चिन्मय क्रीड़ोत्सव में छात्र-छात्राओं ने दिखाए दमखम, 468 अंकों के साथ वायु सदन रहा विजयी

0
27

संकल्प से सिद्धि का मार्ग प्रशस्त करता है खेल ः मुखोपाध्याय

संवाददाता

बोकारो ः चिन्मय विद्यालय, बोकारो कें क्रीडागंन में वार्षिक खेलकूद समारोह क्रीड़ोत्सव का आयोजन उत्साहपूर्ण वातावरण में किया गया। इसमें विद्यालय के सभी सदनों के खिलाड़ियों ने बढ़-चढ़कर भाग लिया। प्रतिभागी बच्चों का उत्साह बढ़ाने के लिए अभिभावकों की भारी भीड़ जमा थी। वैदिक स्वस्तिवाचन मंत्र के साथ कार्यक्रम की शुरुआत हुई। इस कार्यक्रम के मुख्य अतिथि विद्यालय प्रबंध समिति के अध्यक्ष विश्वरूप मुखोपाध्याय तथा विशिष्ट अतिथियों में चिन्मय चिन्मय मिशन, बोकारो की आचार्य स्वामिनी संयुक्तानंद  सरस्वती, विद्यालय सचिव महेश त्रिपाठी, कोषाध्यक्ष आरएन मल्लिक तथा एसपी चंदन झा की सहधर्मिणी दीप्ति झा रहीं। सभी अतिथियों सहित उपस्थित जन समूह का स्वागत करते हुए विद्यालय प्राचार्य सूरज शर्मा ने कहा कि खेल जीवन ही जीवन का दर्शन है। यह हमें लक्ष्य निर्धारित कर उसे पाने के लिए एकाग्रचित हो हमेशा अभिप्रेरित करता रहता है। 

मुख्य अतिथि विश्वरूप मुखोपाध्याय ने कहा कि खेल संकल्प से सिद्धि तक पहुंचने का मार्ग बताता है। उन्होंने आगे कहा कि चिन्मय विद्यालय का मुख्य उद्देश्य बच्चों का समग्र विकास है। यह कार्यक्रम सात स्तंभों वाले चिन्मय दृष्टि पर आधारित है, परंतु खेल एक ऐसा खूबसूरत प्लेटफार्म है जिसमें ये सभी सात आयाम समाहित हैं। विद्यालय के कई छात्र खेल में राष्ट्रीय स्तर तक यश अर्जित कर चुके हैं। आने वाले वर्षो में विद्यालय खेल पर और अधिक ध्यान केंद्रित करेगा। अपने संबोधन के बाद उन्होंने विद्यालय गान की धुन के बीच खेल दिवस का झंडा फहराया तथा कार्यक्रम के शुरुआत की घोषणा की। पूरा कार्यक्रम उद्घाटन से लेकर समापन तक खेल-कूद एवं नृत्य-संगीत से भरा रहा। प्रथम सत्र में कक्षा प्री-नर्सरी से छठी तक के छात्र-छात्राओं के लिए 32 स्पर्द्धाओं का आयोजन किया गया, जिनमें म्यूजिकल चेयर, हर्डल रेस, ओवरहेड रेस और विभिन्न दूरियों की दौड़ प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। कुल 468 अंकों के साथ वायु सदन ओवरआल चैंपियन बना। द्वितीय सत्र में कक्षा सातवीं से बारहवीं तक के छात्र-छात्राओं के लिए 100 मीटर, 200 मीटर, 400 मीटर, 4 गुणा 100 मीटर, 800 मीटर आदि विभिन्न प्रतियोगिताओं का आयोजन किया गया। प्रतियोगिता के अंत में अभिभावकों एवं शिक्षकों के लिए 100 एवं 200 मीटर दौड़ का आयोजन किया गया जीतने वाले सभी प्रतिभागियों को पदक प्रदान कर सम्मानित किया गया। क्रीड़ा उत्सव का संचालन क्रीडा विभाग के विभागाध्यक्ष हरिहर पांडे ने किया। सफल आयोजन में संजीव सिंह, प्रांजाल साकिया, देवदीप चक्रवर्ती, रणविजय ओझा, परवीन, नीतीश कुमार, ललिता उरांव आदि की अहम भूमिका रही।

– Varnan Live Report.

Previous articleडीपीएस बोकारो के द्विवार्षिक सदनोत्सव ‘संगम’ में दिखा कला और संस्कृति का अनुपम संगम
Next articleDPS Bokaro के प्राचार्य गंगवार ने फिर बढ़ाया झारखंड का मान, अब बैंकॉक में मिला अंतरराष्ट्रीय सम्मान
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply