गढ़वा में आदमखोर तेंदुए ने फिर एक बच्चे को अपना शिकार बनाया, अब तक 4 मासूमों और कई मवेशियों को लीला

0
38

आदमखोर का आतंक जारी और वन विभाग एक माह से पड़ा है शिथिल, सरकार जल्द जारी करेगी निर्देश

देवेंद्र शर्मा
रांची/गढ़वा। आज आदमखोर तेंदुए ने एक और बच्चे की जान ले ली। साथ ही, साथ दो मवेशियों को भी मार डाला। इस घटना से गढ़वा जिले के लोगों में भारी दहशत और वन विभाग की शिथिलता के खिलाफ आक्रोश भी। प्राप्त जानकारी के बुधवार देर शाम रमकंडा निवासी बारह वर्ष के हरेन्द्र घाटी को अपना शिकार बनाया। बच्चे को मारने के बाद तेंदुए ने कुसवार निवासी मनसूर मंसुरी के गौशाला पर घावा बोलकर एक मवेशी को मार डाला। फिर एक बैल को भी अपना शिकार बना डाला।आदमखोर तेंदुए के लगातार हमले के बाद क्षेत्र के लोग गुस्से मे नजर आ रहे हैं।
जानकारी के अनुसार बली घांसी का बारह वर्ष का पुत्र  हरेन्द्र घाटी बुधवार की शाम अपने दोस्तो के साथ खेलकर घर आ रहा था। इसी बीच तेंदुए ने हरेन्द्र पर हमला करते हुए उसकी गर्दन दबोच लिया और उसे जंगल की ओर ले जाने लगा। तेंदुए को देखते ही शेष दोनों और बच्चों ने हल्ला करना शुरू कर दिया। बच्चे की चिल्लाहट पर आसपास के लोग दौड पड़े। तेंदुए ने तब हरेन्द्र को छोड़कर भाग गया। हरेन्द्र तब तक मर चुका था। लोग वन विभाग और सरकार से नाराज नजर आ रहे हैं। बता दें कि अब तक आदमखोर तेंदुआ चार बच्चों को मार चुका है। लोगों का आरोप है कि वन विभाग मात्र तेंदुए को पकड़े का नाटक कर रहा है। झारखंड सरकार के वन विभाग में शीर्ष अधिकारी की बैठक प्रारम्भ है। सरकार के मुखिया को सूचना प्राप्त हो चुकी है।सरकार जल्द ही वन विभाग को खास हिदायत देने वाली है

– Varnan Live Report.

Previous articleइधर फिर डराने लगी कोरोना महामारी और अब भी खाट पर झूल रही झारखंड की स्वास्थ्य-सेवा
Next articleलोहरदगा में सुरक्षाबल के साथ मुठभेड़, 5 लाख के ईनामी दो नक्सलियों को लगी गोली, पकड़े गए
मिथिला वर्णन (Mithila Varnan) : स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता'! DAVP मान्यता-प्राप्त झारखंड-बिहार का अतिलोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक अब न्यूज-पोर्टल के अवतार में भी नियमित अपडेट रहने के लिये जुड़े रहें हमारे साथ- facebook.com/mithilavarnan twitter.com/mithila_varnan ---------------------------------------------------- 'स्वच्छ पत्रकारिता, स्वस्थ पत्रकारिता', यही है हमारा लक्ष्य। इसी उद्देश्य को लेकर वर्ष 1985 में मिथिलांचल के गर्भ-गृह जगतजननी माँ जानकी की जन्मभूमि सीतामढ़ी की कोख से निकला था आपका यह लोकप्रिय हिन्दी साप्ताहिक 'मिथिला वर्णन'। उन दिनों अखण्ड बिहार में इस अख़बार ने साप्ताहिक के रूप में अपनी एक अलग पहचान बनायी। कालान्तर में बिहार का विभाजन हुआ। रत्नगर्भा धरती झारखण्ड को अलग पहचान मिली। पर 'मिथिला वर्णन' न सिर्फ मिथिला और बिहार का, बल्कि झारखण्ड का भी प्रतिनिधित्व करता रहा। समय बदला, परिस्थितियां बदलीं। अन्तर सिर्फ यह हुआ कि हमारा मुख्यालय बदल गया। लेकिन एशिया महादेश में सबसे बड़े इस्पात कारखाने को अपनी गोद में समेटे झारखण्ड की धरती बोकारो इस्पात नगर से प्रकाशित यह साप्ताहिक शहर और गाँव के लोगों की आवाज बनकर आज भी 'स्वच्छ और स्वस्थ पत्रकारिता' के क्षेत्र में निरन्तर गतिशील है। संचार क्रांति के इस युग में आज यह अख़बार 'फेसबुक', 'ट्वीटर' और उसके बाद 'वेबसाइट' पर भी उपलब्ध है। हमें उम्मीद है कि अपने सुधी पाठकों और शुभेच्छुओं के सहयोग से यह अखबार आगे और भी प्रगतिशील होता रहेगा। एकबार हम अपने सहयोगियों के प्रति पुनः आभार प्रकट करते हैं, जिन्होंने हमें इस मुकाम तक पहुँचाने में अपना विशेष योगदान दिया है।

Leave a Reply