कार्यक्रम में बच्चों ने अपनी सांस्कृतिक प्रस्तुतियों के जरिए देश की कलात्मक व सांस्कृतिक विविधता का अनूठा संगम प्रस्तुत किया। मुख्य अतिथि ने बच्चों की प्रस्तुतियों और उनकी प्रतिभा निखारने की दिशा में डीपीएस बोकारो की ओर से किए जा रहे प्रयासों की सराहना की।

उन्होंने कहा कि यह विद्यालय शिक्षा के साथ-साथ बच्चों की अन्य प्रतिभाओं को निखारने के लिए भी प्रतिबद्ध रहा है। इसी कारणवश न सिर्फ राज्य, बल्कि देश के सर्वश्रेष्ठ विद्यालयों में इसका अपना खास स्थान है। इसके पूर्व, मुख्य अतिथि डॉ. करुणामय, विशिष्ट अतिथि डॉ. सेलिना टुडू एवं प्राचार्य एएस गंगवार ने संयुक्त रूप से दीप प्रज्वलित कर कार्यक्रम का उद्घाटन किया। चेनाब हाउस की वार्डन तनुश्री घोष व नीलांजना चटर्जी द्वारा स्वागत भाषण के बाद सीनियर विंग की छात्राओं ने स्वागत गीत एवं विद्यालय गीत की सुंदर प्रस्तुति की। प्राचार्य श्री गंगवार ने कार्यक्रम की विशेषता तथा विद्यालय की उपलब्धियों पर संक्षिप्त प्रकाश डाला। उन्होंने बच्चों के सर्वांगीण विकास में कला-संगीत की महत्ता पर प्रकाश डाला। साथ ही, बच्चों को सोशल मीडिया के संतुलित इस्तेमाल का संदेश भी दिया।


    सांस्कृतिक कार्यक्रम की शुरुआत सीनियर विंग के छात्रों ने आर्केस्ट्रा-प्रस्तुति से की। उन्होंने विभिन्न वाद्य-यंत्रों पर भारतीय शास्त्रीय संगीत एवं पाश्चात्य संगीत का अनूठा सम्मिश्रण (फ्यूजन) प्रस्तुत किया। इसके पश्चात झेलम हाउस के छोटे-छोटे विद्यार्थियों ने रामनवमी पर आधारित नृत्य-प्रस्तुति में भगवान श्रीराम के जन्म और उनकी बाल-लीलाओं का सुंदर चित्रण किया।

जूनियर विंग के बच्चों ने अपने गायन से छत्तीसगढ़ी संस्कृति की झलक दिखाई। वहीं, सीनियर विंग के विद्यार्थियों ने सूफी समूह-गान ‘नैन अपने पिया से लगा आई रे…’ की शानदार प्रस्तुति से सभी श्रोताओं को झूमने पर विवश कर दिया। इसके बाद जूनियर विंग के नन्हे विद्यार्थियों ने मासूमियत भरी अपनी भाव-भंगिमा के साथ श्री कृष्ण जन्माष्टमी पर आधारित मनमोहक नृत्य प्रस्तुत किया। अंत में सीनियर विंग की छात्राओं ने अरबियन डांस की सुंदर प्रस्तुति की। इस क्रम में सतलज हाउस के वार्डन रवि प्रकाश द्विवेदी एवं बिमला बिष्ट ने सतलज, झेलम और चेनाब सदन तथा विद्यालय परिवार की उपलब्धियों को रेखांकित किया। धन्यवाद ज्ञापन झेलम हाउस की वार्डन अर्चना रॉय शर्मा व प्रीति मिश्रा ने किया। समापन राष्ट्रगान से हुआ।

वार्षिक पत्रिका  ‘डिप्स रिफ्लेक्शन- 2022’  का विमोचन
सदनोत्सव के दौरान विद्यालय की वार्षिक पत्रिका ‘डिप्स रिफ्लेक्शन’ के 34वें अंक का विमोचन भी किया गया। मुख्य अतिथि डॉ. करुणामय, प्राचार्य श्री गंगवार सहित उपप्राचार्य एवं छात्र संपादकीय मंडली के बच्चों ने इसका संयुक्त रूप से विमोचन किया। सत्र 2021-2022 की इस पत्रिका के ई-वर्जन का भी अनावरण किया गया। 167 पृष्ठों वाली इस पत्रिका में विद्यालय की वार्षिक गतिविधियों एवं उपलब्धियों के साथ-साथ छात्र-छात्राओं की रचनात्मकता को आकर्षक चित्रों व पृष्ठ-सज्जा के साथ समाहित किया गया है। मुख्य अतिथि ने इसके लिए पत्रिका की संपादक मंडली के समस्त सदस्यों को बधाई दी। कार्यक्रम में बड़ी संख्या में विद्यार्थी और उनके अभिभावक मौजूद रहे।

– Varnan Live Report.

Previous articleगोल्ड मेडलिस्ट शूटर ओशो बने पुलिस मेंस एसोसिएशन में अध्यक्ष के दावेदार, चुनाव 4 को
Next articleचिन्मय क्रीड़ोत्सव में छात्र-छात्राओं ने दिखाए दमखम, 468 अंकों के साथ वायु सदन रहा विजयी
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply